Monday, 8 August, 2022
होमदेशजियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया चमोली में ग्लेशियर टूटने और फ्लैश फ्लड के कारण का पता लगाने में जुटा

जियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया चमोली में ग्लेशियर टूटने और फ्लैश फ्लड के कारण का पता लगाने में जुटा

जलस्तर कम होने पर विशेषज्ञों की एक टीम को इससे पहुंचने वाले नुकसान का आकलन किया जाएगा और साथ ही इसके प्रकोप के लिए जिम्मेदार ट्रिगर कारक का भी पता लगाया जाएगा.

Text Size:

नई दिल्ली: जियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया उत्तराखंड में ग्लेशियर टूटने से मची तबाही के कारणों का पता लगा रहा है. संस्था इस दुर्भाग्यपूर्ण फ्लैश फ्लड घटना के केंद्र बिंदु का पता लगाने की प्रक्रिया में है. अभी, यह स्पष्ट नहीं है कि बाढ़ एक विशिष्ट ग्लेशियल लेक आउटबर्स्ट फ्लड (GLOF) है या  फिर भूस्खलन और हिमस्खलन के कारण कुछ अस्थायी क्षति है.

डॉ रंजीत रथ, डीजी, जीएसआई ने मीडिया को संबोधित करते हुए कहा, ‘हिमालय में ग्लेशियर जलवायु परिवर्तन परिदृश्य के तहत पीछे हट रहे हैं. यह एक वैश्विक घटना है. समय बीतने के साथ, कुछ ग्लेशियल झीले टर्मिनस के पास अक्सर एक साथ जमा होता है और ग्लेशियल मोरेन द्वारा क्षतिग्रस्त बड़ी ग्लेशियल झीलों का निर्माण होता है.’

उनका कहना था कि मोरेन ढीले बोल्डर, बजरी, रेत के मिश्रण होते हैं जिनमें अक्सर बर्फ होती है, इन बांधों में अंतर्निहित कमजोरी होती है. ये झीलें हिमालय के ग्लेशियरों को कवर करती हैं , जिसमें ग्लेशियर का निचला हिस्सा बहुत धीरे-धीरे चलता है और कई बार स्थिर रहता है. इसे ग्लेशियल लेक आउटबर्स्ट फ्लड (GLOF) कहा जाता है, जिसके परिणामस्वरूप भारी मात्रा में पानी का स्राव हो सकता है जिससे बहाव क्षेत्र में पड़ने वाले क्षेत्रों में क्षति हो सकती है.

झील अचानक भंग हो सकती है जिसका कारण थूथन, हिमस्खलन/भूस्खलन की कटाई, मोराइन बांध में पाइपिंग, जलग्रहण में बादल फट जाना और एक बड़ा भूकंप, आदि हो सकते हैं.

उत्तराखंड में केदारनाथ त्रासदी (जून 2013) के बाद, उत्तराखंड हिमालय की हिमाच्छादित झीलों की एक सूची का संकलन 2014-16 में किया गया था. इनमें इन क्षेत्रों की पहचान की गयी थी जहां GLOF की संभावनाएं अधिक थीं.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

रिमोट सेंसिंग और मल्टीस्पेक्ट्रल डेटा के आधार पर, उत्तराखंड में पहचानी जाने वाली हिमनदों की कुल 486 ग्लेशियल झीलें हैं जिनमें 13 झीलों को चिन्हित किया गया था. उत्तराखंड में ग्लेशियल झीलों पर जीएसआई द्वारा तैयार की गई इन्वेंटरी के अनुसार, ऋषिगंगा और धौलीगंगा घाटी की ऊपरी पहुंच में विभिन्न आकारों और प्रकारों की कुल 71 झीलें बताई गई हैं.

जीएसआई इस दुर्भाग्यपूर्ण फ्लैश फ्लड घटना के केंद्र बिंदु का पता लगाने की प्रक्रिया में है. अभी, यह स्पष्ट नहीं है कि बाढ़ एक विशिष्ट ग्लेशियल लेक आउटबर्स्ट फ्लड (GLOF) है या भूस्खलन और हिमस्खलन के कारण कुछ अस्थायी क्षति है.

जल स्तर कम होने पर विशेषज्ञों की एक टीम को इससे पहुंचाने वाले नुकसान का आकलन किया जाएगा और साथ ही इसके प्रकोप के लिए जिम्मेदार ट्रिगर कारक का भी पता लगाया जाएगा. निचले इलाकों में पहुंचते पहुंचते बाढ़ का पानी और कीचड़ अपना भाप और तेज खो देगा जिससे जीवन और संपत्ति को कम नुकसान पहुंचाएगा, हालांकि, नदी के करीब रहने वाले लोगों को ठीक से सतर्क किया जाना चाहिए.

share & View comments