scorecardresearch
Wednesday, 12 June, 2024
होमफीचररामानंदी कौन हैं? अयोध्या में रामानंदियों के ऐतिहासिक शत्रु संन्यासी थे, मुसलमान नहीं

रामानंदी कौन हैं? अयोध्या में रामानंदियों के ऐतिहासिक शत्रु संन्यासी थे, मुसलमान नहीं

राम जन्मभूमि ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय का यह दावा कि राम मंदिर रामानंदियों का है, ने एक बड़े और प्रभावशाली संप्रदाय की ओर ध्यान केंद्रित कर दिया है.

Text Size:

नई दिल्ली: पिछले हफ्ते, विश्व हिंदू परिषद (वीएचपी) के वरिष्ठ नेता चंपत राय ने संघ परिवार के दशकों पुराने अखिल हिंदू पहचान के दावे का खंडन करते हुए कहा था कि राम मंदिर रामानंदी संप्रदाय का है, न कि संन्यासियों, शाक्तों या शैवों का.

अमर उजाला (न्यूज़ एजेंसी) के साथ एक साक्षात्कार में मंदिर के अभिषेक के दौरान किस प्रार्थना पद्धति का पालन किया जाएगा, इस सवाल का जवाब देते हुए, राय – जो श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र के महासचिव और वीएचपी के उपाध्यक्ष हैं, ने कहा कि रामानंदी परंपरा का पालन किया जाएगा, क्योंकि मंदिर रामानंदी संप्रदाय का है.

उत्तरी पीठ के शंकराचार्य अविमुक्तेश्वरानंद सरस्वती ने जवाबी कार्रवाई करते हुए राय को मंदिर ट्रस्ट से हटाने की मांग की क्योंकि वह खुद रामानंदी नहीं हैं.

डेक्कन हेराल्ड ने निर्मोही अखाड़े के एक महंत, जो कि रामानंदी संप्रदाय का हिस्सा है – के हवाले से कहा कि ट्रस्ट प्रस्तावित अभिषेक में रामानंदी परंपरा का पालन नहीं कर रहा है. उन्होंने कथित तौर पर कहा, “हम चाहते हैं कि राम लला के अनुष्ठान और पूजा रामानंदी परंपराओं के अनुसार जारी रहे, लेकिन ट्रस्ट ने हमारी याचिका को नजरअंदाज कर दिया है.”

इस बीच, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) और वीएचपी ने राय के बयान और रामानंदी संप्रदाय पर अचानक ध्यान केंद्रित करने की कोशिश की है.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

आरएसएस के संयुक्त महासचिव मनमोहन वैद्य ने दिप्रिंट को बताया, “हिंदू धर्म में कई संप्रदाय हैं – वैष्णववाद, शैववाद, जैन धर्म, शक्तिवाद, आदि और रामानंद उनमें से एक है और वे सभी ही हिंदू धर्म का हिस्सा हैं.”

वैद्य ने कहा, “इसमें कोई विरोधाभास नहीं है, उनका (राय का) बयान इस सवाल तक सीमित था कि पूजा कौन करेगा, न कि इस बारे में कि कौन आकर कर सकता है… हर कोई आएगा और दर्शन करेगा.”

दूसरी ओर, विहिप के कार्यकारी अध्यक्ष आलोक कुमार ने राय के बयान पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया.

एक इतिहासकार ने नाम न छापने के अनुरोध पर कहा कि राय का दावा “जिज्ञासा पैदा करने वाला” है और उन अधिकांश हिंदुओं के लिए “बिल्कुल अस्वीकार्य” होगा जो राम मंदिर के प्राण प्रतिष्ठा समारोह का इंतजार कर रहे हैं.

इतिहासकार ने कहा, “यह उनके (संघ परिवार के) कई दशकों से एक आम हिंदू पहचान बनाने के प्रयासों के सामने खड़ा है. इसके अलावा, मंदिर रामानंदियों के स्वामित्व में कैसे है, इसकी जांच की जरूरत है. मुझे नहीं लगता कि ऐसा कोई दावा पहले किया गया है.”

कहा जाता है कि रामानंदियों ने कई दशकों तक ‘राम मंदिर’ का रखरखाव किया, यहां तक ​​कि जब 1992 तक बाबरी मस्जिद उस स्थान पर थी, तब भी. इसके अलावा, संप्रदाय, या यहां तक ​​कि इसके संस्थापक स्वामी रामानंद के बारे में बहुत कम जानकारी है.

