scorecardresearch
Thursday, 29 February, 2024
होमफीचरदयाग्रस्त हिंदुओं के सामने बहुत दिक्कते हैं — विकास से ताजमहल तक, योगी का यूपी ही उनका मरहम है

दयाग्रस्त हिंदुओं के सामने बहुत दिक्कते हैं — विकास से ताजमहल तक, योगी का यूपी ही उनका मरहम है

अयोध्या का एक आगंतुक अपने मूल स्थान तमिलनाडु से उत्तर प्रदेश चला गया है. जीवनशैली, मौसम या नौकरी के कारण नहीं; उनका कहना है कि यह हिंदुओं के लिए बेहतर जगह है.

Text Size:

अयोध्या: इंदौर के इंजीनियर जीतेंद्र पांचाल खुन्नस में हैं. रामायण और महाभारत के समय, हिंदू पुरुष अपने गौरव के दिनों में 8 फीट लंबे हुआ करते थे. वे कर्तव्य, देवत्व, धर्म का युग था. पांचाल कहते हैं, आज, पुरुष केवल 5 फुट के हैं — विरला ही कोई 6 फुट का भी है.

और नए राम मंदिर को देखने के लिए पांचाल की अयोध्या की पहली यात्रा केवल उस महिमा को रेखांकित करती है जो हो सकती थी — और वे सोचते हैं कि हिंदुओं ने क्या खो दिया है और अगर, इतिहास, यहां तक कि विकास भी, उनके विरुद्ध काम न करता तो हिंदू क्या हो सकते थे.

अयोध्या के ठंडे कोहरे से खुद को बचाने के लिए अपनी जैकेट की जेब में हाथ डालते हुए पूछते हैं, “बेशक, हिंदू होने के नाते, हम अपने लिए बुरा महसूस करते हैं. हम क्यों नहीं कर सकते?” “सभ्यता के तौर पर हमारे साथ बहुत सारी बुरी चीज़े हुई हैं. जीवन में हमें चीज़ें खोने का डर महसूस होता है — क्योंकि हमने बहुत कुछ खो दिया है.”

अयोध्या शहर अब सदियों पुराने हिंदू सपने की पूर्ति से कहीं अधिक का प्रतीक है. यह अब तेज़ी से सभी पुनरुत्थानवादी हिंदुओं के लिए खुद को ईंधन देने के पहले उभर रहा है, लेकिन यह विशेष रूप से उन हिंदुओं के लिए एक प्रकाशस्तंभ है जो महसूस करते हैं कि उनके साथ अन्याय हुआ है और वे वर्षों, यहां तक कि सदियों से उत्पीड़न की भावना रखते हैं. यह आत्म-दयाग्रस्त हिंदू अब एक शक्तिशाली मतदान समूह है. उन्होंने पिछले तीन दशकों की भाजपा की राजनीति को सींचा है. ताज महल की वैश्विक लोकप्रियता, इस्लाम की सख्ती और मुस्लिम पुरुष पौरुषता से नाराज़गी से — और अजीब तरह से लालच से भी; मोदी के भारत में हिंदू मन असहज है.

औसत हिंदू पुरुष की लंबाई का कम होना पांचाल के लिए एक बड़ा मुद्दा है. पांचाल कहते हैं, हिंदू आज एक जैसा खाना नहीं खाते हैं और उनका कहना है कि सबसे मज़बूत जीन युद्ध में मारे गए, जिससे इतिहास के कई ‘आक्रमणों’ से हिंदू संस्कृति की रक्षा हुई. यहां तक कि विकास भी हिंदुओं के खिलाफ हो गया है — कम से कम पंजाब और हरियाणा अभी भी लंबे आदमी पैदा करते हैं. शेष भारत के बारे में क्या?

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

उन्होंने कहा, “क्या आपको नहीं लगता कि हमने बहुत कुछ खोया है? कि तब से अब तक, हमें कितना नुकसान हुआ है?”

हिंदू उत्पीड़न का विचार पूरे भारत में एक प्रचार बन गया है, जो राजनीतिक रैलियों से लेकर नई इतिहास लेखन से लेकर प्राइम टाइम टीवी बहसों से लेकर सोशल मीडिया चैट तक हर जगह दिखाई दे रहा है. यह अकादमिक अनुमान से सक्रिय सार्वजनिक बातचीत की ओर बढ़ गया है, जिससे भारत और विदेशों में राजनीति के एक नए ब्रांड को बढ़ावा मिला है. राम मंदिर के पीछे की कहानी की तरह “500 साल पुरानी कहानी” नहीं है — यह एक ऐसा विचार है जिसने हिंदू अधिकार के उदय के साथ भारतीय जनता की कल्पना में जड़ें जमा लीं.

