Monday, 8 August, 2022
होमडिफेंसऑनलाइन पंजीकरण के पहले दिन IAF की अग्निपथ भर्ती योजना के लिए लगभग 4 हजार नामांकन

ऑनलाइन पंजीकरण के पहले दिन IAF की अग्निपथ भर्ती योजना के लिए लगभग 4 हजार नामांकन

ये पंजीकरण भारतीय वायु सेना के अग्निवीर वायु कार्यक्रम से संबंधित हैं. पहले चरण के लिए ऑनलाइन पोर्टल शुक्रवार सुबह 10 बजे खोला गया था, और 5 जुलाई को बंद हो जाएगा.

Text Size:

नई दिल्ली: दिप्रिंट को पता चला है कि शुक्रवार सुबह 10 बजे ऑनलाइन पंजीकरण पोर्टल खुलने के बाद अग्निपथ भर्ती योजना के तहत भारतीय वायु सेना के अग्निवीर वायु कार्यक्रम के लिए लगभग 3,800 उम्मीदवारों ने पंजीकरण कराया है.

वायुसेना ने ट्विटर पर कहा, ‘अग्निवीरवायु के लिए आवेदन करने के वास्ते पंजीकरण विंडो आज सुबह 10 बजे से चालू है.’

इससे पहले दिन में, वायु सेना ने दो चरणों की भर्ती प्रक्रिया और इसके पंजीकरण कार्यक्रम के विवरण का खुलासा किया था, जबकि यह घोषणा करते हुए कि ऑनलाइन पोर्टल अब सार्वजनिक इस्तेमाल के लिए खुला है.

अनुसूची के अनुसार, पहले चरण के लिए पंजीकरण विंडो 5 जुलाई को बंद हो जाएगी, ऑनलाइन परीक्षा अवधि जुलाई के अंतिम सप्ताह के लिए निर्धारित है.

अनुसूची में यह भी सूचीबद्ध है कि दूसरा चरण अगस्त में आयोजित किया जाएगा. परिणाम और नामांकन प्रक्रिया अगले महीने होगी, पाठ्यक्रम अंततः वर्ष के अंत में शुरू होगा.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

ऑनलाइन पोर्टल के अनुसार, अग्निवीर वायु में आवेदन करने के लिए केवल पुरुष उम्मीदवार ही पात्र हैं. ‘आवेदक भारतीय वायु सेना का नागरिक या सेवारत एनसी (ई) हो सकता है. यदि आप एक नागरिक हैं, तो आपको अविवाहित पुरुष उम्मीदवार होना चाहिए. पोर्टल में कहा गया है.

इससे पहले, भारतीय सेना और नौसेना ने भी अपनी संबंधित भर्ती प्रक्रिया और कार्यक्रम जारी किए थे, दोनों सेवाओं के लिए पंजीकरण विंडो जुलाई में शुरू होने की उम्मीद है.

इस वर्ष सशस्त्र बलों के लिए कुल मिलाकर 46,000 अग्निवीर रंगरूटों को भर्ती करने का लक्ष्य है.

साढ़े 17 से 21 वर्ष के युवाओं को मौका

गत 14 जून को अग्निपथ योजना प्रस्तुत करते हुए सरकार ने कहा था कि साढ़े सत्रह से 21 वर्ष की आयु तक के युवाओं को चार साल के कार्यकाल के लिए भर्ती किया जाएगा जिनमें से 25 प्रतिशत को बाद में नियमित सेवा के लिए रखा जाएगा.

देश के कई हिस्सों में इस योजना के खिलाफ हिंसक विरोध प्रदर्शन हुए थे. कई विपक्षी दलों और सैन्य विशेषज्ञों ने इस योजना की आलोचना करते हुए कहा था कि इससे सशस्त्र बलों की अभियानगत क्षमताओं पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ेगा.

सरकार ने 16 जून को योजना के तहत भर्ती के लिए ऊपरी आयु सीमा को वर्ष 2022 के लिए 21 से बढ़ाकर 23 वर्ष कर दिया था.

अग्निपथ योजना के तहत भर्ती होने वालों को ‘अग्निवीर’ कहा जाएगा.

सेना ने कहा है कि नयी योजना से रक्षा बलों का युवा प्रोफ़ाइल सुनिश्चित होगा और समय के साथ सैनिकों की औसत आयु 32 साल से घटकर 26 वर्ष हो जाएगी.

तीनों सेना प्रमुखों ने इस योजना का पुरजोर समर्थन किया है, जिसे दो साल से अधिक विचार-विमर्श के बाद लाया गया है.

(दिप्रिंट के राघव बिखचंदानी के इनपुट्स के साथ)


यह भी पढ़ें: मोदी जी की देन है लोजिक की बजाय मोजिक, यह अग्निपथ नहीं अज्ञानपथ है


 

share & View comments