Thursday, 27 January, 2022

इला पटनायक

Avatar
99 पोस्ट0 टिप्पणी

मत-विमत

अब इस गणतंत्र में सिर्फ ‘तंत्र’ बचा है, अगर ‘गण’ अब भी न जगा तो कुछ न बचेगा

गणतंत्र की प्राणवायु यानी विचार अब खर्च हो गए हैं. इक्कीसवीं सदी में गणतंत्र को बचाने के लिए बीसवीं सदी की विरासत का संयोजन और संशोधन करते हुए एक नई विचारधारा को गढ़ना होगा.

वीडियो

राजनीति

देश

हरियाणा सरकार ने कोविड-19 संबंधी प्रतिबंधों को 10 फरवरी तक बढ़ाया

चंडीगढ़, 26 जनवरी (भाषा) हरियाणा सरकार ने राज्य में कोविड-19 संबंधी पाबंदियों को 10 फरवरी तक बढ़ाने की घोषणा की है। राज्य में हालांकि...

लास्ट लाफ

भारत के गरीब अब भी VIPs को सहन कर रहे हैं और डॉ अंबेडकर का मैकाले के भूत से जुड़ा एक सवाल है

दिप्रिंट के संपादकों द्वारा चुने गए दिन के सबसे अच्छे कार्टून्स.