रिचर्ड बर्गहार्ट, एक जर्मन एंथ्रोपोलॉजिस्ट, जो रामानंदियों पर काम करने वाले कुछ विद्वानों में से एक हैं, ने 1978 में ‘द फाउंडिंग ऑफ द रामानंदी सेक्ट’ शीर्षक से एक पेपर प्रकाशित किया था. इसमें उन्होंने लिखा है, “एक चीज जो हम जानते हैं वह है हम वास्तव में स्वामी रामानंद के बारे में बहुत कम जानते हैं. इसके अलावा, बहुत लंबे समय से हमारी अज्ञानता स्वयं रामानंदी संन्यासियों द्वारा साझा की गई है.

तो, स्वामी रामानंद कौन थे? रामानंदी कौन हैं? क्या वे रूढ़िवादी हिंदू या सुधारक थे? अन्य हिंदू संप्रदायों के साथ उनका रिश्ता कैसा रहा है? क्या मुस्लिम शासक उनके शत्रु या संरक्षक थे? दिप्रिंट इन सभी सवालों का जवाब यहां दे रहा है.


यह भी पढ़ें: ‘हर मस्जिद में शिवलिंग न ढूंढ़ें’, उमा भारती बोलीं- इससे देश में हिंदू-मुसलमान शांति से नहीं रह पाएंगे


रामानंदी कौन हैं?

अधिकांश लोगों के अनुसार, रामानंदी संप्रदाय की स्थापना 14वीं शताब्दी में स्वामी रामानंद ने की थी. लेकिन जैसा कि बर्गहार्ट ने तर्क दिया है, रामानंद के बारे में सबसे बुनियादी तथ्य – जैसे कि उनका जन्म कब और कहां हुआ, या उनकी मृत्यु कब हुई, इनके बारे में किसी को भी सही से पता नहीं है.

दरअसल, दक्षिण एशिया के इतिहासकार विलियम पिंच का तर्क है कि यह संभावना के दायरे में है कि स्वामी रामानंद को रामानंदी संप्रदाय के भिक्षुओं ने संगठित करने और अपने संप्रदाय को “ब्राह्मणवादी सम्मान” देने के लिए पूर्वव्यापी रूप से “प्रेरित” किया था.

हालांकि, हम निश्चित रूप से एक बात जानते हैं कि रामानंदी हिंदू धर्म के भीतर बड़े वैष्णव संप्रदाय से हैं और वे विष्णु के अवतार राम, सीता और हनुमान के उपासक हैं. जबकि वैष्णव विष्णु के उपासक हैं, उदाहरण के लिए, रामानंदी केवल उनके राम अवतार की पूजा करते हैं, कृष्ण की नहीं. कुल मिलाकर, यह संप्रदाय शैववाद – वह संप्रदाय जो शिव की पूजा करता है, या शक्तिवाद, वह संप्रदाय जो देवी शक्ति की पूजा करता है, से अलग है. दुर्गा, काली, पार्वती, सभी शक्ति के अवतार हैं.

वैष्णव साधुओं का कहना है कि तुलसीदास, मीरा बाई, कबीर, रविदास और पद्मावती आदि स्वामी रामानंद के आध्यात्मिक वंशज हैं.

संप्रदाय के मठ बंगाल, बिहार, ओडिशा, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, गुजरात, राजस्थान, पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश के साथ-साथ नेपाल घाटी और नेपाली तराई में पाए जाते हैं – जो उनके भौगोलिक प्रसार और प्रभाव का प्रमाण है. पिंच लिखते हैं कि दरअसल, कहा जाता है कि कुंभ मेले में रामानंदियों का जुलूस अब तक का सबसे लंबा जुलूस है.

फिर भी, उनके इतिहास की जानकारी पूरी तरीके से किसी के पास भी नहीं है.

हालांकि, समकालीन विद्वानों की अस्थायीता के विपरीत, 1908 और 1921 के बीच लिखा गया धर्म और नैतिकता का Encyclopedia रामानंद और रामानंदियों के बारे में कुछ निश्चित “तथ्य” प्रस्तुत करता है.

स्कॉटिश पादरी जेम्स हेस्टिंग्स द्वारा संपादित इनसाइक्लोपीडिया के अनुसार, रामानंद का जन्म 1299 ईस्वी में प्रयाग (वर्तमान प्रयागराज) में रामदत्त के रूप में हुआ था, और 12 साल की उम्र तक, वह एक “पूर्ण पंडित” बन गए थे, जो दर्शनशास्त्र का अध्ययन करने के लिए बनारस (वाराणसी) चले गए थे.

