Monday, 8 August, 2022
होम50 शब्दों में मतहरिद्वार की 'धर्म संसद' में 'मुसलमानों को मारने' के आह्वान को असामाजिक तत्व कहकर नहीं टाल सकते हैं

हरिद्वार की ‘धर्म संसद’ में ‘मुसलमानों को मारने’ के आह्वान को असामाजिक तत्व कहकर नहीं टाल सकते हैं

दिप्रिंट का 50 शब्दों में सबसे तेज़ नज़रिया.

Text Size:

हरिद्वार की ‘धर्म संसद’ में हिंदू नेताओं द्वारा ‘मुसलमानों को मारने’ का आह्वान अब ज्यादा भयावह हो गया है क्योंकि इस पर चुप्पी, कोई आधिकारिक निंदा और पुलिस कार्रवाई नहीं की गई. अब इस तरह की घटनाओं को असामाजिक तत्व कहकर नहीं टाला जा सकता है–वायरल वीडियो के युग में तो नहीं.

share & View comments