Monday, 28 November, 2022

अनुप्रिया चटर्जी

Avatar
36 पोस्ट0 टिप्पणी

मत-विमत

उत्तर भारत में पेरियार मेला पर भारी पड़ा रामायण मेला, ललई सिंह यादव इसलिए नहीं बन पाए नायक

पेरियार की विचार यात्रा को जिन बड़े अध्यायों में बांटा जा सकता है, वे हैं – संविधान के दायरे में राज्यों की स्वायत्तता, केंद्र की सत्ता में उस समय मौजूद कांग्रेस का विरोध, हिंदी भाषा को जबरन थोपे जाने का विरोध, जाति मुक्ति के सवाल और ब्राह्मणवाद का विरोध, सामाजिक न्याय और आरक्षण तथा महिला अधिकार.

वीडियो

राजनीति

देश

बंदरगाह विरोधी प्रदर्शनकारियों ने विझिंजम थाने पर हमला किया, 29 पुलिसकर्मी घायल

तिरुवनंतपुरम, 27 नवंबर (भाषा) केरल में अडाणी बंदरगाह के निर्माण के विरोध में लातिन कैथोलिक चर्च की अगुवाई में प्रदर्शनकारियों ने रविवार को विझिंजम...

लास्ट लाफ

वो पायलट जो हमेशा मिराज उड़ाता है और क्यों मोदी ही बता सकते हैं शिंदे का भविष्य

दिप्रिंट के संपादकों द्वारा चुने गए पूरे दिन के सबसे अच्छे कार्टून.