scorecardresearch
Monday, 24 June, 2024
होमराजनीति‘हर घंटे उम्मीदवार बदलते हैं’— मोदी ने अनिर्णायक नेतृत्व के लिए अखिलेश यादव पर किया कटाक्ष

‘हर घंटे उम्मीदवार बदलते हैं’— मोदी ने अनिर्णायक नेतृत्व के लिए अखिलेश यादव पर किया कटाक्ष

मोदी ने शनिवार को कहा कि समाजवादी पार्टी ‘हर घंटे उम्मीदवार बदल रही है’. विशेषज्ञों का कहना है कि इतनी सारी सीटों पर बार-बार उम्मीदवार बदलने से ‘राजनीतिक हारा-गिरी’ हो सकती है.

Text Size:

लखनऊ: लोकसभा चुनाव के पहले चरण के मतदान में 15 दिन से कम समय बचा है, समाजवादी पार्टी (सपा) पहले ही उत्तर प्रदेश की आठ सीटों पर अपने उम्मीदवार बदल चुकी है, जिस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की. उन्होंने एक कार्यक्रम में कहा कि उत्तर प्रदेश के सहारनपुर में चुनावी रैली में कहा गया कि पार्टी “हर घंटे उम्मीदवार बदल रही है”.

सपा ने उम्मीदवारों को बदलने के लिए जीतने की क्षमता और आंतरिक लोकतंत्र को कारक बताया है. हालांकि, राजनीतिक विशेषज्ञों ने इस कदम के लिए तैयारियों की कमी, विशेषकर सीटों पर ज़मीनी सर्वे और नीचे से ऊपर तक खराब प्रतिक्रिया तंत्र को जिम्मेदार ठहराया.

सपा — 30 जनवरी को उम्मीदवारों की पहली सूची घोषित करने वाली यूपी की पहली प्रमुख पार्टी — पहले ही बदायूं, बागपत, मिश्रिख, मोरादाबाद, बिजनौर, गौतम बुद्ध नगर और मेरठ सीटों पर उम्मीदवारों को बदल चुकी है.

बदायूं में जहां, सपा प्रमुख अखिलेश यादव के चाचा शिवपाल यादव ने भतीजे धर्मेन्द्र यादव की जगह ली थी, पार्टी फिर से अपना उम्मीदवार बदल सकती है क्योंकि शिवपाल ने एक रैली में कहा था कि बदायूं में सपा कार्यकर्ताओं का एक वर्ग उनके बेटे आदित्य यादव को उम्मीदवार बनाना चाहता है.

सपा के मुख्य प्रवक्ता राजेंद्र चौधरी ने उम्मीदवारी में बदलाव का बचाव करते हुए कहा कि सपा ने “राजनीतिक पारदर्शिता को महत्व दिया” जबकि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) पर “एकाधिकारवादी संस्कृति हावी है”.

उन्होंने कहा, “सपा और भाजपा में बुनियादी अंतर है…कुछ लोकसभा सीटों पर उम्मीदवार बदलना यह दर्शाता है कि सपा के भीतर लोकतंत्र है, जो कार्यकर्ताओं की आवाज को सम्मान देता है.”

चौधरी ने कहा, “राजनीतिक इतिहास में रुचि रखने वालों को याद होगा कि जय प्रकाश नारायण जी का स्पष्ट विचार था कि जनता को अपना उम्मीदवार चुनना चाहिए. पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह जी राजनीति में पारदर्शिता के इतने बड़े समर्थक थे कि वह अपने उम्मीदवारों के खिलाफ भी खुले मंच से घोषणा कर देते थे.”

समाजवादी पार्टी के सूत्रों के अनुसार, जीतने की संभावना, अनुभव और स्वीकार्यता जैसे कारकों के कारण पार्टी को बागपत, बिजनौर और गौतमबुद्ध नगर सीटों पर अपने उम्मीदवारों को बदलना पड़ा, जबकि आंतरिक राजनीति के कारण मोरादाबाद में ऐसा फैसला लिया गया, इसके अलावा टिकट वितरण को लेकर स्थानीय इकाई में नाराज़गी भी थी.

