scorecardresearch
Wednesday, 17 July, 2024
होमराजनीति'जब तमिलनाडु बढ़ता है तो भारत बढ़ता है': PM Modi ने कैसे राज्य के लिए पेश किया BJP का विजन

‘जब तमिलनाडु बढ़ता है तो भारत बढ़ता है’: PM Modi ने कैसे राज्य के लिए पेश किया BJP का विजन

मोदी ने कहा कि तमिलनाडु का विकास केंद्र सरकार की प्राथमिकता है, जबकि सीएम स्टालिन ने प्रधानमंत्री से सड़क परियोजनाओं में तेजी लाने और लंबित परियोजनाओं के लिए धन का आवंटन बढ़ाने का आग्रह किया.

Text Size:

चेन्नई : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को तमिलनाडु में 2024 के लोकसभा चुनावों से ठीक पहले बुनियादी ढांचा परियोजनाओं के उद्घाटन के दौरान, तमिल कवियों को याद करते हुए राज्य को ‘भारत के विकास इंजनों में से एक’ करार देते हुए, तमिलनाडु में एक मजबूत पिच तैयार करने की कोशिश की- जहां पर कोई भी राष्ट्रीय पार्टी पांच दशकों से ज्यादा समय से राजनीतिक तौर पर हावी नहीं हो पाई है.

राजधानी चेन्नई में, पीएम ने 5,000 करोड़ रुपये से अधिक की बुनियादी ढांचा परियोजनाओं का उद्घाटन किया और बताया कि ‘तमिलनाडु को रेलवे के बुनियादी ढांचे के लिए अब तक का सबसे ज्यादा 6,000 करोड़ रुपये से अधिक का बजट दिया गया है’.

भाजपा के नेतृत्व वाली एनडीए सरकार का राज्य पर ध्यान देने की बात करते हुए, पीएम ने शहर के एल्सटॉम मैदान में एक जनसभा में कहा कि ‘तमिलनाडु का विकास हमारे लिए प्राथमिकता है’, यह कहते हुए कि जिन परियोजनाओं का उन्होंने उद्घाटन किया था, वे राज्य को आगे ले जाने में बड़ा योगदान देंगी.

उन्होंने कहा, ‘जब उच्च गुणवत्ता वाला बुनियादी ढांचा यहां रोजगार सृजित करता है, तो आय बढ़ती है और तब तमिलनाडु बढ़ता है – और जब तमिलनाडु बढ़ता है, तो भारत बढ़ता है,’ पीएम ने ‘तमिल भाषा, तमिल संस्कृति और चेन्नई की जीवंतता’ को लेकर अपने लगाव के बारे में भी बात की.

जनसभा में मौजूद तमिलनाडु के मुख्यमंत्री और डीएमके अध्यक्ष एम.के. स्टालिन ने राज्य के लिए केंद्र के समर्थन की अहमियत बताई. ‘राज्यों का फर्ज है कि वे लोगों की जरूरतें पूरी करें. इसलिए मैं इस बात पर जोर देना चाहूंगा कि राज्यों की वित्तीय जरूरतों को पूरा करने के लिए केंद्र सरकार का सहयोग जरूरी है.’

स्टालिन ने प्रधानमंत्री से बुनियादी ढांचा परियोजनाओं के लिए धन जारी करने का आग्रह किया. सीएम ने कहा, ‘मैं पीएम से कई महत्वपूर्ण सड़क परियोजनाओं में तेजी लाने का आग्रह करता हूं. मैं पीएम से तमिलनाडु में रेलवे परियोजनाओं और राज्य में अन्य लंबित परियोजनाओं के लिए फंड बढ़ाने का अनुरोध करता हूं.’

मोदी शनिवार दोपहर 3 बजे राज्य में पहुंचे थे और हवाईअड्डे पर मुख्यमंत्री स्टालिन, राज्यपाल आर.एन. रवि, केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया, डीएमके सांसद टीआर बालू और कनिमोझी, और डीएमके राज्य के मंत्री उधयनिधि स्टालिन और थंगम थेनारासु समेत अन्य लोगों ने स्वागत किया.

