Saturday, 25 June, 2022
होमविदेशयह स्वीकार कर लेना चाहिए कि यूक्रेन नाटो का सदस्य नहीं बन सकता: ज़ेलेंस्की

यह स्वीकार कर लेना चाहिए कि यूक्रेन नाटो का सदस्य नहीं बन सकता: ज़ेलेंस्की

ज़ेलेंस्की ने सोमवार को नाटो से अपने देश पर नो-फ्लाई ज़ोन लागू करने या उसके सदस्य राज्यों को रूस द्वारा हमलों पर नजर रखने का आग्रह किया था.

Text Size:

नई दिल्ली: एक मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोडिमिर ज़ेलेंस्की ने मंगलवार को कहा कि यह स्वीकार करने का समय आ गया है कि यूक्रेन नॉर्थ अटलांटिक ट्रीटी ऑर्गेनाइजेशन (नाटो) का सदस्य नहीं बनेगा.

स्पुतनिक ने संयुक्त अभियान बल के नेताओं की बैठक में ज़ेलेंस्की के हवाले से कहा कि ‘यह साफ है कि यूक्रेन नाटो का सदस्य नहीं है, हम इसे समझते हैं. कई सालों से हमने कथित रूप से ‘खुले दरवाजों’ के बारे में सुना है लेकिन अब हमने यह भी सुना है कि हम वहां एंट्री नहीं कर सकते हैं. यह सच है और हमें इसे स्वीकार करने की जरूरत है.’

उधर, स्पुतनिक ने नाटो जूलियन स्मिथ के दूत का हवाला देते हुए बताया कि इसी दौरान अमेरिका ने कहा है कि वो आकलन करेगा की रूस के सैन्य अभियान के बीच वो यूक्रेन को दूसरी तरह की हवाई रक्षा देने में कितना सक्षम है.

इस बारे में रिपोर्ट में स्मिथ के हवाले से कहा गया है कि ‘आपने राष्ट्रपति और रक्षा सचिव को इस सिलसिले में बात करते सुना है कि हम लगातार आकलन कर रहे हैं कि हमारे दोस्तों की अतिरिक्त ज़रूरतें क्या हैं. हम यह देखना जारी रखेंगे कि हम यूक्रेन को वायु रक्षा के अन्य पहलुओं को प्रदान करने में कितने सक्षम हो सकते हैं.’

स्मिथ ने आगे कहा, ‘निश्चित रूप से, आपने यह खबर देखी है कि कांग्रेस ने हाल ही में यूक्रेन के लिए अतिरिक्त 13.6 बिलियन अमरीकी डॉलर के समर्थन को मंजूरी दी है.’

गौरतलब है कि ज़ेलेंस्की ने सोमवार को नाटो से अपने देश पर नो-फ्लाई ज़ोन लागू करने या उसके सदस्य राज्यों को रूस द्वारा हमलों पर नजर रखने का आग्रह किया था.


यह भी पढ़ें: जल, जमीन, जंगल का संघर्ष ‘स्प्रिंग थंडर’ में


share & View comments