Monday, 17 January, 2022
होमदेशविज्ञान-टेक्नॉलॉजी

विज्ञान-टेक्नॉलॉजी

लैंडर विक्रम के साथ संचार स्थापित करने के लिए हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं : इसरो

विक्रम लैंडर 2 सितंबर को चंद्रयान -2 ऑर्बिटर से सफलतापूर्वक अलग हो गया था. लगभग 23 दिनों तक पृथ्वी की कक्षा में घूमने के बाद, क्राफ्ट ने 14 अगस्त को चंद्रमा की यात्रा शुरू की थी.

चंद्रयान-2 की प्रोजेक्ट डायरेक्टर एम. वनिता, खाना, इत्र और साड़ियों की हैं शौकीन

वनिता को सम्मानित करने के लिए उनके सहयोगी एक कार्यक्रम करने वाले हैं. वनिता भारत के अंतरग्रही मिशन की पहली महिला परियोजना निदेशक हैं.

चंद्रयान-2 चांद पर पहुंचने को तैयार, ऐतिहासिक क्षण को देखने के लिए इसरो में मौजूद रहेंगे मोदी

इसरो चीफ के सीवान ने कहा हम चांद के उस हिस्से पर कदम रखने जा रहे हैं जहां आजतक कोई नहीं पहुंच पाया है. हम इसकी सफल लैंडिंग के लिए आश्वस्त हैं.

विक्रम लैंडर चांद पर उतर रहा है, याद करते हैं अपोलो-11 को जिसे विक्रम साराभाई ने ऐतिहासिक बताया था

विक्रम साराभाई अपोलो परियोजना के विशाल पैमाने और उसकी भव्यता मात्र से ही प्रभावित नहीं थे.

इंटरनेट कटने के बावजूद पाकिस्तान कैसे कर रहा है जम्मू कश्मीर में फर्ज़ी वीडियो का प्रसार

भारत सरकार ने घाटी में टेलीफोन और इंटरनेट नेटवर्क को पूरी तरह से बंद कर रखा है, लेकिन लोगों को पास इस बंदी में संचार करने के कई तरीके हैं.

चंद्रयान-2: चांद पर एक बार फिर पहुंचने के लिए तैयार इसरो, 15 जुलाई की रात होगा रवाना

इसरो ने अपनी वेबसाइट पर चंद्रयान की तस्वीरें जारी की हैं. लगभग एक हजार करोड़ रुपये की लागत वाले इस मिशन को जीएसएलवी एमके-3 रॉकेट से लॉन्च किया जाएगा.

भारतीय वैज्ञानिकों ने बनाया मैग्लेव ट्रेन का मॉडल, हवा में चलती है 800 किमी प्रति घंटे है रफ्तार

हमारे भारत जैसे देश में जहां प्रदूषण और पॉपुलेशन दोनों बड़ी समस्या है ऐसे में मैग्लेव ट्रेन एक बड़ी उपलब्धि साबित हो सकती है

वैदिक प्लास्टिक सर्जरी से टेस्ट-ट्यूब कर्ण तक – पीएम ने भी किए ऐसे अवैज्ञानिक दावे

अविश्वसनीय वैज्ञानिक दावे सिर्फ भारतीय विज्ञान कांग्रेस में ही नहीं किए जाते, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत कई प्रमुख लोगों ने ऐसा किया है.

डीएनए प्रौद्योगिकी विधेयक : अब अज्ञात की पहचान होगी आसान

विधेयक पीड़ितों, अपराधियों, संदिग्धों, लंबित आरोपियों, लापता व अज्ञात मृतकों की पहचान के लिए डीएनए प्रौद्योगिकी के उपयोग और आवेदन का कानून मुहैया कराता है.

भारत ने इस साल अंतरिक्ष क्षेत्र में छुए नए आयाम, गगनयान को मंजूरी

अंतरिक्ष क्षेत्र में साल 2018 में भारत का बोलबाला रहा. सालभर हुए कुछ प्रमुख अंतरिक्ष कार्यक्रमों पर गौर करें तो भारत ने इस साल कई उपलब्धियां हासिल कीं.

मत-विमत

वीडियो

राजनीति

देश

शी जिनपिंग बोले- Covid से एकजुट कोशिशों से ही निपटा जा सकता है, दुनियाभर में एक समान वैक्सीनेशन हो

उन्होंने साथ ही यह भी कहा कि एक दूसरे को पछाड़ने की सोच या आरोप-प्रत्यारोप से प्रयासों में देरी ही होगी और हम मुख्य उद्देश्य से भटक जाएंगे.

लास्ट लाफ

कर्नाटक कांग्रेस की ‘पदयात्रा’ जारी रखने की असली वजह और भारतीय मीडिया से खुश हुआ पाकिस्तान

दिप्रिंट के संपादकों द्वारा चुने गए दिन के सबसे अच्छे कार्टून्स.