मोदी के अलावा, पूर्व सपा सहयोगी और राष्ट्रीय लोक दल (आरएलडी) के प्रमुख जयंत चौधरी ने एक्स पर एक पोस्ट में “कुछ घंटों के लिए भाग्यशाली लोगों को” टिकट देने के लिए विपक्ष पर निशाना साधा, जबकि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद ने मौर्य ने भी आधा दर्जन से अधिक सीटों पर अपने उम्मीदवार बदलने के लिए सपा पर निशाना साधा.


यह भी पढ़ें: टिकट कटने से कर्नाटक BJP में ‘छद्म युद्ध’ शुरू, ईश्वरप्पा ने येदियुरप्पा के खिलाफ संभाला मोर्चा


मेरठ में उठापटक

मेरठ सीट पर सपा दो बार अपना प्रत्याशी बदल चुकी है. इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) के खिलाफ अपने अभियान के लिए प्रसिद्ध सुप्रीम कोर्ट के वकील और दलित चेहरे भानु प्रताप सिंह को सपा द्वारा सीट से मैदान में उतारने के बाद स्थानीय इकाई में अंदरूनी कलह मच गई.

सरधना विधायक अतुल प्रधान, किठौर विधायक शाहिद मंजूर, पूर्व विधायक योगेश वर्मा और मेरठ विधायक रफीक अंसारी जैसे दावेदारों ने मेरठ से टिकट मांगा था, लेकिन 15 मार्च को अखिलेश ने प्रताप को टिकट देकर आश्चर्यचकित कर दिया, जो बुलंदशहर से हैं.

इस कदम के परिणामस्वरूप स्थानीय दावेदारों ने अपना गुस्सा व्यक्त किया क्योंकि उनके समर्थकों ने प्रताप के खिलाफ सोशल मीडिया अभियान चलाया.

अतुल प्रधान भी अखिलेश के पीछे-पीछे दिल्ली पहुंचे, जहां इंडिया ब्लॉक ने पिछले हफ्ते रामलीला मैदान में एक संयुक्त रैली की और टिकट के लिए अपनी योग्यता के बारे में पार्टी प्रमुख से बात की.

दो दिन बाद उनकी उम्मीदवारी की पुष्टि हो गई और उन्होंने बुधवार को नामांकन पत्र दाखिल किया.

हालांकि, योगेश वर्मा की पत्नी सुनीता वर्मा और रफीक अंसारी को भी नामांकन फॉर्म मिला, जिससे अटकलें बरकरार रहीं.

सपा प्रमुख ने गुरुवार को अतुल प्रधान और योगेश वर्मा को आमने-सामने मुलाकात के लिए लखनऊ स्थित पार्टी कार्यालय बुलाया. इसके बाद पार्टी ने पूर्व मेयर सुनीता वर्मा को मेरठ से प्रत्याशी घोषित कर दिया. इस कदम से ऐसी अफवाहें फैल गईं कि प्रधान पद छोड़ देंगे और भाजपा में शामिल हो जाएंगे.

लेकिन, प्रधान ने शुक्रवार को एक प्रेस वार्ता में सभी अटकलों पर विराम लगा दिया जब उन्होंने कहा कि वह सपा नहीं छोड़ेंगे और अखिलेश के फैसले का पालन करेंगे.

सपा के वरिष्ठ नेता ने नाम न छापने की शर्त पर दिप्रिंट से कहा, “मेरठ में बड़ी संख्या में मुस्लिम हैं, उसके बाद दलित, ब्राह्मण, वैश्य और गुज्जर हैं. पार्टी ने एक अनुसूचित जाति (एससी) उम्मीदवार को टिकट देने पर विचार किया. हालांकि, प्रताप एक एससी हैं, लेकिन वे एक बाहरी व्यक्ति हैं जिनकी मेरठ में कोई पकड़ नहीं है. दूसरी ओर, सुनीता वर्मा ने मेरठ की मेयर के रूप में काम किया है और उनकी व्यापक स्वीकार्यता है.”

वर्मा को भाजपा के अरुण गोविल के खिलाफ खड़ा किया गया है, जिन्होंने रामानंद सागर के 1980 के दशक के लोकप्रिय टीवी रूपांतरण रामायण में हिंदू देवता राम की भूमिका निभाई थी.


यह भी पढ़ें: ‘सूटकेस में मिली लाशें’- लिव-इन में रहने वालों के रजिस्ट्रेशन की जरूरत पर उत्तराखंड के सीएम ने क्या कहा


बागपत, गौतमबुद्धनगर और बिजनौर

अनुभव और स्वीकार्यता के कारण सपा को बागपत और गौतमबुद्ध नगर सीटों पर अपने उम्मीदवार बदलने पड़े.

