scorecardresearch
Saturday, 20 July, 2024
होमराजनीतिSIT की हिरासत में एचडी रेवन्ना, कथित तौर पर उनके इशारे पर महिला का किया गया था अपहरण

SIT की हिरासत में एचडी रेवन्ना, कथित तौर पर उनके इशारे पर महिला का किया गया था अपहरण

एचडी रेवन्ना पर महिला का अपहरण करने का आरोप लगाने वाले परिवार के सदस्यों का कहना है कि उसे हुनसुर के पास किसी खेत' में बंधक बनाकर रखा गया था, लेकिन वह भागने में सफल रही और परिवार को सतर्क कर दिया.

Text Size:

हासन: दिप्रिंट को मिली जानकारी के मुताबिक मैसुरु की 55 साल की एक महिला, जिसका कथित तौर पर कर्नाटक के पूर्व मंत्री एच.डी. रेवन्ना के इशारे पर 29 अप्रैल को अपहरण कर लिया गया था, वहां से भाग गई है जहां उसे बंधक बनाकर रखा गया था और अब वह विशेष जांच दल (एसआईटी) के पास है.

महिला के परिवार के मुताबिक, वह शनिवार तड़के भाग निकली.

परिवार के एक सदस्य ने दिप्रिंट को बताया, “उसे हुनसुर के पास किसी खेत में रखा जा रहा था. वह किसी तरह भागने में सफल रही. धान के खेतों से होते हुए वह एक रिश्तेदार के घर पहुंची, जहां से उसने हमें फोन किया.”

जब महिला के 20 वर्षीय बेटे ने, अपनी मां के अपहरण का आरोप लगाते हुए, जनता दल (सेक्युलर) के विधायक एच.डी. रेवन्ना और उनके सहयोगी सतीश बाबन्ना के खिलाफ मामला दर्ज कराया तो कर्नाटक पुलिस और एसआईटी इस महिला की तलाश में जुट गई.

रेवन्ना को एसआईटी ने शनिवार को बैंगलुरु से उनके पिता पूर्व प्रधानमंत्री एच.डी. देवेगौड़ा के आवास से हिरासत में लिया.

यह उन तीन औपचारिक शिकायतों में से एक है जो हासन में सामने आए स्कैंडल में दर्ज की गई हैं, जिसमें पूर्व प्रधान मंत्री के बेटे और पोते के शामिल होने का आरोप है.

कुछ अनुमानों के अनुसार, 3,000 से अधिक अश्लील वीडियो हैं जिनमें कथित तौर पर रेवन्ना के बेटे प्रज्वल को कई महिलाओं का यौन उत्पीड़न करते हुए दिखाया गया है, उसे पेन ड्राइव के माध्यम से जारी किए गए थे, जिन्हें 26 अप्रैल को हासन में मतदान होने से कुछ दिन पहले सार्वजनिक स्थानों पर छोड़ दिया गया था.

दिप्रिंट ने पहले मैसूरु की उस महिला के परिवार से बात की जो 29 अप्रैल की रात 9 बजे से लापता थी. परिवार का दावा है कि महिला को अभी भी प्रज्वल से जुड़े स्कैंडल के बारे में पता नहीं है और उसे इस बात का भी पता नहीं है कि उसे बंधक बनाकर क्यों रखा गया है. परिवार के एक सदस्य ने कहा कि वह अब भी सोचती है कि वह कथित तौर पर ‘सीसीटीवी कैमरे में कैद हुए फर्जी वोट डालने’ के कारण मुसीबत में है.

“उसने सोचा कि फर्जी वोट के मुद्दे के कारण उसे बंधक बनाया जा रहा है और जब वह भाग निकली और कुछ पुलिसकर्मियों को देखा, तो वह मदद के लिए उनके पास नहीं गई. उसने सोचा कि वे भी उसे खोज रहे थे.

परिवार के अनुसार, महिला ने एक अन्य रिश्तेदार को फोन किया और आखिरकार शनिवार दोपहर 2 बजे के आसपास अपने परिवार से संपर्क स्थापित किया. इसके बाद परिवार पुलिस के पास पहुंचा, जिसने एसआईटी को सूचित किया. महिला वर्तमान में एसआईटी के साथ है.

पुलिस सूत्रों ने भी दिप्रिंट से पुष्टि की कि महिला अब एसआईटी के पास है.

इस बीच, एसआईटी ने शनिवार को हासन जिले के होलेनरसीपुरा में रेवन्ना परिवार के आवास पर सात घंटे तक मौके पर मुआयना किया. सूत्रों के मुताबिक, एसआईटी के साथ एक महिला भी थी जो रेवन्ना के घरेलू कर्मचारियों (Domestic Staff) का हिस्सा थी और उसने एक मामला दर्ज कराया था जिसमें उसने पिता और पुत्र पर आपराधिक धमकी, यौन उत्पीड़न और अन्य गंभीर आरोप लगाए थे. पुलिस सूत्रों ने कहा कि एसआईटी उसे हासन के आधिकारिक सांसद क्वार्टर में ले गई जहां आगे की जांच की जाएगी.

(इस खबरको अंग्रेज़ी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.)


यह भी पढ़ेंः राहुल Vs स्मृति ईरानी: एक के ‘आदर्श ग्राम’ ने उनका पुतला फूंका, तो दूसरे को मिलीं CSR फंड से बनी सड़कें


 

share & View comments