और अब, अयोध्या के मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा और हिंदू आस्था के रक्षक और मंदिरों के रक्षक के रूप में योगी आदित्यनाथ के उभरने के साथ, धर्मनिष्ठ हिंदू को आदर्श शासन के लिए एक किताब मिल गई है. इस दुनिया में, ‘राम’ और ‘राष्ट्र’ साथ-साथ चलते हैं — और उससे पहले का कोई भी युग भारत के बहुसंख्यक हिंदू समुदाय के लिए अपमान था.ॉ

Saffron beams light up Ayodhya | Vandana Menon | ThePrint
भगवा किरणों से जगमगा उठी अयोध्या | फोटो: वंदना मेनन/दिप्रिंट

उनके मन में हिंदुओं को इतिहास, विज्ञान और राजनीति द्वारा धोखा दिया गया है; जानबूझकर विदेशी दुश्मनों से सुरक्षा से इनकार किया गया. पांचाल ने कहा कि इतिहास की किताबों से लेकर सरकारी योजनाओं तक, हिंदुओं को दरकिनार किया गया है और विकास और मान्यता दोनों से वंचित किया गया है.

हिंदू असहायता के बारे में यह सामूहिक चिंता हिंदू शक्ति के पुनरुद्धार की कथित आवश्यकता को और तीव्र करती है.

हर्ट सेंटीमेंट्स: सेक्युलरिज्म एंड बिलॉन्गिंग इन साउथ एशिया की लेखिका और इतिहासकार नीति नायर कहती हैं, “कोई आसान नायक और आसान दुश्मन नहीं होते. फिर भी हिंदू दक्षिणपंथी एक दुश्मन और एक पीड़ित के आसान इतिहास का प्रचार करते हैं. इस समय हम जो देख रहे हैं वो पिछले 75 साल में आरएसएस के सिद्धांत की सफलता है.”


यह भी पढ़ें: पर्यटकों के लिए अयोध्या बनी पहली पसंद – SOTC, Thomas Cook, MakeMyTrip यात्रा को आसान बना रहे हैं


उत्तर प्रदेश ‘हिंदुओं के लिए बेहतर’

पूर्व कारोबारी ए लक्ष्मणन सब कुछ छोड़कर अपने मूल तमिलनाडु से स्थायी रूप से उत्तर प्रदेश में शिफ्ट हो जाएंगे. ऐसा इसलिए नहीं है क्योंकि वे जीवनशैली, मौसम या नौकरी तलाश कर रहे हैं — ऐसा इसलिए है क्योंकि उनका मानना है कि उत्तर प्रदेश हिंदुओं के लिए एक बेहतर जगह है.

लक्ष्मणन ने कहा, “यहां लोग हिंदुओं का सम्मान करते हैं. मैं तमिलनाडु में एक अच्छा नागरिक हूं, लेकिन मुझे मान्यता नहीं मिली है. यहां, उत्तर प्रदेश में, मैंने कुछ नहीं किया है, लेकिन मुझे पहचान मिली है.”

वे भारत के सबसे औद्योगिक राज्य तमिलनाडु की तुलना में उत्तर प्रदेश में विकास की कमी को खारिज करते हैं. उन्होंने कहा, “उत्तर भारत के लोग अशिक्षित हैं, आपको उन्हें माफ करना होगा” उनके आसपास तमिल तीर्थयात्रियों का एक समूह सहमति में सिर हिलाता है. तमिल पुजारी, रामचंद्रन ने कहा, “तमिलनाडु में लोग पढ़े-लिखे हैं और फिर भी वे हिंदुओं के साथ इतना बुरा व्यवहार करते हैं.”