जबकि जाट चेहरे मनोज चौधरी को बागपत सीट से टिकट दिया गया था, सपा ने गुरुवार को उनकी जगह पूर्व विधायक अमरपाल शर्मा को टिकट दिया. सपा नेताओं ने कहा कि यह फैसला जातिगत विचार और स्वीकार्यता को ध्यान में रखकर किया गया है.

बागपत से सपा के एक नेता ने दिप्रिंट से कहा, “चौधरी छपरौली से 2012 का विधानसभा चुनाव हार गए थे और पूर्व विधायक अमरपाल की तुलना में वह कमजोर चेहरा हैं. यहां तक कि जाट भी उनकी (चौधरी की) उम्मीदवारी को लेकर उत्साहित नहीं थे. शर्मा को मैदान में उतारना दिलचस्प हो सकता है क्योंकि बागपत में बड़ी संख्या में ब्राह्मण आबादी है.”

नेता ने कहा, “यह बदलाव इसलिए भी था क्योंकि हम आरएलडी को आसान राह नहीं देना चाहते थे, जिसने एसपी-आरएलडी गठबंधन से फायदा उठाने के बाद हमें छोड़ दिया था.”

स्थानीय आरएलडी इकाई के अनुसार, बागपत में कुल 4 लाख जाट, 3.75 लाख मुस्लिम, 1.5 लाख दलित, 40,000 यादव, 1.25 लाख गुज्जर, 60,000 राजपूत और 1.5 लाख ब्राह्मण हैं.

बिजनोर निर्वाचन क्षेत्र में स्थानीय इकाई के भीतर कलह के कारण उम्मीदवारी में बदलाव हुआ. सपा ने सबसे पहले यशवीर सिंह धोबी को मैदान में उतारा था, जिन्हें टिकट मिलने से वे खुद हैरान रह गए.

धोबी नगीना से टिकट मांग रहे थे, लेकिन पार्टी ने उन्हें 16 मार्च को बिजनौर से मैदान में उतार दिया. इस कदम से स्थानीय इकाई का एक वर्ग असंतुष्ट हो गया क्योंकि वे नूरपुर के सपा विधायक रामअवतार सैनी के बेटे दीपक सैनी के लिए टिकट की मांग कर रहे थे.

सपा के एक नेता ने नाम न छापने की शर्त पर कहा, “यशवीर सिंह धोबी 2019 के आम चुनाव से पहले भाजपा में चले गए और नगीना से भाजपा के टिकट पर चुनाव लड़े लेकिन चुनाव हार गए. बाद में वे सपा में लौट आए. उनकी निष्ठा पर भी सवाल उठाया गया था.”

24 मार्च को पार्टी नेतृत्व ने आखिरकार दीपक सैनी को इस सीट से मैदान में उतारा, जब बिजनौर इकाई ने पार्टी के शीर्ष नेतृत्व पर यह कहकर जीत हासिल की कि सैनी आरएलडी के चंदन चौहान के खिलाफ बेहतर उम्मीदवार क्यों होंगे.

और गौतम बुद्ध नगर में सपा ने 16 मार्च को कैलाश ग्रुप ऑफ हॉस्पिटल्स के मालिक, भाजपा के डॉ. महेश शर्मा के खिलाफ बाल रोग विशेषज्ञ डॉ. महेंद्र नागर को अपना उम्मीदवार घोषित किया, उसके बाद राहुल अवाना को अपना उम्मीदवार घोषित किया.

यह बदलाव तब आया जब स्थानीय सपा नेताओं के एक वर्ग ने 2022 में कांग्रेस के पुराने चेहरे नागर को मैदान में उतारने पर नाराज़गी जताई, हालांकि, 28 मार्च को सपा ने अपना फैसला पलट दिया और आखिरकार नागर पर सहमति बनाई, जिन्होंने अब अपना नामांकन पत्र दाखिल कर दिया है.

दिप्रिंट से बात करते हुए नागर ने कहा कि अवाना तभी से उनकी उम्मीदवारी का समर्थन कर रहे हैं और उनके लिए प्रचार में व्यस्त हैं. बदलाव के बारे में पूछे जाने पर गौतमबुद्धनगर के एक सपा नेता ने कहा कि इस मामले में अनुभव युवाओं पर भारी पड़ा.


