आर प्रसाद | ट्विटर
Text Size:

दिप्रिंट पर संपादकों द्वारा चुने गए दिन के सर्वश्रेष्ठ कार्टून

आज के फीचर कार्टून में आर प्रसाद सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश एसए बोबडे की उस टिप्पणी को बता रहे हैं जिसमें उन्होंने उस सरकारी कर्मचारी को एक महिला से शादी करने को कहा जिसपर उसके साथ बलात्कार करने का आरोप है.

हाल ही में भारत-पाकिस्तान की तरफ से एलओसी पर सीजफायर का कड़ाई से पालन करने के समझौते को दर्शा रहे हैं मीर सुहैल.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

तमिलनाडु में पुशअप करने को लेकर राहुल गांधी पर निशाना साध रहे हैं आलोक निरंतर.

नीरव मोदी के भारत प्रत्यर्पण पर यूके कोर्ट के फैसले की तरफ ध्यान दिला रहे हैं कीर्तीश भट्ट.

कांग्रेस के मध्य प्रदेश ईकाई द्वारा बाबूलाल चौरसिया को पार्टी में शामिल करने पर ईपी उन्नी तंज कर रहे हैं. चौरसिया को कथित तौर पर नाथूराम गोडसे का समर्थक माना जाता है.

(इन कार्टून्स को अंग्रेज़ी में देखने के लिए यहां क्लिक करें)

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

क्यों न्यूज़ मीडिया संकट में है और कैसे आप इसे संभाल सकते हैं

आप ये इसलिए पढ़ रहे हैं क्योंकि आप अच्छी, समझदार और निष्पक्ष पत्रकारिता की कद्र करते हैं. इस विश्वास के लिए हमारा शुक्रिया.

आप ये भी जानते हैं कि न्यूज़ मीडिया के सामने एक अभूतपूर्व संकट आ खड़ा हुआ है. आप मीडिया में भारी सैलेरी कट और छटनी की खबरों से भी वाकिफ होंगे. मीडिया के चरमराने के पीछे कई कारण हैं. पर एक बड़ा कारण ये है कि अच्छे पाठक बढ़िया पत्रकारिता की ठीक कीमत नहीं समझ रहे हैं.

हमारे न्यूज़ रूम में योग्य रिपोर्टरों की कमी नहीं है. देश की एक सबसे अच्छी एडिटिंग और फैक्ट चैकिंग टीम हमारे पास है, साथ ही नामचीन न्यूज़ फोटोग्राफर और वीडियो पत्रकारों की टीम है. हमारी कोशिश है कि हम भारत के सबसे उम्दा न्यूज़ प्लेटफॉर्म बनाएं. हम इस कोशिश में पुरज़ोर लगे हैं.

दिप्रिंट अच्छे पत्रकारों में विश्वास करता है. उनकी मेहनत का सही वेतन देता है. और आपने देखा होगा कि हम अपने पत्रकारों को कहानी तक पहुंचाने में जितना बन पड़े खर्च करने से नहीं हिचकते. इस सब पर बड़ा खर्च आता है. हमारे लिए इस अच्छी क्वॉलिटी की पत्रकारिता को जारी रखने का एक ही ज़रिया है– आप जैसे प्रबुद्ध पाठक इसे पढ़ने के लिए थोड़ा सा दिल खोलें और मामूली सा बटुआ भी.

अगर आपको लगता है कि एक निष्पक्ष, स्वतंत्र, साहसी और सवाल पूछती पत्रकारिता के लिए हम आपके सहयोग के हकदार हैं तो नीचे दिए गए लिंक को क्लिक करें. आपका प्यार दिप्रिंट के भविष्य को तय करेगा.

शेखर गुप्ता

संस्थापक और एडिटर-इन-चीफ

अभी सब्सक्राइब करें

Share Your Views

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here