Tamil pilgrims who’ve made their way to Ayodhya | Vandana Menon | ThePrint
तमिल तीर्थयात्री जिन्होंने अयोध्या का रुख किया है | फोटो: वंदना मेनन/दिप्रिंट

लक्ष्मणन की नज़र में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के सभी मंदिरों की रक्षा करने की प्रतिबद्धता के कारण उत्तर प्रदेश हिंदुओं के लिए एक योग्य राज्य के रूप में उभरा है. यह तमिलनाडु की द्रविड़ राजनीति से बिल्कुल अलग है, जहां विभाजन सांप्रदायिक आधार के बजाय जाति के आधार पर होता है. लक्ष्मणन, जो ‘अगड़ी’ व्यापारिक चेट्टियार जाति से हैं, का कहना है, हिंदुओं का आस्था दिखाने के लिए मज़ाक उड़ाया जाता है — उन्हें स्पष्ट रूप से याद है कि उनकी “मंदिर पोशाक” के लिए उनका माखौल उड़ाया गया था.

यह इस तथ्य के बावजूद है कि तमिलनाडु में बड़ी संख्या में मंदिर हैं और एक हालिया सर्वेक्षण यह साबित करता है कि दक्षिण भारत हिंदी पट्टी की तुलना में कम धार्मिक नहीं है.

फिर भी, लक्ष्मणन का मानना है कि उनके मूल राज्य में हिंदुओं का सम्मान नहीं किया जाता है, भले ही वे बहुसंख्यक हैं. उन्होंने हिंदू दक्षिणपंथ के बार-बार दोहराए जाने वाले उदाहरण का हवाला दिया: मुसलमानों और ईसाइयों को उत्पीड़ित अल्पसंख्यकों के रूप में संरक्षित किया जाता है, लेकिन हिंदुओं को नहीं.

उन्होंने कहा, “आप किसी भी मंदिर का नाम लें, योगी जी ने इसका समर्थन करने की पूरी कोशिश की है”. तमिलनाडु में हिंदू पुजारियों के साथ हो रहे व्यवहार पर दुख जताते हुए, जिनके बारे में उनका कहना है कि उन्हें वर्षों से पैसे नहीं दिए गए हैं — जबकि ईसाई और मुस्लिम मौलवी अच्छी कमाई करते हैं. “यह सच है कि दक्षिण मुसलमानों का अधिक सम्मान करता है. यह भी एक सच्चाई है कि दक्षिण में हिंदुओं का उतना सम्मान नहीं होता है.”

वे चेट्टियार क्षेत्र में स्वयंसेवा करने के लिए अयोध्या आए थे और एक हिंदू के रूप में उन्हें इतना मान्य महसूस हुआ कि उन्होंने यहीं रहने और कभी-कभार जब भी संभव हो अपने परिवार से मिलने का फैसला किया है.

राजनीतिक रूप से भी उनका कहना है कि भाजपा और आरएसएस के प्रति उनका समर्थन उन्हें तमिलनाडु में उपहास के पात्र अल्पमत में रखता है. उनके लिए, भाजपा ने भारत को मानचित्र पर रखा है — इस तथ्य का ज़िक्र करते हुए कि रूस और भारत रुपये में व्यापार तय करने पर सहमत हुए थे, वे उदाहरण देते हैं कि कैसे “यूक्रेन-रूस युद्ध के बाद दुनिया अब रुपये में व्यापार करती है.”

यह एक आधा सच है जो व्हाट्सएप यूनिवर्सिटी के जरिए से भारत सरकार के गौरव को बढ़ा रहा है. लक्ष्मणन एक अन्य यूट्यूब वीडियो का ज़िक्र करते हैं, जिसे उन्होंने हाल ही में देखा था जिसमें वक्ता पृथ्वीराज चौहान की वीरता के बारे में बात करता है — यह उनके 54 साल में पहली बार था कि उन्होंने चौहान के बारे में सुना था. वे बताते हैं कि गजनी के महमूद ने भारत पर 17 बार आक्रमण किया था और स्कूली बच्चों को इतिहास की कक्षाओं में यह पढ़ाया जाता था, लेकिन चौहान की सफल रक्षा के बारे में कभी नहीं सिखाया गया. यह एक तकनीकी बात है कि चौहान के राजपूत कबीले ने वास्तव में 1191 में मोहम्मद गोरी को हराया था, गजनी को नहीं.

यह सब केवल इस सामान्य भावना को बढ़ाता है कि इतिहास में हिंदू शक्ति का अनादर किया गया है — और यह अनादर आधुनिक, धर्मनिरपेक्ष भारत में फैल गया है. यही कारण है कि राम मंदिर उस अतीत का बदला लेने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम का प्रतीक है जिसमें हिंदुओं को व्यवस्थित रूप से दबाया गया था.

