Thursday, 8 December, 2022
होमफीचरटिंडर से लेकर बम्बल तक- श्रद्धा की हत्या के बाद डेटिंग ऐप पर राइट स्वाइप करने से हिचक रहीं महिलाएं

टिंडर से लेकर बम्बल तक- श्रद्धा की हत्या के बाद डेटिंग ऐप पर राइट स्वाइप करने से हिचक रहीं महिलाएं

जब डेटिंग ऐप्स- 2012 में टिंडर की शुरुआत के साथ- पहली बार सामने आए तो उन्होंने डेटिंग को सबकी पहुंच के अंदर लाने का वादा किया था. लेकिन आज लोग इस मैदान में बहुत सोच-समझकर कदम बढ़ा रहे हैं.

Text Size:

भारत में हर बार जब भी कोई महिला डेटिंग ऐप पर स्वाइप करती है, तो उसकी एक्साटइमेंट और उम्मीद के बीच एक अनचाहा डर छिपा होता है. श्रद्धा वालकर की हत्या के बाद अब वह डर और गहरा गया है. श्रद्धा के लिव-इन पार्टनर आफताब अमीन पूनावाला को उसकी हत्या के आरोप में गिरफ्तार किया गया है. पुलिस के मुताबिक उसके शरीर को 35 टुकड़ों में काटकर उसने उसे अपने फ्रिज में रखा था. श्रद्धा उससे बम्बल पर मिली थी.

लेकिन जिस बात ने डेटिंग ऐप को अचानक से डरावना बना दिया है, वह पुलिस का ये दावा है कि श्रद्धा के शरीर के अंग रेफ्रिजरेटर में पड़े थे, लेकिन उसके बावजूद आफताब ने एक और महिला को डेट पर अपने घर बुलाया था. यह वाकया महिलाओं को अपने पार्टनर और उसके साथ के अनुभवों की रिपोर्ट करने वाले डेटिंग ऐप पर मौजूद फीचर पर फोकस करने के लिए मजबूर कर रहा है.

डरावनी कहानियां

जब डेटिंग ऐप्स- 2012 में टिंडर की शुरुआत के साथ- पहली बार सामने आए तो डेटिंग गेम को आसान बनाने और सबकी पहुंच के अंदर लाने का वादा किया गया था. लेकिन आज लोग इन डिजिटल खेल के मैदान में बहुत सोच-समझकर कदम बढ़ा रहे हैं.

संयुक्त राज्य अमेरिका में जारी प्रोपब्लिका और कोलंबिया जर्नलिज्म इन्वेस्टिगेशन की 2019 की एक रिपोर्ट के मुताबिक ‘सर्वे में शामिल 12,00 महिलाओं में से एक तिहाई ने माना था कि ऐप पर मिले उनके साथी ने उनका यौन उत्पीड़न किया था. इन महिलाओं में से आधे से ज्यादा महिलाओं ने अपने साथ बलात्कार किए जाने की बात स्वीकार की थी.’

हिंज, टिंडर, बम्बल और आइल पर सक्रिय कई महिलाओं ने दिप्रिंट से अपने उत्पीड़न, पीछा करने, मारपीट और यहां तक कि बलात्कार के अपने अनुभवों के बारे में बात की.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

मुंबई की एक फिल्म मेकर याद करते हुए बताती हैं, ‘2019 में लगभग तीन महीने तक मैं एक विज्ञापन निर्माता के साथ थी. और हम जुलाई में अलग हो गए. मैं उसके बारे में सब भूल गई और किसी अन्य शख्स को डेट करना शुरू कर दिया’ वह आगे बताती हैं, ‘क्रिसमस पर वह शख्स फिर से मेरे घर के पास आया और ऊपर आने की जिद करने लगा. रात के 11.30 बज रहे थे और मैंने उससे वहां से थोड़ा जल्दी निकलने के लिए कहा. लेकिन उन्होंने शराब पीना शुरू कर दिया. फिर नशे में चिल्लाते हुए वह बताने लगा कि उसने अपनी मां को मेरे बारे में बताया है.

