Sunday, 26 June, 2022

भाषा

Avatar
63273 पोस्ट0 टिप्पणी

मत-विमत

‘जिताऊ उम्मीदवारों’ की बीमारी के राष्ट्रपति चुनाव तक आ पहुंचने के मायने

लेकिन आज बड़ा सवाल इसके बदले यह है कि क्या राष्ट्रपति के, जिन्हें देश का प्रथम नागरिक माना जाता है और जिनके पद में देश की प्रभुसत्ता निहित होती है, चुनाव को भी ऐसे ओछे राजनीतिक मंसूबों व जिताऊ समीकरणों से जोड़ा जाना नैतिक है? और क्या इससे इस पद का गौरव बढ़ता है?

वीडियो

राजनीति

देश

राजेंद्र नगर उपचुनाव : आप प्रत्याशी भाजपा उम्मीदवार से दस हज़ार मतों के अंतर से आगे

नयी दिल्ली, 26 जून (भाषा) राजेंद्र नगर विधानसभा उपचुनाव में रविवार सुबह से मतगणना जारी है। नौवें दौर की मतगणना के बाद आम आदमी...

लास्ट लाफ

बाढ़ प्रभावित असम में विधायकों की ‘छुट्टी’ और कैसे MVA मॉकटेल तेज कॉकटेल के खिलाफ है

दिप्रिंट के संपादकों द्वारा चुने गए पूरे दिन के सबसे अच्छे कार्टून.