यहीं पर युवा रामदत्त को राघवानंद, जो संप्रदाय के सबसे प्रमुख शिक्षकों में से एक थे, ने दक्षिणी भारत में रामानुज द्वारा स्थापित श्री वैष्णव संप्रदाय में दीक्षित किया था – जिन्होंने उन्हें एक दीक्षा मंत्र दिया था.

अब भी, रामानंदी संन्यासियों को उनके संबंधित गुरुओं से एक गुप्त मंत्र प्राप्त करके दीक्षा दी जाती है, ऐसा माना जाता है कि सभी रामानंदी संन्यासियों को रामानंद, या यहां तक कि हिंदू देवता राम से भी जोड़ा जाता है. कुछ रामानंदियों का मानना है कि रामानंद राम के ही अवतार थे.

हालांकि, माना जाता है कि जिस वैष्णव संप्रदाय में रामानंद ने दीक्षा ली थी, उसमें केवल ब्राह्मण शामिल थे, जो सख्त आहार प्रतिबंधों का पालन करते थे और केवल संस्कृत में पढ़ते-लिखते थे.

एनसाइक्लोपीडिया के अनुसार, “रामानंद को अपना संप्रदाय बनाकर इसे बदलना था. इसके परिणामस्वरूप उत्तरी भारत के धार्मिक इतिहास में सबसे महत्वपूर्ण क्रांतियों में से एक हुई.”

कहा जाता है कि भक्ति परंपरा और उसके असंख्य धार्मिक सुधार, जो भारत के दक्षिण में शुरू हुए, इस नए संप्रदाय के माध्यम से उत्तर में आए – भक्ति द्रविड़ उपजी लाए रामानंद (रामानंद भक्ति को दक्षिण से उत्तर की ओर लाए) एक लोकप्रिय कहावत है.

महिलाएं, मुस्लिम, “निचली” और “अछूत” जातियां – सभी को इस नए, क्रांतिकारी संप्रदाय में जगह मिली.

रामानंद की सबसे लोकप्रिय कहावतों में से एक है “किसी को भी मनुष्य की जाति या वह किसके साथ भोजन करता है, यह नहीं पूछना चाहिए. यदि कोई व्यक्ति हरि (राम का दूसरा नाम) के प्रति प्रेम दिखाता है, तो वह हरि का अपना है.”

संस्कृत आध्यात्मिक और धार्मिक शिक्षा की एकमात्र भाषा नहीं रह गई. सारी शिक्षाएं अधिकतर स्थानीय भाषा में की जाने लगीं. अधिकांश विद्वान इस बात से सहमत हैं कि यदि स्वयं रामानंद नहीं तो कबीर जैसे रामानंद के अनुयायियों के विशाल कार्यों के कारण हिंदी पूरे उत्तर में एक साहित्यिक भाषा बन गई.

शायद आने वाली सदियों के लिए इस घटना का सबसे महत्वपूर्ण परिणाम 16वीं शताब्दी में तुलसीदास द्वारा स्थानीय अवधी भाषा में रामचरितमानस का लेखन था.


यह भी पढ़ें: प्राण प्रतिष्ठा में महिलाएं कहां हैं? दुर्गा वाहिनी ने कहा- पुरुषों का एकाधिकार है, हमें दरकिनार किया गया


‘राम जन्मभूमि’ पर हिंदू बनाम हिंदू की लड़ाई

हालांकि, 18वीं शताब्दी तक, रामानंदी मुख्य रूप से पश्चिमी भारत, विशेषकर राजस्थान और पंजाब में सक्रिय थे.

उन्होंने अयोध्या में, जिसे वे अपने देवता का जन्मस्थान मानते हैं, वहां कैसे लोकप्रिय हुए, यह हिंदुओं के बीच लड़ाई और सत्ता संघर्ष की कहानी बनी हुई है.

जैसा कि पिंच ने अपनी पुस्तक, पीजेंट्स एंड मॉन्क्स इन ब्रिटिश इंडिया में तर्क दिया है, अयोध्या में रामानंदी अखाड़ों  और संप्रदाय के सैन्यीकृत आदेश की स्थापना शायद ही आसान थी.

