Monday, 17 January, 2022
होमदेशहड़ताल से जुड़े SC के फैसले के उल्लंघन का गंभीरता से संज्ञान लिया जाएगा: केरल HC

हड़ताल से जुड़े SC के फैसले के उल्लंघन का गंभीरता से संज्ञान लिया जाएगा: केरल HC

केरल हाई कोर्ट साल 2018 में छात्र संगठन द्वारा बुलाए गए बंद से संबंधित एक मामले की सुनवाई कर रहा था.

Text Size:

कोच्चि: केरल हाई कोर्ट ने कहा है कि राज्य में बंद और हड़ताल पर प्रतिबंध लगाने के उसके और सुप्रीम कोर्ट के निर्देशों का सभी संबंधित विभागों द्वारा पालन किया जाना चाहिए और इसके उल्लंघन का गंभीरता से संज्ञान लिया जाएगा.

अदालत ने यह निर्देश एक याचिका का निस्तारण करते हुए दिया जिसमें छात्र संगठनों या राजनीतिक दलों द्वारा बुलाए गए ‘शैक्षणिक बंद’ को अवैध, असंवैधानिक और सुप्रीम कोर्ट के निर्देशों के उल्लंघन करार देने का अनुरोध किया गया था. याचिका में दावा किया गया था कि 2018 में कुछ छात्र संगठनों द्वारा बुलाए गए बंद की वजह से कोल्लम जिले के कोट्टारकारा में सरकारी स्कूल पी.वी.एच.एस. पेरुमकुलम को कुछ दिनों के लिए बंद रखना पड़ा था और इस संबंध में पुलिस में दर्ज कराई गई शिकायत का कोई असर नहीं हुआ था.


यह भी पढ़ें: WHO ने कहा भारत में 11 से 17 अक्टूबर के बीच COVID के नए मामले सामने आए


राज्य सरकार ने याचिका का विरोध करते हुए हाई कोर्ट में कहा था कि शिकायत मिलने के बाद पुलिस ने सभी हितधारकों के साथ एक बैठक की और स्कूल के ‘पेरेंट्स टीचर्स एसोसिएशन’ द्वारा उठाए गए मुद्दों को सुलझाया गया. इसके बाद ऐसी कोई घटना नहीं हुई. राज्य सरकार की स्थापना के बाद अदालत ने कहा कि वह याचिका पर आगे सुनवाई नहीं करेगा.

अदालत ने कहा, ‘मामले के संबंध में तथ्यों और परिस्थितियों को देखते हुए हमने यही पाया कि सभी संबंधित विभागों को हड़ताल या बंद के संबंध में सुप्रीम कोर्ट और इस अदालत के फैसले का पालन करना चाहिए और इसके उल्लंघन को गंभीरता से संज्ञान में लिया जाएगा.’


यह भी पढ़ें: सरकार नौकरियों और शिक्षा में EWS कोटे के मानदंडों का बचाव कर रही, SC से इसमें कोई बदलाव न करने का कर सकती है आग्रह

share & View comments