कोलकाता की एक प्रोफेशनल को ‘आइल’ पर एक वुमेनाइजर (एक से ज्यादा महिलाओं के साथ शारिरिक संबंध बनाने वाला) से मिलना आज भी याद है. उसने कंपनी के अधिकारियों से उसकी रिपोर्ट भी की थी. वह बताती हैं, ‘यह 2018 में हुआ था. उस समय ‘आइल’ काफी नया था. स्नेहा नाम की एक प्रतिनिधि ने मेरे साथ संपर्क बनाया हुआ था. उसने मुझसे अपनी ‘लव स्टोरी’ उनके साथ साझा करने के लिए कहा. मैंने उसी प्रतिनिधि को उस व्यक्ति के बारे सारी जानकारी दी थी. लेकिन उसके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई.’ उन्होंने दावा करते हुए कहा कि ‘वह सेना का एक अधिकारी था.’


यह भी पढ़ें: महरौली के जंगल में मिले युवती के शव के संदिग्ध हिस्से, हत्या के आरोप में प्रेमी गिरफ्तार


लेकिन सभी शिकायतें अनसुनी नहीं होती हैं.

नई दिल्ली में रहने वाली एक लेखिका ने बताया, ‘मैं हिंज पर एक व्यक्ति से मिली थी. उसने मेरे साथ बलात्कार किया. मैंने ऐप पर तुरंत इसकी शिकायत की. उन्होंने तुरंत मुझे रिप्लाई किया, मैं हैरान थी. मुझे बताया गया कि उस व्यक्ति के प्रोफ़ाइल को उन्होंने ब्लॉक कर दिया है और कानूनी सहायता देने के लिए भी कहा. यह एक बहुत ही आश्वस्त करने वाला अनुभव था’ लेखिका ने दिप्रिंट को इस ईमेल के स्क्रीनशॉट दिखाए थे. हिंज ने 6 जून 2022 को बलात्कार की शिकायत के कुछ ही मिनट बाद जवाब दिया था. हिंज के प्रवक्ता ने ईमेल पर लिखा था, ‘अगर आप इस घटना की पुलिस में रिपोर्ट करती हैं, तो हम किसी भी तरह की जांच में आपका सहयोग देने के लिए तैयार हैं.’ हिंज के उस प्रवक्ता ने मेल पर अल्फोंसो के रूप में अपना नाम हस्ताक्षरित किया हुआ था.

लेकिन ऐसे अपराधियों को अगले डेटिंग प्लेटफॉर्म पर जाने से कोई नहीं रोक रहा है. दिप्रिंट ने टिंडर, हिंज और बम्बल से संपर्क किया ताकि पता लगाया जा सके कि 2022 में यौन उत्पीड़न और अपराध की कितनी घटनाएं हुई हैं और उन्होंने क्या कार्रवाई की है.

टिंडर का दावा है कि इस तरह की रिपोर्टों से निपटने के लिए उसके पास एक ‘समर्पित टीम’ है और वह टीम कानून व्यवस्था के साथ मिलकर काम करती है’. बम्बल का कहना है कि वालकर की मौत के बारे में सुनकर वह ‘परेशान’ हो गया और अपने यूजर की सुरक्षा के लिए अपने पास मौजूद मैकेनिज्म को सूचीबद्ध किया. लेकिन न तो टिंडर और न ही बम्बल ने इस साल उन्हें मिली शिकायतों की संख्या या उनके द्वारा ब्लैकलिस्ट किए गए अकाउंट के डेटा को साझा किया. हिंज की तरफ से अभी जवाब नहीं आया है.

दिल्ली पुलिस ने डेटिंग ऐप्स के जरिए से फाइनेंशियल फ्रॉड के 284 मामले दर्ज किए हैं. 2020 से अब तक बलात्कार/हमला/बलात्कार के प्रयास के सिर्फ पांच मामले दर्ज हुए हैं.

