Friday, 22 January, 2021
होम हेल्थ

हेल्थ

आपकी नजदीकी फार्मेसी में कोविड वैक्सीन उपलब्ध कराने की योजना अभी तक क्यों नहीं बना रही है सरकार

सीमित स्टॉक और ज्यादा जोखिम वाले लोगों के तत्काल टीकाकरण की जरूरत जैसे कई फैक्टर काफी मायने रखते हैं जिससे वह स्थिति आने में वक्त लगेगा जब कोई भी अपने नजदीकी स्टोर से टीके की खुराक ले सकेगा.

केंद्र भारत बायोटेक से लेगा कोवैक्सीन की 45 लाख अतिरिक्त खुराक, लिखा पत्र

इन 45 लाख खुराकों में से आठ लाख से अधिक खुराक मॉरीशस, फिलीपींस और म्यांमा जैसे मित्र देशों को सद्भावना के तौर पर नि:शुल्क दी जाएंगी.

भारत में 7 महीने बाद आए कोविड के एक दिन में सबसे कम 10,064 नए मामले

मंत्रालय द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक बीते 24 घंटे में 137 लोगों की मौत होने से मृतक संख्या बढ़कर 1,52,556 पर पहुंच गई. संक्रमण से एक दिन में मरने वालों की संख्या भी बीते करीब आठ महीने में सबसे कम है.
news on crime

मुरादाबाद में स्वास्थ्यकर्मी के कोविड टीके से मौत के आरोप पर स्वास्थ्य विभाग ने कहा- हृदय रोग से गई...

स्वास्थ्यकर्मी महिपाल के परिवार का आरोप है कि उनकी मौत टीकाकरण के कारण हुई तथा उन्हें बुखार एवं खासी के अलावा स्वास्थ्य संबंधी और कोई परेशानी नहीं थी.

धूम्रपान करने वालों और शाकाहारियों में कोरोना से संक्रमित होने का कम जोखिम: CSIR सर्वे

सर्वेक्षण में यह भी पाया गया कि रक्त समूह ‘ओ’ वाले लोग संक्रमण के प्रति कम संवेदनशील हो सकते हैं, जबकि 'बी' और 'एबी' रक्त समूह वाले लोग अधिक जोखिम में हो सकते हैं.

देश में अब तक 2,24,301 लोगों को लगा कोविड-19 का टीका, 447 प्रतिकूल मामले आए सामने

मंत्रालय के अतिरिक्त सचिव मनोहर अगनानी ने कहा कि 447 प्रतिकूल मामलों में सिर्फ तीन में टीका लगवाने वाले व्यक्ति को अस्पताल में भर्ती करने की जरूरत पड़ी है.

तीन करोड़ फ्रंटलाइन वर्कर्स को फरवरी तक कोरोना वैक्सीन देने का लक्ष्य: हर्षवर्धन

हर्षवर्द्धन ने बताया कि टीकाकरण अभियान के तीसरे चरण में 50 वर्ष से ऊपर के लोगों को टीका लगाया जायेगा और चौथे चरण में 50 वर्ष से नीचे आयु के लोगों का टीकाकरण होगा.

टीकाकरण अभियान के पहले दिन दिल्ली में कोविड वैक्सीन के प्रतिकूल असर के 52 मामले सामने आए

एम्स के एक स्वास्थ्य कार्यकर्ता को एईएफआई से गंभीर रूप से प्रभावित बताया गया है. कोवैक्सीन की खुराक के बाद उसे अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा था.

भारत में लगभग 2 लाख स्वास्थ्यकर्मियों और सफाईकर्मियों को दी गई टीके की पहली खुराक

भारत में करीब एक करोड़ लोगों के संक्रमित होने और 1,52,093 लोगों की मौत के बाद देश ने ‘कोविशील्ड’ और ‘कोवैक्सीन’ टीके के साथ महामारी के खिलाफ कदम उठाया है.

पहले दिन 1.65 लाख से अधिक लोगों को लगी वैक्सीन, सफल रहा टीकाकरण अभियान: स्वास्थ्य मंत्रालय

जिन 11 राज्यों और केंद्रशासित में कोविशील्ड और कोवैक्सीन दोनों टीके लगाये गये वे असम, बिहार, दिल्ली, हरियाणा, कर्नाटक, महाराष्ट्र, ओडिशा, राजस्थान, तमिलनाडु, तेलंगाना और उत्तर प्रदेश हैं.

मत-विमत

राजनीति

देश

कोविड वैक्सीन कितनी प्रभावी? दिल्ली के टीकाकरण केंद्र खुराक के पहले और बाद एंटीबॉडी टेस्ट करेंगे

कई संस्थान और विशेषज्ञ इसे एक प्रभावकारिता परीक्षण के तौर पर देखने की वकालत करते हैं जो टीकों के प्रति भरोसा बढ़ाने में मददगार होगा, खासकर भारत बायोटेक की कोवैक्सीन के लिए जो ट्रायल के तीसरे चरण में है.

लास्ट लाफ

भारत की ‘साहसी’ टीम की ऐतिहासिक जीत और रजनीकांत की ‘आध्यात्मिक’ राजनीति

चयनित कार्टून पहले अन्य प्रकाशनों में प्रकाशित किए जा चुके हैं. जैसे- प्रिंट मीडिया, ऑनलाइन या फिर सोशल मीडिया पर.