यह भी पढ़ें: मंडी लोकसभा प्रत्याशी कंगना रनौत को विवादों से दूर रखने के लिए BJP ने कैसे बनाई योजना


मिश्रिख में राजवंशी और मुरादाबाद में ‘बाहरी’

अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित मिश्रिख लोकसभा क्षेत्र में सपा ने फरवरी में पूर्व मंत्री रामपाल राजवंशी को मैदान में उतारा था, लेकिन, उन्होंने स्वास्थ्य कारणों का हवाला देते हुए पद छोड़ने का फैसला किया, जिसके बाद पार्टी ने उनकी जगह उनके बेटे मनोज राजवंशी को मैदान में उतारा.

हालांकि, मनोज राजवंशी ने भी चुनाव नहीं लड़ा और उनकी पत्नी, संगीता राजवंशी, जो मौजूदा जिला पंचायत सदस्य हैं, सपा की मिश्रिख उम्मीदवार बन गईं.

इस बीच, राजवंशी परिवार ने उन अफवाहों का खंडन किया है कि मिश्रिख से भाजपा उम्मीदवार अशोक रावत, जो उनके रिश्तेदार हैं, ने चुनाव से बाहर होने के उनके फैसले को प्रभावित किया. रामपाल राजवंशी ने शुक्रवार को दिप्रिंट को बताया, “ऐसा कुछ भी नहीं है. यह सब झूठ है”.

दिप्रिंट ने पहले ही मोरादाबाद लोकसभा सीट पर सपा के मुस्लिम नेतृत्व के भीतर दरार के बारे में रिपोर्ट दी थी, जहां उन्होंने मौजूदा सांसद एस.टी. हसन को रुचि वीरा से बदल दिया था. हसन ने बार-बार जेल में बंद सपा के दिग्गज नेता आज़म खान – एक “बाहरी व्यक्ति” की संलिप्तता का संकेत दिया है.

3 अप्रैल को अखिलेश यादव द्वारा मुरादाबाद के रिटर्निंग ऑफिसर को भेजा गया एक पत्र (दिप्रिंट के पास प्रति मौजूद) सार्वजनिक हो गया. इसमें, सपा प्रमुख ने हसन को मुरादाबाद का उम्मीदवार घोषित किया, बाद में हसन ने कहा कि लखनऊ के कुछ नेताओं ने “बाहरी व्यक्ति” के साथ मिलकर यह सुनिश्चित करने की साजिश रची कि पत्र उन तक न पहुंचे. उन्होंने कहा, “केवल अखिलेश जी ही बता सकते हैं कि किसके दबाव में मेरी उम्मीदवारी बदली गई, जबकि वह चाहते थे कि मैं उम्मीदवार बनूं.”

बदायूं में चाचा-भतीजे का समीकरण

बदायूं में पार्टी ने सबसे पहले अखिलेश के चचेरे भाई धर्मेन्द्र यादव को मैदान में उतारा, लेकिन 20 फरवरी को उनके चाचा शिवपाल यादव ने धर्मेन्द्र की जगह ले ली, जिन्हें बाद में आज़मगढ़ ले जाया गया.

पिछले रविवार को पंचायत की एक बैठक में शिवपाल सहित सपा की बदायूं इकाई ने उनके बेटे आदित्य यादव को उम्मीदवार बनाने का प्रस्ताव पारित किया. मीडिया से बात करते हुए शिवपाल ने कहा कि वे पार्टी नेतृत्व को प्रस्ताव भेजेंगे और उम्मीद है कि मंजूरी मिल जाएगी.

धर्मेन्द्र यादव ने कहा है कि वे आदित्य के लिए जमकर प्रचार करेंगे.

पार्टी के अंदरूनी सूत्रों ने कहा कि शिवपाल ने 2022 के विधानसभा चुनावों में आदित्य के लिए विधानसभा टिकट की मांग की, लेकिन पार्टी नेतृत्व ने उन्हें लड़ने के लिए मना लिया.

