Monday, 27 June, 2022
होमदेशगुप्तेश्वर पांडेय के चुनाव लड़ने की चर्चा पर शिवसेना बोली- 'भगवान सद्बुद्धि दे, किसी की मौत कैंपेन शुरू करना दुखदाई'

गुप्तेश्वर पांडेय के चुनाव लड़ने की चर्चा पर शिवसेना बोली- ‘भगवान सद्बुद्धि दे, किसी की मौत कैंपेन शुरू करना दुखदाई’

वीआरएस लेने के बाद गुप्तेश्वर पांडेय की राजनीति में आने की चर्चा तेज हो चली है. बुधवार शाम को पांडेय सोशल मीडिया के जरिए लोगों से भविष्य की रणनीतियों के बारें में चर्चा भी करेंगे.

Text Size:

नई दिल्ली: बिहार चुनाव को देखते हुए फिल्म अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत पर राजनीति थमने का नाम नहीं ले रही है.बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने अपनी नौकरी से वीआरएस ले लिया है. उनकी राजनीति में जाने की अटकलें तेज हो गई हैं. ऐसे में शिवसेना ने पांडेय के ऊपर निशाना साधा है.

​राज्यसभा सांसद और शिवसेना नेता प्रियंका चतुर्वेदी ने बिना गुप्तेश्वर पांडेय का नाम लिए ​ट्वीट किया, ‘राजनीति करनी है तो जम्म के करो. चुनाव लड़ना है तो साहस और सत्य पर लड़ो. पर इस ‘गुप्त’ तरीक़े से, किसी की दुर्भाग्यपूर्ण मौत से अपने कैंपेन की शुरुआत करना वो बहुत दुखदाई भी है और दुर्भाग्यपूर्ण भी.भगवान आपको सफलता से पहले सद्बुद्धि दे, यही मनोकामना है.’

1987 बैच के आईपीएस ऑफिसर गुप्तेश्वर पांडेय को जनवरी 2019 में बिहार का डीजीपी बनाया गया था. बतौर डीजीपी उनका कार्यकाल 28 फरवरी 2021 को पूरा हो रहा था.लेकिन उन्होंने अपने कार्यकाल पूरा होने से पहले रिटायरमेंट का फैसला लिया. जिसे सरकार ने मंजूर कर लिया.

हालांकि गुप्तेश्वर पांडेय ने इन अटकलों के बीच किसी भी राजनीतिक पार्टी को ज्वाइन करने से इनकार कर दिया है. पांडेय ने कहा, ‘ मैंने अभी तक कोई राजनीतिक पार्टी ज्वाइन नहीं किया है और न ही ऐसा कोई निर्णय ही लिया है. जहां तक मेरे सामाजिक काम की बात है मैं यह बिना राजनीति में प्रवेश किए हुए भी करता रहूंगा.’

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

पांडेय ने 2009 में लोकसभा चुनाव लड़ने के लिए भी सेवानिवृत्ति ली थी, लेकिन बाद में राज्य सरकार ने उनके वीआरएस के आवेदन को स्वीकार नहीं किया और उन्हें पुलिस सेवा में बहाल कर दिया था.

मंगलवार 22 सितंबर को वीआरएस लेने के बाद पांडे की राजनीति में आने की चर्चा तेज हो चली है. नवंबर में होने वाले बिहार विधानसभा चुनावों को देखते हुए उनकी सत्ताधारी जेडीयू की ओर से चुनाव लड़ने की चर्चाएं भी जोरों पर है. बुधवार शाम को पांडे सोशल मीडिया के जरिए लोगों से भविष्य की रणनीतियों के बारें में चर्चा भी करेंगे.

मंगलवार रात ही उन्होंने एक ट्वीट कर जानकारी दी,’ 23 सितंबर को शाम 6 बजे अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर लाइव आऊंगा. मैसेज के ऊपर एक कैप्शन में लिखा है- मेरी कहानी, मेरी जुबानी.’

फिल्म अभिनेता सुशांत​ सिंह राजपूत के मामले में पांडे आक्रामक भूमिका में नजर आए थे. उन्होंने कई बार अपने बयानों के जरिए महाराष्ट्र और मुंबई पुलिस पर निशाना साधा था. उन्होंने बिहार पुलिस के अधिकारियों के साथ बदसलूकी करने और सुशांत के मामले में महाराष्ट्र पुलिस द्वारा लापरवाही बरतने का भी आरोप लगाया था.


यह भी पढ़ें: बिहार के पुलिस महानिदेशक गुप्तेश्वर पांडेय ने लिया वीआरएस, विधानसभा चुनाव लड़ने की संभावना


 

share & View comments