Monday, 8 August, 2022
होमदेश'होता है, चलता है, ऐसे ही चलेगा' वाली मानसिकता से बाहर निकल चुका है भारत: PM मोदी

‘होता है, चलता है, ऐसे ही चलेगा’ वाली मानसिकता से बाहर निकल चुका है भारत: PM मोदी

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि मुश्किल से मुश्किल हालातों में भी भारत के लोगों का हौसला ही हमारी सबसे बड़ी ताकत है.

Text Size:

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जर्मनी के म्यूनिख में एक सामुदायिक कार्यक्रम में रविवार को भारतीय समुदाय के लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि भारतीय कहीं भी रहें, अपने लोकतंत्र पर गर्व करते हैं.

उन्होंने कहा, ‘आज का दिन 26 जून एक और वजह से जाना जाता है. जो लोकतंत्र हमारा गौरव है, जो लोकतंत्र हर भारतीय के डीएनए में है, आज से 47 साल पहले इसी समय उस लोकतंत्र को बंधक बनाने, लोकतंत्र को कुचलने का प्रयास किया गया था.’

प्रधानमंत्री ने कहा, ‘आपातकाल का कालखंड भारत के जीवंत लोकतांत्रिक इतिहास में एक काले धब्बे की तरह है. लेकिन इस काले धब्बे पर सदियों से चली आ रही लोकतांत्रिक परंपराओं की श्रेष्ठता भी पूरी शक्ति के साथ विजय हुई.’

भारतीय समुदाय के लोगों के बीच प्रधानमंत्री ने कहा कि आज 21वीं सदी का भारत, चौथी औद्योगिक क्रांति में, इंडस्ट्री 4.0 में, पीछे रहने वालों में नहीं बल्कि इस औद्योगिक क्रांति का नेतृत्व करने वालों में से एक है. सूचान प्रौद्योगिकी में, डिजिटल टेक्नॉलोजी में भारत अपना परचम लहरा रहा है.

उन्होंने कहा, ‘आज भारत के हर गांव तक बिजली पहुंच चुकी है. आज भारत का लगभग हर गांव, सड़क मार्ग से जुड़ चुका है. आज भारत के 99% से ज्यादा लोगों के पास क्लीन कुकिंग के लिए गैस कनेक्शन है. आज भारत का हर परिवार बैंकिंग व्यवस्था से जुड़ा हुआ है.’

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

पीएम ने कहा, ‘आज का भारत ‘होता है, चलता है, ऐसे ही चलेगा’ वाली मानसिकता से बाहर निकल चुका है. आज भारत ‘करना है’ ‘करना ही है’ और ‘समय पर करना है’ का संकल्प रखता है.’

मोदी ने बताया कि भारत में 90% वयस्क आबादी को वैक्सीन की दोनों डोज़ लग चुकी हैं. वहीं 95% वयस्क ऐसे हैं, जो कम से कम एक डोज़ ले चुके हैं. उन्होंने कहा, ‘ये वही भारत है, जिसके बारे में कुछ लोग कह रहे थे कि सवा अरब आबादी को वैक्सीन लगाने में 10-15 साल लग जाएंगे.’

उन्होंने कहा, ‘भारत में वैक्सीन का आंकड़ा 196 करोड़ पार कर चुका है. मेड इन इंडिया वैक्सीन ने भारत के साथ ही दुनिया के करोड़ों लोगों की कोरोना से जान बचाई है.’

प्रधानमंत्री ने कहा कि मुश्किल से मुश्किल हालातों में भी भारत के लोगों का हौसला ही हमारी सबसे बड़ी ताकत है.

उन्होंने कहा कि पिछले साल हमने अब तक का सबसे ज्यादा निर्यात किया है. ये इस बात का सबूत है कि एक ओर हमारे निर्माताओं नए अवसरों के लिए तैयार हो चुके हैं वहीं दुनिया भी हमें उम्मीद और विश्वास से देख रही है.

पीएम मोदी ने कहा, ‘जलवायु परिवर्तन, आज ये भारत में केवल सरकारी नीतियों का मुद्दा नहीं है. भारत का युवा ईवी और ऐसी ही दूसरी जलवायु के पक्ष में टेक्नॉलोजी में निवेश कर रहा है. सतत जलवायु प्रथाएं आज भारत के सामान्य से सामान्य मानव के जीवन का हिस्सा बन रही हैं.’

प्रधानमंत्री ने कहा कि दुनिया में हो रहे रीयल-टाइम डिजिटल पेमेंट्स में से 40% ट्रांजेक्शन भारत में हो रहे हैं. उन्होंने कहा, ‘आज भारत डेटा कंजम्प्शन में नए रिकॉर्ड बना रहा है. भारत उन देशों में है जहां डेटा सबसे सस्ता है.’

प्रधानमंत्री ने कहा कि स्वच्छता भारत में एक जीवनशैली बन रही है. उन्होंने कहा, ‘भारत के लोग, भारत के युवा देश को स्वच्छ रखना अपना कर्तव्य समझ रहे हैं. आज भारत के लोगों को भरोसा है कि उनका पैसा ईमानदारी से देश के लिए लग रहा है, भ्रष्टाचार की भेंट नहीं चढ़ रहा.’


यह भी पढ़ें: किताबें लिखने में IFS अफसरों ने IAS अफसरों से बाजी मारी


 

share & View comments