Thursday, 27 January, 2022
होमसमाज-संस्कृति

समाज-संस्कृति

क्यों मैडम तुसाद की मोम प्रतिमाओं से भारतीयों को है लगाव ?

छूने की मनाही खत्म कर दिए जाने के बाद मैदम तुसाद जैसे मोम संग्रहालय भारतीयों के नयनसुख संबंधी कौतुहल को शांत कर रहे हैं.

दुनिया की पहली रोबोट आरजे रश्मि ने बताया कौन जीतेगा 2019 का चुनाव

भारत में दुनिया की सबसे पहली रोबोट रेडियो जॉकी लॉन्च हुई है. रश्मि पहली मानव जैसे दिखने वाली रोबोट हैं जो हिंदी में बातचीत कर सकती हैं.

गुलशन नंदा: हिंदी के सबसे लोकप्रिय लेखक जिनके दर पर लगी रहती थी प्रकाशकों की कतार

हिंदी के लोकप्निय लेखक गुलशन नंदा को उनके मित्र और लेखक सुरेंद्र मोहन पाठक याद करते हुए कहते हैं कि उनसा कोई और न हुआ.

सेक्सोलॉजी और शर्म: मरीज़ सलाह लेने को तैयार हैं लेकिन डॉक्टर शर्मा रहे हैं

यौन विशेषज्ञता को बाकी विषयों की तरह वैधता मिलने में लंबी दूरी तय करनी है, लेकिन यौन समस्याओं पर बात करने के लिए भारतीयों की लंबी कतारें लग रही हैं.

नागार्जुन: ‘बाल न बांका कर सकी शासन की बंदूक’

बाबा नागार्जुन ने अपनी कविताओं में एक तरफ इंदिरा गांधी जैसे नेताओं की खबर ली तो दूसरी तरफ आम अवाम के जीवन को जबान दी. आज नागार्जुन की पुण्यतिथि है.

महाराष्ट्र में नरभक्षी बाघिन अवनी को मार गिराया गया

बाघिन अवनी को ढूंढ़ने के लिए वन विभाग की टीम के साथ ही कैमरों, ड्रोन, हैंग ग्लाइडर और खोजी कुत्तों की मदद ली गई.

डॉक्टर से एसपी बने अभिषेक पल्लव की आंखें क्यों छलक पड़ीं?

मंगलवार को दंतेवाड़ा में नक्सली हमले में दो पुलिसकर्मी और एक पत्रकार की मौत हो गई थी. इस घटना के बारे में बताते हुए एसपी अभिषेक पल्लव भावुक हो गए.

‘वे जब मेरी हत्या करने आएंगे तो कोई भी नहीं बचा पाएगा’

इंदिरा गांधी की पुण्यतिथि पर सागरिका घोष की किताब 'इंदिरा: भारत की सबसे शक्तिशाली प्रधानमंत्री' का एक अंश.

हाशिमपुरा नरसंहार: उस भयावह रात को याद कर रहे हैं विभूति नारायण राय

मेरठ के हाशिमपुरा में 31 साल पहले हुए नरसंहार में दिल्ली हाईकोर्ट ने सभी 16 अभियुक्तों को उम्रकैद की सज़ा सुनाई है. विभूति नारायण राय उक्त घटना के समय उत्तर प्रदेश पुलिस में थे. प्रस्तुत है उनकी आंखों देखी.

सुहेल सेठ: सुहाने लोगों की सोहबत और अपने दंभ की कैद

यौन उत्पीड़न के लिए कई महिलाओं के निशाने पर आए सेलिब्रिटी कंसल्टेंट सुहेल सेठ को जानने वाले बयान कर रहे हैं उनके दंभ तथा अहंकार के क़िस्से.

मत-विमत

यमन के कमजोर बागी विश्व अर्थव्यवस्था के लिए जोखिम बने और साबित किया कि फौजी ताकत की भी एक सीमा होती है

ईरान और सऊदी अरब अब बातचीत कर रहे हैं लेकिन जंग के जिन्न को वापस बोतल में बंद करने में शायद बहुत देर हो चुकी है. यमन में सत्ता के दलाल अपने दबदबे के लिए हिंसा पर ही निर्भर हैं.

वीडियो

राजनीति

देश

कोरोना के मामलों में आई कमी तो DDMA ने दी दिल्ली खोलने की छूट, वीकेंड कर्फ्यू और ऑड इवेन खत्म

दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने बताया कि राज्य में कोरोना के हालात नियंत्रण में हैं. उन्होंने कहा आज दिल्ली में 5 हजार से कम मामले आएंगे साथ ही कोरोना संक्रमण दर 10 फीसदी से कम रहेगी.

लास्ट लाफ

भारत के गरीब अब भी VIPs को सहन कर रहे हैं और डॉ अंबेडकर का मैकाले के भूत से जुड़ा एक सवाल है

दिप्रिंट के संपादकों द्वारा चुने गए दिन के सबसे अच्छे कार्टून्स.