Thursday, 27 January, 2022
होमदेशUP में 'ब्लैक फंगस' घोषित होगी 'अधिसूचित बीमारी', CM योगी ने दिए निर्देश

UP में ‘ब्लैक फंगस’ घोषित होगी ‘अधिसूचित बीमारी’, CM योगी ने दिए निर्देश

किंग जार्ज मेडिकल विश्वविद्यालय से प्राप्त जानकारी के अनुसार अब तक ब्लैक फंगस के यहां 73 रोगी भर्ती हुये हैं जिनमें से 23 रोगी पिछले 24 घंटे में भर्ती हुये हैं.

Text Size:

लखनऊः उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को अधिकारियों को निर्देश दिये कि मुख्यत: कोविड-19 रोग से उबरे मरीजों को निशाना बना रहे कवक संक्रमण (ब्लैक फंगस) को ‘अधिसूचित बीमारी’ घोषित किया जाये.

अपर मुख्य सचिव सूचना नवनीत सहगल ने बताया कि उत्तर प्रदेश में अब तक ब्लैक फंगस से करीब 300 कोविड रोगी विभिन्न अस्पतालों में भर्ती हो चुके हैं.

उधर लखनऊ के किंग जार्ज मेडिकल विश्वविद्यालय से प्राप्त जानकारी के अनुसार अब तक ब्लैक फंगस के यहां 73 रोगी भर्ती हुये हैं जिनमें से 23 रोगी पिछले 24 घंटे में भर्ती हुये हैं.

कोविड-19 प्रबंधन हेतु गठित अधिकारियों की टीम 9 की बैठक में शुक्रवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि ‘पोस्ट कोविड अवस्था में ब्लैक फंगस के संक्रमण की समस्या तेजी से बढ़ रही है. स्वास्थ्य विशेषज्ञों के परामर्श के अनुरूप प्रदेश सरकार सभी मरीजों के समुचित चिकित्सकीय उपचार की व्यवस्था कर रही है. केंद्र सरकार के निर्देशों के क्रम में कोविड की तर्ज पर ब्लैक फंगस को भी अधिसूचित बीमारी घोषित किया जाए. इस संबंध में आदेश आज ही जारी कर प्रभावी करा दिया जाए.’

सरकार द्वारा जारी एक बयान के मुताबिक मुख्यमंत्री ने निर्देश दिये कि इसकी दवा की पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित कराई जाये.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

बयान के मुताबिक ‘अधिकारियों ने मुख्यमंत्री को अवगत कराया कि ब्लैक फंगस के उपचार की दवाएं हर जनपद में उपलब्ध करा दी गयी है. निजी अस्पतालों में इस बीमारी का इलाज करा रहे रोगी भी संबंधित मंडलायुक्त को प्रार्थनापत्र देकर दवा प्राप्त कर सकते हैं. प्रदेश के सभी सरकारी अस्पतालों, मेडिकल कालेजों तथा निजी अस्पतालों में ब्लैक फंगस उपचार करा रहे रोगियों की पूरी केस हिस्ट्री तथा लाइन आफ ट्रीटमेंट की जानकारी प्राप्त कर विशेषज्ञों को उपलब्ध कराई जा रही हैं.’

अपर मुख्य सचिव सहगल से जब उत्तर प्रदेश में ब्लैक फंगस से मरने वाले रोगियों की संख्या के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि इस बीमारी से मरने वाले रोगियों को कोविड बीामारी से मरने वाले रोगियों की श्रेणी में ही रखा जाता हैं. उन्होंने कहा कि अब तक करीब तीन सौ मामलें प्रदेश में ब्लैक फंगस के सामने आए हैं.

सहगल ने बताया कि ब्लैक फंगस को अधिसूचित बीमारी घोषित करने का आदेश शुक्रवार शाम तक जारी हो जायेगा.

राजधानी की किंग जार्ज मेडिकल विश्वविद्यालय के प्रवक्ता डा सुधीर सिंह ने बताया कि केजीएमयू में अब तक ब्लैक फंगस के 73 रोगी भर्ती हुये हैं जिनमें से 23 रोगी पिछले 24 घंटे में भर्ती हुये हैं . पिछले 24 घंटों में दो रोगियों का ऑपरेशन हो चुका है.


यह भी पढ़ेंः PM MODI ने वाराणसी के चिकित्सकों से कहा- COVID के खिलाफ लड़ाई में ‘ब्लैक फंगस’ नई चुनौती


 

share & View comments