scorecardresearch
Thursday, 30 May, 2024
होमराजनीतिजेपी युग के सज्जन राजनेता, नीतीश के ‘लक्ष्मण’, सुशील मोदी बिहार में एक खालीपन छोड़ गए हैं

जेपी युग के सज्जन राजनेता, नीतीश के ‘लक्ष्मण’, सुशील मोदी बिहार में एक खालीपन छोड़ गए हैं

तीन बार के डिप्टी सीएम और बिहार विधानसभा में विपक्ष के पूर्व नेता, वरिष्ठ भाजपा नेता सुशील कुमार मोदी का कैंसर से जूझने के बाद सोमवार को निधन हो गया.

Text Size:

पटना: 1990 से 2020 तक बिहार के राजनीतिक परिदृश्य में तीन शख्सियत उभर कर सामने आए — लालू प्रसाद यादव, राम विलास पासवान और नीतीश कुमार. फिर भी, सुशील कुमार मोदी एक प्रभावशाली चौथी शक्ति के रूप में उभरे.

दिवंगत अर्थशास्त्री शैबाल गुप्ता ने एक बार टिप्पणी की थी, “सुशील कुमार मोदी में नीतीश कुमार और लालू यादव जैसा करिश्मा नहीं है,” लेकिन उनका दृढ़ विश्वास था कि अगर मौका मिलता तो मोदी बिहार के लिए एक उत्कृष्ट मुख्यमंत्री बन सकते थे.

दुर्भाग्य से सुशील मोदी के लिए सीएम बनने की उनकी संभावनाएं तब धूमिल हो गईं जब उनकी पार्टी ने नवंबर 2005 के विधानसभा चुनावों में नीतीश कुमार को राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) के मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार चुना. उन्होंने इस संवाददाता से कहा, “ठीक है, यह पार्टी का आदेश है और मुझे इसे स्वीकार करना होगा.”

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता मोदी का सोमवार रात निधन हो गया. 72-वर्षीय नेता कैंसर से पीड़ित थे. समाचार एजेंसी पीटीआई ने अस्पताल के सूत्रों के हवाले से बताया कि रात 9:45 बजे अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में उन्होंने अपनी अंतिम सांस ली.

पूर्व केंद्रीय मंत्री मुरली मनोहर जोशी ने नीतीश और मोदी को बिहार की राजनीति की ‘राम-लक्ष्मण’ की जोड़ी बताया. हालांकि, नीतीश के साथ मोदी के घनिष्ठ संबंधों के कारण अंततः 2020 के विधानसभा चुनावों के बाद उन्हें राजनीतिक रूप से किनारे कर दिया गया.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

सुशील मोदी ने उन्हें हटाने के बाद कहा था, “मुख्य जोर लालू प्रसाद को सत्ता से बाहर रखना था और भाजपा अकेले उस लक्ष्य को हासिल करने में सक्षम नहीं थी. यह बिहार के हित में था कि नीतीश कुमार के साथ गठबंधन काम आया.”

72-वर्षीय वाजपेयी युग के अंतिम भाजपा नेताओं में से एक थे और अपने सज्जनतापूर्ण आचरण के लिए जाने जाते थे. अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) के पूर्व कार्यकर्ता और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के प्रचारक, मोदी लगातार भड़काऊ बयानों से बचते रहे जो सांप्रदायिक अशांति भड़का सकते थे.

जब भी बिहार में विश्व हिंदू परिषद (वीएचपी) और बजरंग दल के कार्यकर्ताओं के बीच सांप्रदायिक तनाव भड़का, तो स्थिति को कम करने के लिए नीतीश कुमार उन पर निर्भर रहे.

उदाहरण के लिए 2018 में भागलपुर में एक सांप्रदायिक हिंसा भड़क उठी, जिसमें केंद्रीय मंत्री अश्विनी कुमार चौबे के बेटे अर्जित शाश्वत शामिल थे. भाजपा और जनता दल (यूनाइटेड) के बीच तनाव बढ़ने पर शाश्वत फरार हो गए. यह मोदी ही थे जिन्होंने उन्हें आत्मसमर्पण करने के लिए मनाया.

