piyush-goyal
इस लाल अटैची में सबके लिए बहुत कुछ था/ फोटो-पीटीआई
Text Size:

नई दिल्ली: मोदी सरकार ने अपने अंतरिम बजट में एक साथ मजदूर वर्ग से लेकर किसान और मध्यम वर्ग सभी को साध लिया है. लंबे समय से बजट पर नजर रखने वालों का कहना है कि अंतरिम बजट में इस तरह की घोषणाएं याद नहीं आ रहीं कब की गई थी. वैसे तो इस बजट को कुछ लोग चुनाव से जोड़ कर देख रहे हैं लेकिन मोदी सरकार ने हर तबके को इस बजट में साध लिया है लेकिन सबसे बड़ा एलान किसानों और मध्यमवर्ग के लिए किया है. पीयूष गोयल ने बजट का पिटारा ऐसा खोला कि उसमें वेतन वर्ग, वरिष्ठ नागरिकों और छोटे व्यापारियों से लेकर किसानों और मजदूरों को भी बड़ा तोहफा दिया है.


यह भी पढ़ें: Budget 2019 गरीबों के लिए, पर अमीरों के खिलाफ भी नहीं


मध्यमवर्ग को बड़ी राहत देते हुए पीयूष गोयल ने आयकर स्लैब में दुगुना फायदा पहुंचा दिया है. नौकरीपेशा को मिलने वाली छूट में दुगुनी कर दी है यानी अब पांच लाख रुपये तक की आय पर कोई कर नहीं लगेगा. इस कर छूट का लाभ तीन करोड़ मध्यवर्गीय करदाताओं को मिलेगा.

इसके साथ ही, पिछले बजट में लाए गए स्टैंटर्ड डिडक्शन की सीमा भी 40 हजार रुपये से बढ़ाकर 50 हजार रुपये कर दी गई. इतना ही नहीं, बैंक और पोस्ट ऑफिस डिपॉजिट डिपॉजिट पर 10 हजार की जगह अब 40 हजार रुपये तक का ब्याज टैक्स फ्री हो गया है. रेंटल इनकम पर टीडीएस की सीमा को 1.80 लाख रुपये से बढ़ाकर 2.40 लाख रुपये किया गया है.


यह भी पढ़ें: मोदी सरकार की सौगात, 2 हेक्टेयर तक जमीन वाले किसान को हर साल 6 हजार रुपये


पांच लाख की छूट के साथ ही प्रोविडेंट फंड और एनएससी में बचत करने पर 6.50 लाख रुपये की सालाना आय पर किसी तरह का टैक्स नहीं लगेगा, स्टैण्डर्ड डिडक्शन 40 हजार से बढ़कर 50 हजार रुपये हुआ. इसके साथ ही फिक्सड डिपॉजिट पर मिलने वाले ब्याज को 10 हजार रुपये से बढ़ाकर 40 हजार रुपये कर दिया गया है. सरकार की इस घोषणा से 3 करोड़ से अधिक आयकरदाताओं को फायदा मिलेगा. वहीं सरकार ने मध्यम वर्ग को एक और बड़ी राहत देते हुए ग्रैच्युटी की सीमा को 10 लाख रुपये से बढ़ाकर के 20 लाख रुपये करने और सैलरी पाने वाले पीएफ अंशधारकों को 6 लाख रुपये सालाना का बीमा देने का भी एलान किया है.


यह भी पढ़ें: Budget 2019: किसानों और मध्यवर्ग को साधा, 5 लाख आय वालों को टैक्स में छूट


बजट पेश करने के दौरान पीयूष गोयल ने कई पंच मारे, उन्होंने कहा, ‘मध्यम वर्ग पर टैक्स का बोझ घटाना हमेशा से हमारी प्राथमिकता रही है.’ उन्होंने कहा कि हम राष्ट्र निर्माण की प्रक्रिया में टैक्सपेयर्स के योगदान के लिए उन्हें धन्यवाद भी दिया. उन्होंने कहा कि पिछले सालों में टैक्स कलेक्शन बढ़ा है.
शेयर बाजार में उछाल

जैसे ही अंतरिम बजट में कर दाताओं को पांच लाख रुपये तक की सालाना आय को कर के दायरे से बाहर रखने के प्रस्ताव के बाद शेयर बाजारों में शुक्रवार को जोरदार तेजी दर्ज की गई. इस दौरान वाहन, एफएमसीजी और पूंजीगत वस्तुओं के शेयरों में अच्छी तेजी दर्ज की गई. दोपहर के आसपास सेंसेक्स 390.35 अंकों या 1.08 फीसदी की तेजी के साथ 36,647.04 अंकों पर कारोबार कर रहा था, जबकि पिछले सत्र में यह 36,256.69 पर बंद हुआ था. नेशलन स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी लगभग इसी समय पिछले सत्र की तुलना में 102.70 अंकों या 0.95 फीसदी की तेजी के साथ 10,933.65 पर कारोबार कर रहा था.


Share Your Views

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here