Friday, 1 July, 2022
होममत-विमत

मत-विमत

MP की रणजी ट्रॉफी में जीत बताती है कि खेल आपको सब कुछ देता है, लेकिन अपने नियत समय पर

साल 1999 में चंद्रकांत पंडित मध्य प्रदेश की फाइनल हारने वाले टीम के कप्तान थे. आज वह उस विजेता टीम के कोच हैं.

फडणवीस और शिंदे के दुश्मन तो एक हैं मगर उनकी प्राथमिकताएं अलग-अलग हैं

कोई घोर आशावादी ही यह उम्मीद कर सकता है कि एमवीए सरकार इस तूफान में से बचकर निकल पाएगी, लेकिन बागी शिवसेना नेता एकनाथ शिंदे के लिए भी राह आसान नहीं है.

26/11 के मास्टरमाइंड साजिद मीर की सजा से लश्कर के आतंक का खतरा खत्म नहीं हुआ

पाकिस्तानी हुक्मरानों ने एफएटीएफ प्रतिबंधों के खतरों से निपटने के लिए जेहादी मुहिम पर रोक जरूर लगा दी है लेकिन कश्मीर में उसके दूसरी पांत के कमांडरों की सक्रियता आसन्न खतरे से आगाह करती है.

‘जिताऊ उम्मीदवारों’ की बीमारी के राष्ट्रपति चुनाव तक आ पहुंचने के मायने

लेकिन आज बड़ा सवाल इसके बदले यह है कि क्या राष्ट्रपति के, जिन्हें देश का प्रथम नागरिक माना जाता है और जिनके पद में देश की प्रभुसत्ता निहित होती है, चुनाव को भी ऐसे ओछे राजनीतिक मंसूबों व जिताऊ समीकरणों से जोड़ा जाना नैतिक है? और क्या इससे इस पद का गौरव बढ़ता है?

किताबें लिखने में IFS अफसरों ने IAS अफसरों से बाजी मारी

सेवानिवृत्त आईएएस अधिकारी मुख्यतः अपने सेवाकाल की अपनी उपलब्धियों पर किताबें लिखते हैं मगर आईएफएस अधिकारी विभिन्न मसलों और अपने कामकाज के संदर्भों और इतर विषयों पर भी किताबें लिखते हैं.

विश्वनाथ प्रताप सिंह: ‘मैं एक ओर मुड़ा, बाकी वक्त के साथ चले गये’

अपने दौर में स्वयं विश्वनाथ प्रताप सिंह भी कहा करते थे कि वे सामाजिक न्याय की अपनी पहलों को सेमीफाइनल तक ही पहुंचा पाये हैं और फाइनल होना बाकी रह गया है.

JD(S), BSP, SP की तरह ही शिवसेना में राजनीतिक पतन देखने को मिल रहा है

इंदिरा गांधी के दौर में कांग्रेस की टूट की तरह ही शिवसेना भी नए नेता के तहत एकदम नई पार्टी की तरह उभर सकती है.

द्रौपदी मुर्मू का राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनना सावरकरवादी हिंदुत्व की जीत है

द्रौपदी मुर्मू का राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनना बीजेपी की कार्य योजना के तहत ही है. बीजेपी और आरएसएस की ये दो रणनीतियां मिलकर एक विशाल तंत्र बनाती हैं, जिनका संचालक एकीकृत रूप से एक हेडक्वार्टर करता है, जो दरअसल आरएसएस का हेडक्वार्टर है.

विधायक अब राजनीतिक उद्यमी बन गए हैं, महाराष्ट्र इसकी ताजा मिसाल है

आपके विधायक आपके अपने हैं यह मान कर मत चलिए, चुनावी जीत का राजनीतिक महत्व उनके लिए स्टार्ट-अप उद्यमी को मिले कर्ज के समान है.

मोदी जी की देन है लोजिक की बजाय मोजिक, यह अग्निपथ नहीं अज्ञानपथ है

अग्निपथ को लेकर चल रही मौजूदा बहस में मोजिक से काम लिया जा रहा है वैसे ही जैसे कि नोटबंदी, लॉकडाउन और 2020 के कृषि कानून के मामले में लिया गया था.

मत-विमत

वीडियो

राजनीति

देश

दिल्ली में एसयूपी वस्तुओं पर प्रतिबंध के उल्लंघन पर एक लाख रुपये तक का जुर्माना या जेल की सजा: राय

नयी दिल्ली, एक जुलाई (भाषा) पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने शुक्रवार को कहा कि दिल्ली में एकल उपयोग वाली प्लास्टिक (एसयूपी) की वस्तुओं पर...

लास्ट लाफ

फ्रिंज एलिमेंट्स का राष्ट्रीय मोर्चा और MVA से अभी भी क्या बंधा हुआ है

दिप्रिंट के संपादकों द्वारा चुने गए पूरे दिन के सबसे अच्छे कार्टून.