नेता मुसलमानों और भाजपा के साथ उनके संबंधों के बारे में भी व्यावहारिक थे. उन्होंने इस संवाददाता को बताया था, “मुझे हैरानी है कि मुसलमान भाजपा में क्यों शामिल होते हैं. कुछ मौकों पर, जब हमारे कुछ मुस्लिम नेताओं ने इस्लाम के खिलाफ बोलना शुरू किया तो मैंने उन्हें माइक से बाहर कर दिया.”

उनकी पत्नी, जेसिका मोदी, केरल की एक ईसाई हैं और उनकी 1985 की शादी एक साधारण समारोह थी जिसमें केवल एक गिलास शरबत परोसा गया था.

उन्होंने 2017 में जब नीतीश कुमार दहेज विरोधी अभियान शुरू कर रहे थे, उनका साथ दिया था. अपने बेटे की शादी में उन्होंने एक आदेश जारी किया जिसमें उस कार्यक्रम में उपहार देने पर सख्ती से रोक लगाई गई, जिसमें राजनीति से जुड़े सभी लोग शामिल हुए थे. इसके अलावा, अन्य भाजपा नेताओं के विपरीत, उन्होंने कभी भी अपने बेटे को राजनीति में आगे नहीं बढ़ाया.

उनके निधन से एक खालीपन आ गया, जिसकी कमी बिहार को खलेगी. उनके लंबे समय से सहयोगी और राजनीतिक प्रतिद्वंद्वी शिवानंद तिवारी ने दिप्रिंट को बताया, “सुशील के निधन से बिहार की राजनीति में एक खालीपन आ गया है, जिसे भरना बहुत मुश्किल होगा.”

इस बीच, मंगलवार को सीएम नीतीश कुमार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा निर्वाचन क्षेत्र में चुनाव लड़ने के लिए नामांकन पत्र दाखिल करने में शामिल होने के लिए वाराणसी जाना था, लेकिन उन्होंने भाजपा में अपने सबसे करीबी दोस्तों में से एक की मृत्यु पर शोक व्यक्त करने के लिए अपना कार्यक्रम रद्द कर दिया.


यह भी पढ़ें: भाजपा के वरिष्ठ नेता सुशील कुमार मोदी का निधन, प्रधानमंत्री ने जताया शोक


लालू-मोदी प्रतिद्वंद्विता

लालू यादव और सुशील मोदी के बीच प्रतिद्वंद्विता 1970 के दशक की शुरुआत में जेपी आंदोलन से चली आ रही है, जब वे क्रमशः पटना विश्वविद्यालय छात्र संघ के अध्यक्ष और महासचिव थे.

सुशील मोदी ने एक बार लालू पर छात्र आंदोलन के लिए दिए गए धन के दुरुपयोग का आरोप लगाया था, जिसके कारण उनका जयप्रकाश नारायण (जेपी) से टकराव हुआ था. मोदी ने याद किया, “मैंने लालू के खिलाफ जेपी से शिकायत की और आरोप लगाया कि वे छात्र आंदोलन के नाम पर धन जुटा रहे हैं. लालू को जेपी ने बुलाया था और लालू ने ताड़ी पीने की बात स्वीकार की थी, लेकिन चंदा लेने से इनकार किया था.”

चारा घोटाला मामले में पटना हाई कोर्ट में याचिकाकर्ताओं में से एक के रूप में मोदी ने लालू को सज़ा दिलाने में अहम भूमिका निभाई. 2017 में लालू और उनके परिवार द्वारा कथित तौर पर अवैध रूप से अर्जित की गई संपत्ति पर उनके नेतृत्व में छह प्रेस कॉन्फ्रेंस नीतीश को — जो दो साल से लालू की राजद के साथ गठबंधन में सरकार का नेतृत्व कर रहे थे — को एनडीए के पाले में वापस भेजने के लिए पर्याप्त थे.

फिर भी, अपनी भयंकर राजनीतिक प्रतिद्वंद्विता के बावजूद, दोनों ने व्यक्तिगत संपर्क बनाए रखा. मोदी ने इस संवाददाता को बताया, “जब मैं 2005 में पहली बार डिप्टी सीएम बना और अपने काफिले में लालू जी के घर को पार किया, तो मुझे उनका फोन आया. लालू ने कहा, हमको चिढ़ा रहे हो.”