ऐप्स पर सेफ्टी और सिक्योरिटी

डेटिंग ऐप्स ने ऑनलाइन प्यार को जन्म नहीं दिया है. लोग तो अपनी ‘बॉलीवुड’ प्रेम कहानियों का पीछा तब से कर रहे हैं जब से वे इंटरनेट पर एक-दूसरे से संदेश भेज पा रहे थे. हां, ऑनलाइन डेटिंग प्लेटफॉर्म ने उन्हें चैटिंग के साथ-साथ ऑफ़लाइन मिलने और डेट तय करने की सहूलियत जरूर दे दी है.

लेकिन यह महिलाओं, नॉन-बाइनरी लोगों और समलैंगिकों के साथ दुर्व्यवहार का एक तरीका बनता जा रहा है. जब आप चैट बॉक्स से बाहर हो जाते हैं तो अक्सर ऐप सुरक्षा सुनिश्चित करने में सक्रिय भूमिका नहीं निभाते हैं, भले ही प्रमुख डेटिंग साइटों ने यूजर्स के लिए ढेर सारे सिक्योरिटी फीचर्स दे रखे हों.

बम्बल खुद को एक नारीवादी ऐप के रूप में पेश करता है जहां बातचीत शुरू करने का पावर बटन महिला के हाथों में होता है. यह यूजर प्रोफाइल को वेरीफाई करने के लिए तस्वीरों की पुष्टि करता है और वेरिफाइड प्रोफाइल पर ‘ब्लू टिक’ लगा देता है. ऐप ने प्रोफ़ाइल पिक्चर में बंदूकों और हथियारों की तस्वीरों पर प्रतिबंध लगाया हुआ है. इसमें एक प्राइवेट डिटेक्टर फीचर भी है जो आटोमेटिकली अश्लील फोटो को धुंधला कर देता है.

हिंज रिपोर्ट पर तुरंत कार्रवाई का वादा करता है. इसकी सेफ्टी गाइडलाइंस कहती हैं, ‘जिस पल किसी की रिपोर्ट की जाती है, हम सुनिश्चित करते हैं कि फिर वे कभी एक-दूसरे की प्रोफ़ाइल न देख पाएं. आपकी सुरक्षा के लिए रिपोर्टिंग में किसी का नाम नहीं लिखा जाता है’

Report to Resolution policy of Hinge | Hinge website
हिंज की रिजॉल्यूशन पॉलिसी रिपोर्ट | Hinge website

धोखाधड़ी पाए जाने पर ऐप ने अपने मेंबर्स को जानकारी देने के लिए भी सक्रिय प्रयास किए हैं.

Screenshot by special arrangement
विशेष व्यवस्था से स्क्रीनशॉट.

भारत में 11 मिलियन रजिस्टर्ड यूजर के साथ ट्रूली मैडली जैसे आला ऐप, सरकारी आईडी का इस्तेमाल करके प्रोफाइल को वेरीफाई करने का विकल्प देते हैं. डेटिंग ऐप के संस्थापक और सीईओ स्नेहिल खानोर ने कहा, ‘सभी के फोटो का वेरिफिकेशन किया जाता है. अगर यूजर ने एक सरकारी आईडी दिया है, तो उनकी प्रोफ़ाइल अधिक भरोसेमंद मानी जाती है.’

खानोर ने कहा कि प्लेटफार्म पर एक प्रोफ़ाइल बनाना आसान नहीं है और मजबूत फ़िल्टरिंग मैकेनिज्म के चलते ऐप की स्वीकृति दर सिर्फ 42 फीसदी है, जिससे किसी शख्स को अपने बारे में गलत जानकारी देने की संभावना कम हो जाती है.

