Wednesday, 26 January, 2022
होममत-विमत

मत-विमत

उत्तर प्रदेश में सियासी जमीन तलाशती मायावती की चुनावी रणनीतियां

इस चुनाव में प्रभावी तरीके से जोर अजमाइश के लिए तथा ब्राह्मण मतदाताओं को साधने के लिए मायावती ने अभी तक यूपी के सभी जिलों में ‘प्रबुद्ध सम्मेलन’ कर चुकी हैं.

डिटॉक्स ‘स्कैम’ से दूर रहें, कोई एक खाना या पीना सेहत के लिए चमत्कारी नहीं हो सकता

हफ्ते के आखिर में पार्टी, उत्सव, या अनाप-शनाप खाने से शरीर को साफ करने का रिवाज मेडिकल साइंस में तो अजूबा है, डिटॉक्स थेरेपी और कुछ नहीं, बस एक स्कैम.

सानिया मिर्जा ने फिर वही मजबूती दिखाई जो मातृत्व, पाकिस्तानी जीवनसाथी और कोर्ट-ड्रेस पर नजर आई थी

सानिया मिर्जा के लिए छह ग्रैंड स्लैम और 47 खिताब जीतने की राह आसान नहीं रही, भारतीय टेनिस को वैश्विक मुकाम पर पहुंचाने के सफर के दौरान उन्हें न केवल फतवे और लैंगिक भेदभाव का सामना करना पड़ा बल्कि उनकी देशभक्ति पर सवाल तक उठाए गए.

कॉमर्शियल करारों से पहले भारत को होमवर्क करना चाहिए, सौदे की कला में अस्पष्टता के लिए कोई जगह नहीं

तमाम अनुभवों से हमें यही सीख मिलती है कि गोलमोल रवैया महंगा साबित होता है. इसलिए, करार पर दस्तखत करने से पहले पूरी तैयारी कर लीजिए, न कि उसके बाद कमर कसने लगिए.

मोदी बेशक लोकप्रिय हैं लेकिन सर्वशक्तिशाली नहीं, केंद्र-राज्य के रिश्तों का बेहतर होना जरूरी

मोदी राष्ट्रीय स्तर पर भले बेहद लोकप्रिय हों लेकिन अधिकतम राज्यों में चुनाव जीतने में उनकी अक्षमता, राज्यों में उनके विरोधियों की भारी लोकप्रियता भारतीय राजनीति को एक शक्तिशाली संघीय ढांचे की ओर ले जा रही है.

सेना में बस ‘स्वास्थ्य के लिए खेल’ के नियम के कारण भारत को खेलों के मैदान में घाटा हुआ

भारतीय सेना 1970 के दशक तक अपने यूनिटों को यह इजाजत देती थी कि वे अपने कुछ सैनिकों को फौजी ट्रेनिंग की जगह अपने खेलों पर ही ध्यान देने की छूट दें, लेकिन इसके बाद खेल प्रतियोगिताओं पर रोक लगाने की मांग बढ़ने लगी.

जनरल नरवणे की विरासत तो आने वाला समय ही बताएगा लेकिन LAC का डायनामिक्स अब बदल चुका है

जनरल नरवणे मुद्दे के हिसाब से कबूतर और बाज़ दोनों हैं. ऐसा इसलिए है क्योंकि आखिर में वो एक ‘सर्वोत्कृष्ट सैनिक’ थे और आज भी हैं.

बड़ी रैलियां न करने की वजह से UP में BSP को खारिज न करें, जमीन पर उसके काडर को तो देखिए

ज्यादातर मीडिया सर्वे इस चुनाव में बीएसपी के खराब प्रदर्शन की भविष्यवाणी कर रहे, मगर यूपी में यह नुकसान सिर्फ ऊपरी धारणाओं का खेल.

मांग बढ़ाने, अर्थव्यवस्था में तेज सुधार लाने के लिए बजट में करों को कम करें और सरल बनाएं

हाउसिंग में मांग बढ़ाने के लिए करों में छूट और स्टैंडर्ड डिडक्शन को बढ़ाने, शेयर बाजार संबंधी निरर्थक करों को खत्म करके परिवारों को निवेश के लिए प्रोत्साहित करने जैसे उपायों की भी घोषणा आगामी बजट में की जा सकती है.

TV न्यूज में 90% नेता, 5% एक्सपर्ट, 5% एंकर होते हैं, आखिरकार UP की कवरेज से बदला माहौल

टीवी चैनलों को ‘सबसे पहले’ कहकर अपनी तारीफ करने में बड़ा मजा आता है, लेकिन यूपी चुनाव की बारी आई तो कुछ वाकई तारीफ के लायक हो रहा.

मत-विमत

वीडियो

राजनीति

देश

गणतंत्र दिवस समारोह के मद्देनजर दिल्ली में कड़ी सुरक्षा व्यवस्था

नयी दिल्ली, 26 जनवरी (भाषा) भारत के 73वें गणतंत्र दिवस समारोह के मद्देनजर दिल्ली में भारी सुरक्षा इंतजाम किए गए हैं। दिल्ली पुलिस...

लास्ट लाफ

नेताजी-जनरल शहनवाज खान की ‘जश्न-ए-आजादी’ पर बातचीत और रिपब्लिक डे पर एक झांकी के ‘होने की अवस्था’

दिप्रिंट के संपादकों द्वारा चुने गए दिन के सबसे अच्छे कार्टून्स.