Friday, 22 January, 2021
होम समाज-संस्कृति

समाज-संस्कृति

फैशन डिजाइनर सत्य पॉल का निधन, सदगुरू के ईशा योग केंद्र में ली आखिरी सांस

सत्य पॉल ईशा फाउंडेशन में 2015 से रह रहे थे. दो दिसंबर को ब्रेन स्ट्रोक हुआ था और अस्पताल में उनके स्वास्थ्य में धीरे-धीरे सुधार हो रहा था.

पत्रकार जमाल खाशोगी पर बनी डॉक्यूमेंट्री के निर्देशक को अहसास था कि इसके प्रदर्शन में आएंगी मुश्किलें

‘द डिसिडेंट’ में खाशोगी की हत्या से संबंधित ऑडियो रिकॉर्डिंग, खशोगी की मंगेतर हैटिस सेनगीज की भागीदारी और अमेजन के संस्थापक जेफ बेजोस के सेलफोन को हैक करने समेत सऊदी अरब की भूमिका का भी जिक्र किया गया है.

2020 में लोक नाट्य कलाकारों का दर्द, बोले- बिना पैसे के जिंदगी बन गई है तमाशा

तमाशा मराठी की एक अद्भुत लोक नाट्य विधा है जिसे कोरोना के समय भी जिंदा रहना चाहिए. लेकिन, जमीनी कलाकारों को मौजूदा संकट से बाहर निकालने के लिए कहीं कोई कुछ खास कोशिश नहीं हो रही है.

‘हर चीज इडियट-प्रूफ बनानी पड़ती है’—गुलजार ने कहा अब कला पर भय का माहौल हावी है

दिप्रिंट के ऑफ द कफ में, गुलज़ार ने अपनी नई किताब ' अ पोएम अ डे ' के बारे में बात की, जो भारत की 34 भाषाओं में 279 कवियों द्वारा 365 कविताओं का एक संकलन है.

शम्सुर्रहमान फारूकी- उर्दू की सबसे रौशन मीनार

शम्सुर्रहमान फारूकी की शख्सियत, उनके काम, लेखनी और साहित्यिक दुनिया में उनके मकां को समझने के लिए दिप्रिंट ने मशहूर दास्तांगो हिमांशु बाजपेयी से बात की.

उर्दू साहित्य के सम्मानित कथाकार और आलोचक शम्सुर्रहमान फारूकी का निधन

1960 के दशक में उन्होंने लिखना शुरू किया था. उनकी चर्चित रचनाओं में कई चांद थे सर-ए-आसमां, मीर तकी मीर, गालिब अफसाने की हिमायत में, द सेक्रेट मिरर शामिल है.

भारतीय बैंकिंग और वित्तीय क्षेत्र से जुड़े संकट के पीछे की अनकही कहानी – पांडेमोनियम

भारतीय बैंकिंग की मौजूदा संरचना और उससे जुड़े हुए अन्य मुद्दे , बैंकिंग से समबन्धित विकास को अवरुद्ध करता रहा है. खराब ऋण बैलेंस शीट के साथ NPA भारतीय बैंकों की संभावनाओं को नीचे खींच रही हैं. पुस्तक में भारतीय अर्थव्यवस्था की सच्ची तस्वीर को चित्रित की गई है.

‘मंगलेश को मंगलेश ही रहने दो देवत्व न दो’

पिछले पांच-सात बरस से मंगलेश प्रायः ‘अवसाद’ की कविताएं लिखने लगा था फिर उसकी कविता में क्रोध के चिन्ह भी नज़र आने लगे जो उसकी कविता के मिजाज के विपरीत थे.

कथक और कथकली को मिला कर अनूठी नृत्य शैली पेश करने वाले मशहूर डांसर अस्ताद देबू का निधन

नृत्य के क्षेत्र में योगदान के लिए उन्हें 1995 में ‘संगीत नाटक अकादमी’ पुरस्कार दिया गया था. वह 2007 में ‘पद्मश्री’ से भी सम्मानित किए गए.

मानवाधिकार दिवस: उमेश, फरहीन और उषा के प्रयास मजबूर करते हैं उनकी अनकही दास्तां सुनने को

इस मानवाधिकार दिवस पर आभार और गर्व के साथ उमेश गुप्ता, फरहीन और उषा दुबे जैसों के प्रयासों को पहचाना जाना ज़रूरी है.

मत-विमत

यह वो बड़ा खुलासा है जो बताता है कि भारत और इजरायल 1947 से ही पाकिस्तान को...

विरोधियों पर भारत और इजरायल के सबसे अच्छे दोस्त होने का ठप्पा लगा देना पाक में एक पसंदीदा शगल है. सार्वजनिक रूप से उपलब्ध इन तस्वीरों का पाकिस्तानियों की दुनिया में कुछ और ही मतलब होता है.

राजनीति

देश

कोविड वैक्सीन कितनी प्रभावी? दिल्ली के टीकाकरण केंद्र खुराक के पहले और बाद एंटीबॉडी टेस्ट करेंगे

कई संस्थान और विशेषज्ञ इसे एक प्रभावकारिता परीक्षण के तौर पर देखने की वकालत करते हैं जो टीकों के प्रति भरोसा बढ़ाने में मददगार होगा, खासकर भारत बायोटेक की कोवैक्सीन के लिए जो ट्रायल के तीसरे चरण में है.

लास्ट लाफ

भारत की ‘साहसी’ टीम की ऐतिहासिक जीत और रजनीकांत की ‘आध्यात्मिक’ राजनीति

चयनित कार्टून पहले अन्य प्रकाशनों में प्रकाशित किए जा चुके हैं. जैसे- प्रिंट मीडिया, ऑनलाइन या फिर सोशल मीडिया पर.