scorecardresearch
Monday, 15 July, 2024
होमदेशट्रेन हादसे में ज़ख्मी लोगों से मिलने पहुंची ममता, बोलीं- घायलों और मृतकों के परिजनों को मिलेगी नौकरी

ट्रेन हादसे में ज़ख्मी लोगों से मिलने पहुंची ममता, बोलीं- घायलों और मृतकों के परिजनों को मिलेगी नौकरी

ओडिशा के बालासोर में हुई ट्रेन दुर्घटना में सबसे अधिक पश्चिम बंगाल के लोगों की मौत हुई है. ममता बनर्जी ने कहा कि सभी घायलों और मृत लोगों के परिजनों को नौकरी दी जाएगी.

Text Size:

नई दिल्ली: ओडिशा के बालासोर में कोरोमंडल एक्सप्रेस और बेंगलुरु-हावड़ा एक्सप्रेस ट्रेन हादसे में घायल लोगों से मिलने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी आज कटक के अस्पताल पहुंची. ममता वहां पहुंचकर घायलों से बातचीत की और हालात का जायजा लिया. इसके साथ ही ममता ने इस हादसे में घायल सभी लोगों को नौकरी देने का वादा किया.

ममता ने कहा, “इस भीषण हादसे में जिन लोगों का हाथ पैर कट गया है हम उन्हें नौकरी देंगे. साथ ही मृतकों के परिजनों को भी नौकरी दी जाएगी. मुझे सीबीआई के द्वारा जांच को लेकर कुछ नहीं कहना है. इतने लोग मारे गए हैं. यह कैसे हुआ इसकी सच्चाई सामने आनी चाहिए. अभी पीड़ित परिवारों को मदद करने का वक्त है.”

बता दें कि पश्चिम बंगाल सरकार ने हादसे में जान गंवाने वाले लोगों के परिजनों को पांच लाख रुपये मुआवजा और विशेष होमगार्ड की नौकरी देने की घोषणा कर चुकी है.

ममता ने आगे कहा, “ओडिशा और पश्चिम बंगाल सरकार मिलकर काम कर रही हैं. सरकार घायलों का फ्री इलाज करवा रही है. हमारी सरकार ने 100 एम्बुलेंस और 40 अफसरों की टीम यहां का प्रबंधन देखने के लिए भेजा है. पश्चिम बंगाल के 103 शवों की पहचान कर ली गई है और 97 लोगों का इलाज चल रहा है. 31 लोग अभी भी लापता हैं.”

ममता ने घटना को लेकर चल रहे विवाद पर कहा कि उनका अभी इसपर ध्यान नहीं जा रहा है. उन्होंने कहा, “अभी यह सोचने का वक्त नहीं है. इतने लोगों की जान गई है. सच सबके सामने आना चाहिए. न्याय मिलना चाहिए.”

बता दें कि बीते शुक्रवार को ओडिशा के बालासोर के पास कोरोमंडल एक्सप्रेस लूप लाइन पर खड़ी मालगाड़ी से टकरा गई थी. इस टक्कर के बाद कोरोमंडल एक्सप्रेस के डिब्बे दूसरी लाइन से गुजर रही बेंगलुरु-हावड़ा एक्सप्रेस की डिब्बे से टकरा गई, जिसके कारण भयंकर ट्रेन हादसा हो गया. इस घटना में कुल 288 लोगों की अबतक मौत हो चुकी है जबकि हजार से अधिक लोग घायल हैं. घायलों का इलाज कई अस्पतालों में चल रहा है.


यह भी पढ़ें: ‘पानी भी दिखता है खून; भूख भी मर गई’, बालासोर रेल हादसे में मदद करने पहुंचे NDRF कर्मी भी हैं सदमे में


share & View comments