खालीपन को भरना

बिहार के तीन बार के उपमुख्यमंत्री और वित्त विभाग भी संभाल चुके मोदी का उनके अध्ययनशील स्वभाव के लिए सम्मानत किया जाता था और तत्कालीन केंद्रीय वित्त मंत्री प्रणब मुखर्जी भी उनकी प्रशंसा करते थे. 2011 में मुखर्जी ने उन्हें वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) समिति का प्रमुख बनाया, जहां उन्होंने कर सुधार के कार्यान्वयन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई.

मोदी पहली बार 2005 के विधानसभा चुनाव के बाद बिहार के डिप्टी सीएम बने, जब एनडीए ने 243 विधानसभा सीटों में से 145 सीटें हासिल कीं.

राज्य में भाजपा विधायक दल के नेता के रूप में, उन्हें सीएम नीतीश कुमार द्वारा पार्टी के लिए नामित सभी मंत्री पद सौंपे गए थे. केंद्रीय नेतृत्व के साथ चर्चा के बाद मोदी ने वित्त और वाणिज्यिक कर विभाग अपने पास रखते हुए अपने भाजपा सहयोगियों को मंत्रालय सौंप दिए.

विशेष रूप से उन्होंने बजट प्रस्तुति से पहले आर्थिक सर्वेक्षण की प्रथा शुरू की. उन्होंने सामाजिक संगठनों, उद्योगपतियों और व्यापारियों सहित विभिन्न हितधारकों के साथ बजट-पूर्व परामर्श का भी नेतृत्व किया और लिंग और बाल बजट पेश किया.

2010 के विधानसभा चुनाव के बाद मोदी फिर से डिप्टी सीएम बने, जहां एनडीए ने 243 में से 206 सीटों पर दावा करते हुए शानदार जीत हासिल की.

हालांकि, 2013 में उनके कार्यकाल को घटा दिया गया, जब नीतीश कुमार ने भाजपा से नाता तोड़ लिया. 2017 में जब नीतीश ने बीजेपी के साथ गठबंधन किया तो मोदी ने तीसरी बार डिप्टी सीएम के रूप में वापसी की.

2020 के चुनावों में एनडीए को मामूली अंतर से जीत मिली, जिससे कई लोगों को मोदी के दोबारा उपमुख्यमंत्री नियुक्त होने की उम्मीद थी. फिर भी, अप्रत्याशित रूप से उनकी जगह तारकिशोर प्रसाद और रेनू देवी ने ले ली.

2022 में नीतीश के फिर से राजद के साथ जाने के बाद उन्होंने सार्वजनिक बयान देते हुए कहा था कि अगर सुशील मोदी डिप्टी सीएम होते तो जेडीयू-बीजेपी गठबंधन बरकरार रहता.

जेडीयू सांसद संजय झा ने दिप्रिंट को बताया, “जब मोदी जी और नीतीश राजनीतिक रूप से एक-दूसरे के विरोधी थे, तब भी उनके व्यक्तिगत संबंध बरकरार थे.”

हालांकि, मोदी का सबसे उल्लेखनीय प्रदर्शन विपक्ष के नेता के रूप में था.

सबूतों से लैस, उन्होंने विधानमंडल में राबड़ी देवी और नीतीश कुमार दोनों के नेतृत्व वाली सरकारों को लगातार चुनौती दी.

इस संवाददाता ने देखा है कि जब भी उनके काम सीएम स्तर पर अटकते थे, तो मंत्री उन्हें दस्तावेज सौंपते थे और उनसे इसे सदन में उठाने का आग्रह करते थे.

एक अवसर पर जब इस संवाददाता ने सुशील मोदी से कहा, “विपक्ष के नेता के रूप में हम आपको याद करते हैं,” तो उन्होंने मजाक में कहा: “आप मेरे शुभचिंतक नहीं हो सकते!”

पिछड़ी जाति के आरक्षण के प्रबल समर्थक होने के बावजूद मोदी कभी भी लालू और नीतीश की तरह जन नेता नहीं बन सके.

जब उन्हें डिप्टी सीएम पद से हटाया गया तो उन्होंने कहा कि उनके मन में कभी नहीं आया कि बीजेपी छोड़ दूं. उन्होंने टिप्पणी की थी, “मैं चाहूंगा कि मेरा शरीर भाजपा के झंडे से ढका रहे.”

(इस खबर को अंग्रेज़ी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें)


यह भी पढ़ें: कश्मीर में बंदूकों की जगह मतपत्र — उग्रवादियों के गढ़ त्राल, शोपियां और पुलवामा में रिकॉर्ड वोटिंग


 

share & View comments