राजनीतिक विश्लेषकों का कहना है कि शिवपाल अपने बेटे के लिए राज्य की राजनीति में जगह बनाना चाहते हैं, लेकिन भतीजे अखिलेश के साथ उनकी आंतरिक अनबन के कारण अब तक ऐसा नहीं हो पाया है. उन्होंने कहा कि गठबंधन सहयोगियों के साथ छोड़ने और स्थानीय इकाइयों की नाराज़गी के कारण, अखिलेश अब बहुत दबाव में हैं और शिवपाल ने आदित्य को मैदान में उतारने की मांग को आगे बढ़ाने के लिए मौके का फायदा उठाया है.

बाबासाहेब भीमराव आंबेडकर यूनिवर्सिटी के राजनीति विज्ञान विभाग के प्रमुख शशिकांत पाण्डेय ने दिप्रिंट को बताया कि आदित्य को उम्मीदवार बनाने की मांग पहले भी उठाई गई थी, जिसे इस बार सार्वजनिक मंच से खुले तौर पर कहा गया है.

पाण्डेय ने कहा, “शिवपाल को एहसास हो गया है कि अखिलेश ने पार्टी पर पकड़ बना ली है और उनकी कहीं और संभावना कम है. जब उन्हें उम्मीदवार घोषित किया गया तो अटकलें लगाई गईं कि वे चुनाव नहीं लड़ना चाहते, लेकिन (आदित्य की उम्मीदवारी की) मांग अब सार्वजनिक रूप से उठाई गई है, इससे पता चलता है कि पार्टी के भीतर सब कुछ ठीक नहीं है और दोनों नेताओं के बीच दरार बनी हुई है.”

पाण्डेय ने यह भी कहा कि जिस तरह से सपा उम्मीदवार बदल रही है वह राज्य में प्रमुख विपक्षी दल की तैयारी की कमी को दर्शाता है, जहां भाजपा कई दौर के सर्वेक्षणों में लगी हुई है. उन्होंने कहा, “जब अतुल प्रधान जैसे नेताओं की उम्मीदवारी वापस ले ली जाती है, तो उनके समर्थक निराश हो जाते हैं. इससे पता चलता है कि टिकट वितरण से पहले पार्टी की स्थानीय इकाई के इनपुट नहीं लिए गए या उन पर ध्यान नहीं दिया गया.”

उन्होंने कहा कि जब मुलायम सिंह यादव पार्टी अध्यक्ष थे, तब उन्होंने सभी जातियों और समुदायों के पार्टी कार्यकर्ताओं पर पकड़ स्थापित की थी और उनके साथ सीधे संवाद के लिए जाने जाते थे. उन्होंने कहा, “टिकट वितरण के समय पार्टी नेतृत्व के भीतर कुछ बेचैनी स्वाभाविक है, लेकिन बार-बार उम्मीदवार बदलना नेतृत्व की ओर से फीडबैक तंत्र की कमी और राजनीतिक अपरिपक्वता को दर्शाता है.”

इस बीच, अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (एएमयू) में राजनीति विज्ञान के प्रोफेसर मिर्जा असमर बेग ने दिप्रिंट को बताया कि इतनी सारी सीटों पर बार-बार उम्मीदवार बदलने से “राजनीतिक हारा-गिरी” हो सकती है.

उन्होंने समझाया, टिकट वितरण और नामांकन दाखिल करने के बाद इतने सारे बदलाव “किसी विशेष उम्मीदवार के समर्थकों के लिए एक बुरा संदेश भेजते हैं.”

उन्होंने कहा, “नामांकन दाखिल करने के बाद एसटी हसन और अतुल प्रधान को बदल दिया गया. स्वाभाविक है कि उनके समर्थक नाराज़ होंगे. यह पार्टी के लिए अच्छा संकेत नहीं है और विशेष रूप से उन मतदाताओं को प्रभावित करता है जो अनिर्णय की स्थिति में हैं और जहां हवा चल रही है वहां चले जाते हैं.”

बेग ने कहा, “यही कारण है कि चुनाव से पहले भाजपा द्वारा पार्टी के पक्ष में माहौल बनाने के लिए ‘400 पार’ जैसे नारे दिए जाते हैं.”

(इस रिपोर्ट को अंग्रेज़ी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें)


यह भी पढ़ें: वरुण गांधी के सीन से बाहर होने के बाद, पीएम मोदी पीलीभीत में बीजेपी के जितिन प्रसाद के लिए करेंगे प्रचार


 

share & View comments