Friday, 27 May, 2022
होमदेशअर्थजगतRBI ने की रेपो रेट में 40 बेसिस प्वाइंट की बढ़ोतरी, कर्ज लेना होगा महंगा

RBI ने की रेपो रेट में 40 बेसिस प्वाइंट की बढ़ोतरी, कर्ज लेना होगा महंगा

मॉनेटरी पॉलिसी कमिटी (एमपीसी) ने सर्वसम्मति से रेपो रेट बढ़ाने के लिए मतदान किया है. बता दें कि रेपो रेट वो ब्याज दर है जिस पर आरबीआई बैंकों को अल्पकालिक धन उधार देता है.

Text Size:

नई दिल्ली: भारतीय रिज़र्व बैंक (आरबीआई) ने बुधवार को रेपो रेट को तत्काल प्रभाव से 40 बेसिस प्वाइंट बढ़ाकर 4.40 प्रतिशत कर दिया है.

आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने बुधवार को अपने एक संबोधन में यह घोषणा की है.

दास ने कहा कि बढ़ती मुद्रास्फीति को काबू में लाने के लिए रेपो रेट में इजाफा किया जा रहा है.

आरबीआई द्वारा रेपो रेट बढ़ाए जाने से बैंको और आम जनता को कर्ज लेना महंगा हो जाएगा.

मॉनेटरी पॉलिसी कमिटी (एमपीसी) ने सर्वसम्मति से रेपो रेट बढ़ाने के लिए मतदान किया है. बता दें कि रेपो रेट वो ब्याज दर है जिस पर आरबीआई बैंकों को अल्पकालिक धन उधार देता है.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

खबरों के मुताबिक एमपीसी की यह बैठक 6-8 जून को होनी वाली थी लेकिन वैश्विक आर्थिक गतिविधियों को देखते हुए आरबीई बुधवार को रेपो रेट में इजाफा कर दिया.

आरबीआई गवर्नर ने कहा कि मार्च के महीने में 12 में से 9 खाद्य उपसमूहों में मुद्रास्फीति में वृद्धि दर्ज़ की गई है. उन्होंने कहा कि देश में महंगाई के बढ़ते दबाव को देखते हुए यह कदम उठाना पड़ रहा है.

उन्होंने कहा वैश्विक आर्थिक गतिविधियों और धीमी गति का असर भारत की अर्थव्यवस्था और बाजार पर देखने को मिल रहा है.

दास ने कहा कि महंगाई दर लक्ष्य की ऊपरी सीमा छह प्रतिशत से ऊपर बनी हुई है. अप्रैल महीने में भी इसके ऊंचे रहने की संभावना है.

मार्च महीने में खुदरा मुद्रास्फीति 6.9 प्रतिशत रही थी.

इससे पहले, केंद्रीय बैंक ने बिना तय कार्यक्रम के 22 मई, 2020 को रेपो दर में संशोधन किया था. इसके तहत मांग बढ़ाने के इरादे से रेपो दर को घटाकर अबतक के सबसे निचले स्तर चार प्रतिशत पर लाया गया था.

यह घोषणा रिजर्व बैंक के केंद्रीय बोर्ड के निदेशकों की 595 वीं बैठक के कुछ दिन बाद हुई है.

सोमवार को केंद्रीय निदेशक मंडल ने एमपीसी के सदस्य के रूप में राजीव रंजन की नियुक्ति को मंजूरी दे दी थी. रंजन ने मृदुल सागर का स्थान लिया जो 30 अप्रैल को रिटायर्ड हुए. रंजन एमपीसी के तीसरे आतंरिक सदस्य (पदेन) हैं.


यह भी पढ़ें: सोनिया-राहुल के बीच असहमति का संकेत! हरियाणा अध्यक्ष पर सुरजेवाला की नाराजगी कांग्रेस के लिए नई चुनौती


share & View comments