18वीं सदी की शुरुआत में, संन्यासियों के दसनामी संप्रदाय ने राम के जन्मदिन पर ही अयोध्या पर कब्ज़ा कर लिया, जिसके बाद रामानंदियों को भगा दिया गया. इस आक्रामकता से चौंककर, वैष्णव संप्रदायों ने जयपुर के पास गलता में एक ऐतिहासिक सम्मेलन बुलाया, जिसके बाद रामानंदियों ने खुद को अखाड़ों में सैन्य रूप से संगठित करना शुरू कर दिया.

18वीं शताब्दी की शुरुआत में संन्यासियों को सत्ता से बेदखल करने के लिए अयोध्या आए रामानंदियों के पहले सशस्त्र संप्रदायों में से एक निर्मोही अखाड़ा था. यह अखाड़ा दो शताब्दियों के बाद बाबरी मस्जिद-राम जन्मभूमि स्वामित्व मुकदमे में मुख्य वादियों में से एक बन गया.

उनके पीछे निर्वाणी और दिगंबरी सहित अन्य रामानंदी अखाड़े भी अयोध्या पहुंचे. सदी के अंत तक, रामानंदियों और संन्यासियों के उग्रवादी आदेश घातक, सशस्त्र युद्ध में बदल गए थे. हालांकि, अंततः दसनामियों को अयोध्या से बाहर धकेल दिया गया.

वीएचपी नेता राय का यह बयान कि राम मंदिर रामानंदियों का है, संन्यासियों का नहीं, 300 साल पुरानी इस दुश्मनी से जुड़ा है.

शैव और मुसलमान कम शत्रु थे, कम से कम अयोध्या में. अयोध्या: द डार्क नाइट पुस्तक में कृष्ण झा और धीरेंद्र के. झा द्वारा वर्णित एक स्थानीय किंवदंती के अनुसार, एक बार अयोध्या में हनुमान टीला पर एक पेड़ के नीचे एक हनुमान की मूर्ति रखी गई थी, वह स्थान जो अंततः हनुमानगढ़ी के नाम से जाना जाता है.

इस मूर्ति की पूजा शैव नागाओं और मुस्लिम फकीरों दोनों द्वारा की जाती थी. हालांकि, उनके अयोध्या पहुंचने पर, रामानंदी संप्रदाय के निर्वाणी अखाड़े के नागाओं ने शैव और मुसलमानों दोनों को “उनके” देवता, हनुमान की मूर्ति से दूर कर दिया.

लेकिन अभी इन सब के बीच और भी बहुत कुछ होना बाकी था.

हनुमान टीला को मंदिर और फिर किले हनुमानगढ़ी में बदलने में रामानंदियों की मदद करने वाले अवध के नवाब थे.

नवाब सफदरजंग के समय से लेकर उनके पोते आसफ-उद-दौला तक, निर्वाणी अखाड़े को उदारतापूर्वक भूमि और धन दिया गया, और इस प्रकार मुस्लिम शासकों की मदद से हनुमानगढ़ी उनकी शक्ति का मुख्य केंद्र बन गया.

प्रिंटिंग प्रेस और ‘मुस्लिम शत्रु’ का उदय

19वीं शताब्दी में, सभी धर्मों और संप्रदायों में धर्म और धार्मिक शिक्षाओं के संचार और प्रसारण के रूपों में मौलिक बदलाव आया. इसका कारण प्रिंटिंग प्रेस का गंगा के उत्तर में आना था.

रामानंदी भी इससे अछूते नहीं थे. 1660 में लिखा गया मुख्य रामानंदी भौगोलिक पाठ, भक्तमाल, हिंदी में मुद्रित प्रतियों में पढ़ने और प्रयोग करने के लिए सभी के लिए सुलभ रूपों में पुन: प्रस्तुत किया जाने लगा.

भक्तमाल के संस्करण प्रकाशित हुए. पिंच ने लिखा, संप्रदाय का इतिहास, जो अब तक अपने कट्टर अनुयायियों के बीच भी आरामदायक अस्पष्टता की स्थिति में मौजूद था, इसे “व्यवस्थित” करने के लिए एक नए उत्साह के साथ प्रतिस्पर्धा शुरू हो गई.

संप्रदाय के भीतर जो लोग सबसे ठोस अतीत का वर्णन कर सकते हैं, उनके पास इस पर सबसे बड़ी शक्ति और प्रभाव होगा.

इस परिवेश में कट्टरपंथी रामानंदियों का उदय हुआ. उन्होंने दक्षिण के रामानुज के साथ रामानंद के किसी भी संबंध को पूरी तरह से नकार दिया.