Crowds of people walking towards Ram Mandir | Vandana Menon | ThePrint
राम मंदिर की ओर बढ़ती लोगों की भीड़ | फोटो: वंदना मेनन/दिप्रिंट

लेकिन लक्ष्मणन और उनके साथ मौजूद अन्य तमिल तीर्थयात्रियों का कहना है कि वे धर्मनिरपेक्षता के सिद्धांत में विश्वास करते हैं. उन्होंने पूछा, “भारत के मुसलमान और कहां जाएंगे? भारत धर्मनिरपेक्ष है और होना भी चाहिए — राम राज्य भी एक धर्मनिरपेक्ष राज्य था.” उनका गुस्सा अल्पसंख्यक समुदायों की रक्षा की कीमत पर हिंदू गौरव को “दबाने” की कोशिश करने वाली पिछली सरकारों पर अधिक है.

उन्होंने आगे कहा, “मुझे हिंदू होने पर गर्व है. अगर तुम मुझे दबाओगे तो भी मैं उठ खड़ा होऊंगा. वही सच्चा राम राज्य है.”


यह भी पढ़ें: राम के ननिहाल और ससुराल ने अयोध्या में भेजे भव्य उपहार — चांदी के खड़ाऊ, आभूषण, चावल के ट्रक


हिंदुओं को दरकिनार करना

पांचाल ने अयोध्या के राम मंदिर तक पहुंचने के लिए ट्रेन से बस तक लगभग एक हज़ार किलोमीटर की यात्रा की. उन्होंने राम के घर तक की लंबी यात्रा के नक्शेकदम पर चलने की कल्पना की.

पेशे से तकनीकी इंजीनियर, पांचाल का जन्म और पालन-पोषण इंदौर में हुआ, जिसे उन्होंने एक विशिष्ट मध्यमवर्गीय परवरिश बताया – सख्त माता-पिता और एक बड़ी बहन के साथ, जो शादीशुदा हैं और दिल्ली में रहती हैं. वे खुद को राजनीतिक रूप से तटस्थ और आध्यात्मिक बताते हैं, उन्होंने अपनी युवावस्था में एक आश्रम में समय बिताया था, जहां उनके गुरुओं ने उन्हें उनके विश्वास का “सही अर्थ” सिखाया था.

The shutters of stores located in the roads leading up to the Ram Mandir have been painted with Hindu iconography | Suraj Singh Bisht | ThePrint
राम मंदिर तक जाने वाली सड़कों पर स्थित दुकानों के शटर को हिंदू प्रतीकों के साथ चित्रित किया गया है | फोटो: सूरज सिंह बिष्ट/दिप्रिंट

बचपन में ही उन्हें असमानताओं का एहसास हुआ. एक हिंदू के रूप में उन्हें हमेशा “स्वतंत्र रूप से सोचने” के लिए प्रोत्साहित किया जाता था — उनका कहना है कि उन्हें अपनी पसंद खुद चुनने की इज़ाज़त थी, खासकर जब अपने कपड़े खुद चुनने और मंगलवार को छोड़कर मांसाहारी भोजन खाने की अनुमति देने जैसी चीज़ों की बात आती थी. पूरे भारत में हिंदुओं की संस्कृतियां अलग-अलग हैं, लेकिन वे अपने धर्म की बड़ी छतरी के नीचे एकजुट हैं — पंचाल के अनुसार, केरल के मलयाली गोमांस खा सकते हैं और अपने भोजन में नारियल का उपयोग कर सकते हैं, लेकिन उनकी बुनियादी मान्यताएं उनके जैसी ही हैं. उन्होंने दक्षिण और दक्षिण पूर्व एशिया में हिंदू धर्म के प्रसार का भी उदाहरण दिया कि कैसे हिंदू धर्म संस्कृतियों को स्वतंत्र रूप से विकसित होने की अनुमति देता है.

लेकिन उन्होंने मुस्लिम समुदाय पर पड़ने वाले “धार्मिक और सामाजिक-राजनीतिक दबाव” पर ध्यान दिया, जिससे उनका कोई मित्र नहीं है. इन “दबावों” में युवा मुस्लिम लड़कियों को हिजाब पहनने के लिए मजबूर किया जाना शामिल है, जिसे उन्होंने पसंद की पूर्ण अनुपस्थिति के रूप में वर्णित किया.

