Monday, 8 August, 2022
होमलास्ट लाफबाढ़ प्रभावित असम में विधायकों की 'छुट्टी' और कैसे MVA मॉकटेल तेज कॉकटेल के खिलाफ है

बाढ़ प्रभावित असम में विधायकों की ‘छुट्टी’ और कैसे MVA मॉकटेल तेज कॉकटेल के खिलाफ है

दिप्रिंट के संपादकों द्वारा चुने गए पूरे दिन के सबसे अच्छे कार्टून.

Text Size:

दिप्रिंट के संपादकों द्वारा चयनित कार्टून पहले अन्य प्रकाशनों में प्रकाशित किए जा चुके हैं. जैसे- प्रिंट मीडिया, ऑनलाइन या फिर सोशल मीडिया पर.

आज के चित्रित कार्टून में, संदीप अध्वर्यु ने ‘रिसॉर्ट राजनीति’ के नवीनतम उदाहरण पर टिप्पणी की, जिसमें महाराष्ट्र के शिवसेना के बागी विधायक असम के गुवाहाटी में एक लक्जरी होटल में ठहरे हुए हैं. यह तब हुआ है जब असम एक बड़ी बाढ़ की चपेट में है, जिसमें कथित तौर पर 100 से अधिक मौतें हुई हैं और लाखों लोग अपने घरों से विस्थापित हुए हैं.

इकोनॉमिक टाइम्स में आर प्रसाद भी असम के गुवाहाटी में डेरा डाले शिवसेना विधायकों पर तंज कसते हैं.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

आलोक निरंतर शिवसेना के बागी नेता एकनाथ शिंदे पर तंज कसते हैं, जिन्होंने शिवसेना के दिवंगत संस्थापक, बाल ठाकरे के ‘हिंदुत्व’ सिद्धांतों के मुताबिक अपने कार्यों को उचित ठहराया है, जो कभी एक प्रसिद्ध कार्टूनिस्ट थे.

ई.पी. उन्नी महाराष्ट्र की राजनीति में चल रही पैंतरेबाज़ी की ओर इशारा करते हैं, जिसने राज्य में महा विकास अघाड़ी सरकार को छोड़ दिया है – शिवसेना, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) और कांग्रेस का त्रिपक्षीय गठबंधन, जिसका नेतृत्व शिवसेना प्रमुख और सीएम उद्धव ठाकरे कर रहे हैं, ढहने की कगार पर है. बागी विधायक पहले गुजरात के सूरत और फिर असम के गुवाहाटी गए, दोनों राज्य भाजपा शासित हैं.

कीर्तिश भट्ट ने शिवसेना के बागी विधायकों और गुवाहाटी के एक होटल में उनके ठहरने पर कटाक्ष किया है. उदाहरण में, एक व्यक्ति को यह कहते हुए देखा जा सकता है, ‘मैं तो होटल के बाहर खड़ा था, ये लोग मुझे विधायक समझकर अंदर ले आए.’

(इन कार्टून्स को अंग्रेजी में देखने के लिए यहां क्लिक करें)

 

share & View comments