इन नए कट्टरपंथी रामानंदियों ने दावा किया कि रामानंद ने अकेले ही उस व्यवस्था की स्थापना की थी जिसका वे हिस्सा थे.

उनका मानना था कि रामानुज के श्री वैष्णव अनुयायी जातिवादी और अभिजात्यवादी थे, और किसी भी तरह से उनके संप्रदाय का प्रतिनिधित्व नहीं करते थे. इस प्रकार एक अंतर-सांप्रदायिक संघर्ष शुरू हो गया.

1918 से 1921 तक, रामानंदियों और रामानुज के अनुयायियों के बीच अयोध्या और उज्जैन में तीखी बहसें हुईं, जिससे रामानुज का रामानंदी संप्रदाय से संबंध मिटता गया. नए, कट्टरपंथी और आक्रामक रामानंदी तेजी से संप्रदाय की प्रमुख आवाज बनकर उभरे.

जैसे ही ये सभी प्रश्न थोड़े “हल” हुए, कट्टरपंथी रामानंदियों के कार्यों में एक अपेक्षाकृत नई चिंता व्याप्त होने लगी, जो भारत में इस्लाम का आगमन था. जो उस समय की एक प्रमुख औपनिवेशिक बौद्धिक और ऐतिहासिक चिंता थी.

इस नए इतिहास ने रामानंद को मुस्लिम उत्पीड़न के सामने हिंदू धर्म के रक्षक के रूप में चित्रित करना शुरू कर दिया.

तेजी से, वैष्णव-शैव संघर्ष को “हिंदू-बनाम-हिंदू” प्रतिद्वंद्विता के रूप में निंदा की जाने लगी, जिसने अंततः हिंदू धर्म को कमजोर कर दिया और इसके पतन का कारण बना.

पिंच लिखते हैं, “नया रामानंदी इतिहासलेखन मुसलमानों के एक आयामी खलनायक के रूप में चित्रण पर निर्भर करता है जो विभाजित हिंदू समाज को नष्ट करने पर आमादा है. ठीक दो शताब्दी पहले अयोध्या में रामानंदियों को नवाबों से जो संरक्षण मिला था, उसका इस नये इतिहास में कोई स्थान नहीं था.”

औपनिवेशिक इतिहासलेखन ने इस इतिहास को सक्षम बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई.

उदाहरण के लिए, ऊपर उद्धृत धर्म और नैतिकता के इनसाइक्लोपीडिया का तर्क है कि यदि रामानंद 1299 से 1410 तक जीवित रहे, जिससे वे 110 वर्षों से अधिक तक जीवित रहें, तो उन्होंने अलाउद्दीन खिलजी से लेकर मुहम्मद बिन तुगलक तक विभिन्न मुस्लिम शासकों के “अत्याचार” को देखा होगा.

इसमें आगे कहा गया कि “यह विश्वास करना असंभव नहीं है कि विपत्तियों की इस श्रृंखला ने रामानंद पर बहुत अधिक प्रभाव डाला, और सौम्य और वीर रामचंद्र (राम) में विश्वास के उनके सिद्धांत ने क्रूर, विदेशी शासन के तहत भारतीय लोगों द्वारा झेले जा रहे कष्टों के प्रति इसकी स्वीकृति का अधिकांश कारण था.

यह 20वीं सदी की शुरुआत और मध्य के संदर्भ में था कि अभिराम दास, जो अयोध्या में रामानंदी संप्रदाय के एक तपस्वी पुजारी थे, उन पर 23 दिसंबर, 1949 की रात को भारतीय स्वतंत्रता के दो साल बाद तत्कालीन बाबरी मस्जिद के अंदर राम की मूर्तियां रखने का आरोप लगाया गया था.

तब से या शायद पहले से भी और 2020 में इसे श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट को सौंपे जाने से पहले भी “मंदिर” का रखरखाव रामानंदियों द्वारा किया जाता रहा है – संन्यासियों, शैवों या शाक्तों द्वारा नहीं, जैसा कि राय ने जोर दिया है.

(संपादन: अलमिना खातून)
(इस ग्राउंड रिपोर्ट को अंग्रेज़ी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें)


यह भी पढ़ें: ‘वनवास का अंत’, राम मंदिर के उद्घाटन के साथ सूर्यवंशी ठाकुर अपनी 500 साल पुरानी प्रतिज्ञा करेंगे समाप्त


 

share & View comments