30-वर्षीय ने कहा, “मुसलमानों को वे काम करने पड़ते हैं जो वे नहीं चाहते, जैसे खुद को छिपाना. हम हिंदू खुले हैं. मुस्लिम बच्चों का कम उम्र में ही ब्रेनवॉश कर दिया जाता है. मैंने ये चीज़ें अपनी आंखों से देखी हैं! मैंने बहुत कुछ देखा और अनुभव किया है. इतिहास में हिंदू खतरे में थे, लेकिन हर कोई यह भूल गया है. अब लोग सोचते हैं कि दूसरे लोग खतरे में हैं.”

जब हिंदू खतरे में थे, उसके सटीक उदाहरण कहीं खो गए हैं. पांचाल उन सवालों से परेशान हैं जो उनकी कहानी को खोखला कर रहे हैं. वे अपनी आंखें घुमाते हैं और फिर धैर्यपूर्वक समझाते हैं.

उन्होंने कहा, “आज भारत में हिंदू आपस में बंटे हुए हैं, लेकिन मुस्लिम और ईसाई एकजुट हैं. क्योंकि वे दबाव में हैं. दबाव उन्हें बांधता है. और अगर आप भारत में किसी समूह में नहीं हैं, तो आप असुरक्षित हैं.”

मुस्लिम और ईसाई समुदायों के मजबूत पहचान चिह्नों पर चिंता के साथ-साथ, अल्पसंख्यक तुष्टीकरण का मिथक हिंदू मन में व्याप्त है.

हालांकि, बहुत सारे शोध — जैसे कि हाल ही में अलेफ प्रकाशन लव जिहाद एंड अदर फिक्शन्स: सिंपल फैक्ट्स टू काउंटर वायरल फाल्सहुड्स — इंगित करता है कि तीर्थयात्रा योजनाओं और धार्मिक संस्थानों के समर्थन पर सरकारी खर्च वैसे भी हिंदू बहुमत की ओर झुका हुआ है.

पांचाल के मुताबिक, पूरे भारत में हिंदू जुड़े हुए हैं, भले ही हिंदू धर्म विचार, विश्वास और पूजा में मतभेदों को प्रोत्साहित करता है, लेकिन राजनीति ने उन्हें अलग कर दिया है. यह अब तक है — अयोध्या में राम मंदिर के प्राण प्रतिष्ठा ने अंततः भारत भर के हिंदुओं को महिमा की एक झलक पाने के लिए एकजुट होने का मौका दिया है.

वह अपनी बांहें चारों ओर लहराते हुए कहते हैं, “हमने जो खोया, उसे हम फिर से पा सके, लेकिन यह कुछ ऐसा है जो हमें बहुत पहले ही मिल जाना चाहिए था. आप भारत को हुए नुकसान को देख सकते हैं. अयोध्या उन लोगों के लिए एक केस स्टडी है जो पहले भारत की सुंदरता को नहीं जानते थे.”

A view of Ayodhya | Suraj Singh Bisht | ThePrint
अयोध्या का एक दृश्य | फोटो: सूरज सिंह बिष्ट/दिप्रिंट

हिंदू स्थानों की कमी

लेकिन अयोध्या इस बात का भी प्रमाण है कि सदियों से हिंदुओं को इससे वंचित रखा गया था.

पांचाल और लक्ष्मणन दोनों इस बात पर सहमत हैं कि अयोध्या उनके पैतृक घर — स्वच्छ इंदौर और महानगरीय चेन्नई — के बराबर नहीं है और फिर भी यह उनकी आस्था की अभिव्यक्ति है.

जो लोग पूरे देश से अयोध्या की भव्यता को देखने के लिए आए हैं, वे रामपथ, जो राम मंदिर की ओर जाने वाली सड़क है, के पार क्या मौजूद है, इससे अनजान नहीं हैं. वे मामलों की दयनीय स्थिति देखते हैं: गंदी सड़कें, जीर्ण-शीर्ण इमारतें.

पांचाल ने कहा, दिल्ली जैसे शहर को देखिए. दिल्ली में स्मारक अक्षुण्ण हैं और इतिहास मूर्त है, क्योंकि “विदेशी आक्रमणकारियों” ने उससे पहले मौजूद हिंदू स्थलों को तहस-नहस कर दिया था.