इस दौरान चेन्नई और तांबरम में लगभग 26,000 पुलिसकर्मियों के साथ शहर में पांचस्तरीय सुरक्षा व्यवस्था थी.

भाजपा ने सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ पीएम के भव्य स्वागत के लिए तैयारी की थी, और बड़ी संख्या में पार्टी कार्यकर्ता उन मार्गों के साथ कई पॉइंट पर जुटे जिधर से पीएम और उनके काफिले को जाना था. उन्होंने ‘मोदी की जय’ और ‘भारत माता की जय’ के नारे लगाए और पीएम के वाहन पर फूल बरसाए.


यह भी पढे़ं : रक्षा निर्यातों में ऊंची छलांग लगाने के सरकारी दावों में अभी नारेबाजी ज्यादा दिखती है


मोदी कहा कि हम समय से पहले ही काम पूरा कर देते हैं

मोदी ने पहली परियोजना चेन्नई अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे पर 1,260 करोड़ रुपये की अत्याधुनिक एकीकृत टर्मिनल बिल्डिंग (फेज -1) का उद्घाटन किया. इस अवसर पर स्टालिन, राज्यपाल रवि, सिंधिया और राज्य मंत्री डॉ एल मुरुगन उपस्थित थे.

प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) के अनुसार, यह नया टर्मिनल भवन ‘हवाई अड्डे की यात्री सेवा क्षमता 23 मिलियन यात्री प्रति वर्ष (एमपीपीए) से 30 एमपीपीए तक बढ़ाएगा’.

पीएम ने चेन्नई-कोयम्बटूर वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन को भी हरी झंडी दिखाई, और थिरुथुरईपोंडी और अगस्तियामपल्ली के बीच 294 करोड़ रुपये के गेज कन्वर्जन सेक्शन का उद्घाटन किया. उन्होंने 3,700 करोड़ रुपये की सड़क परियोजनाओं की आधारशिला भी रखी, जिसमें मदुरै में 7.3 किलोमीटर का ऊंचा गलियारा और NH-785 से 24.4 किलोमीटर की चार लेन की सड़क शामिल है.

परियोजनाओं को लॉन्च करते समय, पीएम ने केंद्र में सत्ता में पूर्व की यूपीए सरकार (2004 से 2014) के साथ अपनी सरकार के कामकाज की तुलना की. पीएम ने कहा, ‘पहले, बुनियादी ढांचा परियोजनाओं का मतलब देरी था लेकिन अब उनका मतलब डिलीवरी है. देरी से डिलीवरी तक का यह सफर वर्क कल्चर की वजह से हुआ है. हम अपने करदाताओं द्वारा भुगतान किए जाने वाले एक-एक रुपये के लिए जवाबदेह महसूस करते हैं. हम एक निश्चित समय सीमा के साथ काम करते हैं और समय से पहले ही काम पूरा कर देते हैं.’

उन्होंने यह भी बताया कि ‘तमिलनाडु को रेलवे बुनियादी ढांचे के लिए 6,000 करोड़ रुपये से अधिक का सर्वकालिक उच्च बजट आवंटित किया गया है, 2009 और 2014 के बीच प्रति वर्ष आवंटित औसत राशि 900 करोड़ रुपये से कम रही है’.

सत्ता में एनडीए सरकार के पिछले 9 वर्षों के बारे में बात करते हुए, मोदी ने कहा कि, ‘2014 और 2023 के बीच, तमिलनाडु में लगभग राष्ट्रीय राजमार्ग में 2,000 किमी का इजाफा हुआ है, जबकि 2004 और 2014 के बीच राज्य में यह 800 किमी था’.

पीएम ने कहा, 2014-2015 में, तमिलनाडु में राष्ट्रीय राजमार्गों के विकास और रखरखाव में निवेश ‘1,200 करोड़ रुपये था जो 2022-2023 में छह गुना बढ़कर 8,200 करोड़ रुपये हो गया’.