अयोध्या में राम मंदिर | फोटो: वंदना मेनन/दिप्रिंट
अयोध्या में राम मंदिर | फोटो: वंदना मेनन/दिप्रिंट

तनिका सरकार और सुधीर कक्कड़ जैसे शिक्षाविदों ने इस उत्पीड़नकारी कल्पना के बारे में लिखा है. साध्वी ऋतंभरा के भाषणों के विश्लेषण में सरकार और कक्कड़ दोनों ने लिखा है कि कैसे उनके जैसे लोगों ने अयोध्या में इन चिंताओं को बढ़ाया. दुर्गा वाहिनी की संस्थापक ऋतंभरा मुस्लिम, ब्रिटिश और कांग्रेस “शासकों” के हाथों हिंदू क्षति और अपमान की भावना पैदा करने में सक्षम थीं.

काकर ने अपनी 1995 की किताब कलर्स ऑफ वायलेंस: कल्चरल आइडेंटिटीज, रिलिजन एंड कॉन्फ्लिक्ट में लिखा है, “व्यक्तियों की तरह, जहां उत्पीड़न की चिंता अक्सर शरीर की अखंडता के लिए खतरों के रूप में प्रकट होती है, विशेष रूप से मनोवैज्ञानिक घटनाओं के दौरान, ऋतंभरा का भाषण एक कटे हुए शरीर की कल्पना से समृद्ध हो जाता है. वाक्पटुता से, वे एक ऐसे भारत-मातृभूमि- की कल्पना करती हैं, जिसकी भुजाएं काट दी गई हों, हिंदू छाती मेंढकों, खरगोशों और बिल्लियों की तरह खुली हुई हों, युवा हिंदू महिलाओं की जांघें गर्म लोहे की छड़ों से जलाई गई हों; संक्षेप में, शरीर को काट दिया गया, टुकड़े-टुकड़े कर दिया गया, बलात्कार किया गया.”

यह कथा – कि “बाबर के बेटों” ने हिंदू मंदिरों को नष्ट कर दिया, भारत के विभाजन को मजबूर किया और फिर कांग्रेस सरकारों से विशेष व्यवहार का आनंद लिया और इसलिए वे हिंदू समुदाय के लिए खतरा हैं – संघ परिवार के साहित्य और भाषणों में इसे बार-बार दोहराया गया है.

यह इस बात का हिस्सा है कि राम के चित्रण भी क्यों बदल गए हैं. फोटोग्राफर प्रशांत पंजियार अयोध्या पर लिखते हैं, “यहां तक कि दृश्य प्रतिनिधित्व में भी, एक अलग बदलाव आया – आस्था से लेकर राम की छवि के राजनीतिक उपयोग तक. इसके दो रूप थे: पहला था सीता को हटाना और दूसरा था राम की एक नई वीर, सशक्त छवि. इसमें कामुक, पौरुष मुस्लिम पुरुष द्वारा हिंदू महिलाओं को अपवित्र करने का डर भी शामिल है.”

Devotees wait in long queues to have a glimpse of Ram Lalla at Ayodhya on Tuesday | Sagrika Kissu | ThePrint
अयोध्या में रामलला के दर्शन के लिए भक्त लंबी कतारों में इंतज़ार कर रहे हैं | फोटो: सागरिका किस्सु/दिप्रिंट

और अब यह एक सामान्यीकृत तथ्य के रूप में दोहराया जाता है, खासकर पांचाल जैसे लोगों के लिए, जो अपने दावों को साबित करने के लिए किसी विशिष्ट ऐतिहासिक उदाहरण की आवश्यकता महसूस नहीं करते हैं. दृश्य प्रमाण ही काफी है.

पांचाल कहते हैं, किसी को भी ताज महल से आगे देखने की ज़रूरत नहीं है. “हां, सुन्दर तो है, पर इसका महत्व क्या है?” क्या हिंदुओं का इससे कोई संबंध है? नहीं,” उनका सवाल है कि ताज महल जैसे स्मारक को भारत के प्रतीक के रूप में क्यों चित्रित किया गया.

उन्होंने कहा, “अयोध्या में आप देख सकते हैं कि कैसे इस पवित्र शहर को इतने लंबे समय तक महत्व नहीं दिया गया. यही कारण है कि चीजें ऐसी हैं. हां, ज़रूर, भारत का विकास कांग्रेस के शासनकाल में हुआ है, हम उन्हीं की वजह से आधुनिक हैं, लेकिन भाजपा विदेशी तत्वों के बजाय हिंदुओं के लिए अधिक काम कर रही है.”

यह तर्क चमकदार रेशम की साड़ियां पहने तेलुगु महिलाओं के एक समूह के बीच गूंजता है, जिन्होंने विजयवाड़ा से अयोध्या तक की यात्रा की है. 26-वर्षीया गृहिणी विजी कहती हैं, “मजबूत नेतृत्व ही फर्क लाता है. अगर भारत में एक पार्टी होती तो और अधिक काम करना आसान होता.”

यह एक चक्रीय कथा है जो पांचाल के हिंदुओं के बीच विविधता के सिद्धांत को नष्ट कर देती है, लेकिन उनका कहना है कि भाजपा के पास भारत के भविष्य की कुंजी है, यह राम राज्य का पर्याय है. उन्होंने कहा, “आप इसे जो भी कहें – राजनीति, कूटनीति, या राम राज्य – यह सब अब सच हो रहा है. बीजेपी से पहले ये सिर्फ विचार थे. अब यह कार्रवाई है. अगर वे हमें यहां तक लाए हैं, तो वे हमें और भी आगे ले जा सकते हैं. यह सब हम हिंदुओं की साथ मिलकर काम करने की क्षमता पर निर्भर करता है.”


यह भी पढ़ें: सेल्फी, इंस्टाग्राम और भक्त – अयोध्या 7-स्टार रेटिंग के साथ पुनर्जन्म लेने वाला राज्य है


हिंदू पीड़ितों के रक्षक

लेकिन संकटग्रस्त हिंदुओं के लिए हालात बदल रहे हैं. मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा किसी दैवीय संघर्ष की परिणति नहीं, एक नये राजनीतिक प्रभात की शुरुआत है.

भाजपा का राजनीतिक संदेश न केवल हिंदू जीत को प्रमुखता दे रहा है, बल्कि हिंदू उत्पीड़न को भी रेखांकित कर रहा है.

इतिहासकार नायर इसका एक महत्वपूर्ण उदाहरण बताती हैं: 2021 में मोदी ने घोषणा की कि 14 अगस्त को विभाजन स्मृति दिवस के रूप में याद किया जाएगा – इसलिए यह तथ्य अस्पष्ट है कि यह वो दिन है जब पाकिस्तान अंग्रेजों से अपनी आजादी का जश्न मनाता है. “यह हिंदू उत्पीड़न की एकतरफा कहानी है, क्योंकि यह केवल मुस्लिम अत्याचारों को देखने का स्पष्ट संकेत है. वे यह स्वीकार नहीं करना चाहते कि पूर्वी पंजाब, दिल्ली, बिहार, उत्तर प्रदेश, हैदराबाद और पश्चिम बंगाल के साथ-साथ उन क्षेत्रों में भी दोनों तरफ अत्याचार हुए थे जो पाकिस्तान की सीमा में आते थे.”

नायर के मुताबिक, हिंदू दक्षिणपंथियों का भी मानना है कि उन्हें ईसाइयों और मुसलमानों का अनुकरण करने की ज़रूरत है. वे कहती हैं, ”यही कारण है कि एक ईश्वर, एक पाठ, एक पार्टी पर जोर दिया जाता है.”

पांचाल के लिए, संपूर्ण हिंदू धर्म को “भक्ति” – या समर्पण में आसुत किया जा सकता है. वे हिंदू धर्म को एक अखंड के रूप में नहीं देखते बल्कि चाहते हैं कि हिंदू एक रहें.

जब वे गहरा हरा रंग देखते हैं तो तुरंत इस्लाम के बारे में सोचते हैं. वे चाहते हैं कि एक दिन लोग पूरे भारत में भगवा रंग देखें और जानें कि हिंदू भी एकजुट हैं.

(इस ग्राउंड रिपोर्ट को अंग्रेज़ी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें)


यह भी पढ़ें: रामानंदी कौन हैं? अयोध्या में रामानंदियों के ऐतिहासिक शत्रु संन्यासी थे, मुसलमान नहीं


 

share & View comments