पीएम ने देश में कुल इंफ्रास्ट्रक्चर आवंटन के बीच समानताएं भी बताईं और कहा: ‘हमने इंफ्रास्ट्रक्चर के लिए 10 लाख करोड़ रुपये की रिकॉर्ड राशि निर्धारित की है – यह 2014 की तुलना में पांच गुना अधिक है. रेलवे के लिए अलग रखी गई राशि भी एक रिकॉर्ड है.’

शनिवार को कार्यक्रमों के दौरान, पीएम मोदी और सीएम स्टालिन के बीच काफी सौहार्द नजर आया, दोनों नेताओं को अक्सर मुस्कुराते हुए और हाथ पकड़ते हुए देखा गया.

हालांकि, स्टालिन 2024 के लोकसभा चुनाव से पहले भाजपा के खिलाफ सबसे मजबूत आवाजों में से एक रहे हैं. मार्च के बाद से डीएमके ने कम से कम दो सार्वजनिक कार्यक्रम किए, जिसमें कई विपक्षी नेताओं की उपस्थिति थी, इस दौरान सीएम ने सभी समान विचारधारा वाले दलों को भाजपा के खिलाफ एकजुट होने का आह्वान किया था.

पीएम ने तमिल कवियों का जिक्र किया

भाजपा का तमिलनाडु में मजबूत आधार नहीं है और 2021 के राज्य चुनाव में 234 सदस्यीय विधानसभा में 20 सीटों पर चुनाव लड़कर केवल चार सीटें ही जीत सकी थी. 2019 के लोकसभा चुनावों में, वह राज्य से एक भी सीट नहीं जीत सकी थी.

इस प्रकार पार्टी आक्रामक रूप से राज्य में विस्तार करने की कोशिश कर रही है और पीएम मोदी ने अतीत में अपने भाषणों के दौरान तमिल कनेक्शन बनाने के कई प्रयास कर चुके हैं.

शनिवार को चेन्नई के विवेकानंद हाउस में, जहां पीएम ने श्री रामकृष्ण मठ की 125वीं वर्षगांठ समारोह में भाग लिया, मोदी ने तमिल कवि तिरुवल्लुवर को उद्धृत किया और तिरुक्कुरल से तमिल में पंक्तियों का पाठ किया.

वह पहले भी कनियन पूंगुंदरनार, अव्वयार, सुब्रमनिया भारती जैसे तमिल कवियों का जिक्र कर चुके हैं. 2019 में संयुक्त राष्ट्र महासभा में अपने संबोधन के दौरान, उन्होंने पूंगुंदरनार को उद्धृत करते हुए कहा था, ‘याधुम ऊरे यावरुम केलिर (हर जगह एक है और सभी नागरिक रिश्तेदार हैं)’.

2020 में, लद्दाख की औचक यात्रा के दौरान सैनिकों को संबोधित करते हुए, मोदी ने तिरुवल्लुवर को उद्धृत किया था और 2020 के ‘मन की बात’ संबोधन में कवयित्री अव्वयार का उल्लेख किया था. पिछले साल चेन्नई की यात्रा के दौरान, मोदी ने राष्ट्रवादी कवि भारती के एक लोकप्रिय कविता के साथ जनता को संबोधित किया और कहा कि हर क्षेत्र में तमिलनाडु का कोई न कोई उत्कृष्ट प्रदर्शन कर रहा है.

इस बीच, कांग्रेस ने शनिवार को ‘राहुल गांधी को अलोकतांत्रिक रूप से हटाने पर लोकतंत्र को नष्ट करने’ को लेकर पीएम के खिलाफ काले झंडे दिखाने की कोशिश की. खबरों के मुताबिक, पुलिस ने सत्यमूर्ति भवन, थाउजेंड लाइट्स, रोयापेट्टा और अन्ना सलाई में पार्टी कार्यकर्ताओं से 2,000 से अधिक काले गुब्बारे जब्त किए.

(संपादन- इन्द्रजीत)

(इस ख़बर को अंग्रेजी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें)


यह भी पढ़ें: रिज़र्व बैंक ने पॉलिसी रेट में बढ़ोतरी न करके आर्थिक वृद्धि को चुना, जो सरकार को भी भा रहा है


 

share & View comments