कभी-कभी रेज्यूलेशन प्रॉसेस को अपारदर्शी माना जा सकता है और डेटिंग साइटों के ईमेल अक्सर स्पैम फ़ोल्डर में आ जाते हैं. प्रक्रिया को और अधिक पारदर्शी बनाने के लिए टिंडर ऐप में रिपोर्ट के लिए एक प्रोग्रेस बार लेकर आया है, जहां यूजर्स रेज्यूलेशन को ट्रैक कर सकते हैं. नया फीचर यूजर्स को अपने अनुभवों के साथ आने में अधिक आत्मविश्वास देता है.

टिंडर की मूल कंपनी मैच ग्रुप ने ऑनलाइन डेटिंग को एक सुरक्षित अनुभव बनाने के लिए 125 मिलियन डॉलर का निवेश करने का दावा किया है और 450 लोगों को रोजगार दिया है. ये सभी खासतौर पर टिंडर के ट्रस्ट और सेफ्टी पोर्टफोलियो पर ध्यान दे रहे हैं.


यह भी पढ़ें: दिल्ली की एक अदालत ने दी आफताब पूनावाला के नार्को टेस्ट की मंजूरी, पुलिस हिरासत भी 5 दिन के लिए बढ़ी


पहली बार नहीं

सभी सुरक्षा सुविधाओं के बावजूद, ऑनलाइन डेटिंग बहुत जल्दी गलत साबित हो सकती है – यहां तक कि पुरुषों के लिए भी. 2018 में प्रिया सेठ पर दुष्यंत शर्मा की हत्या का आरोप लगाया गया था, जो टिंडर पर एक करोड़पति के रूप में दर्ज एक शख्स था. लेकिन ऐसे मामले बहुत कम हैं. ऐसा ज्यादा नहीं होता है. महिलाएं ही ज्यादातर इस पर शिकार बनती हैं.

झारखंड के जामताड़ा और हरियाणा के मेवात में साइबर चोरों द्वारा ज्यादातर इस्तेमाल किए जाने वाले कोन्स में से एक सेक्सटॉर्शन, डेटिंग ऐप्स पर भी बहुत आम हो गया है.

भारत में 31 मिलियन डेटिंग ऐप यूजर्स हैं. अमेरिका में ब्रिघम यंग यूनिवर्सिटी की एक रिपोर्ट में पाया गया कि ‘हिंसक यौन शिकारी इस तरह के ऐप का इस्तेमाल मानसिक बीमारियों जैसी कमजोरियों वाली महिलाओं को लक्षित करने के लिए कर रहे हैं.’

हाल ही में नेटफ्लिक्स की डॉक्यूमेंट्री टिंडर स्विंडलर ने ऐप पर परफेक्ट प्रिंस चार्मिंग से मिलने के खतरों के बारे में चेताया है. वास्तव में संभावना है कि वह आपके पैसे लेने के बाद ‘मेंढक’ हो जाए. भारत के ठगों के अपने संस्करण की कहानियां भी खतरे का कारण हैं. LGBTQIA+ समुदाय के सदस्यों को ग्रिंडर जैसे डेटिंग ऐप्स के जरिए निशाना बनाया जाता है और उनके साथ गलत व्यवहार किया जाता है.

वालकर की हत्या ने उन सभी आशंकाओं को फिर से जगा दिया है, जिन्हें लेकर यूजर पहले भी डरा रहता था. विज्ञापन की दुनिया से जुड़ी 25 साल की एक प्रोफेशनल ने नाम न बताने की शर्त पर कहा, ‘मैं कभी-कभी लापरवाह हो जाती हूं और पहली या दूसरी डेट पर भी लोगों को अपने घर पर बुला लेती हूं. क्योंकि बाहर जाना काफी महंगा हो गया है.’ उन्होंने आगे कहा, ‘लेकिन फिलहाल तो मैं हिंज, बम्बल या किसी अन्य डेटिंग ऐप पर फिर से हॉप करने के बजाय एक लंबा ‘ब्रेक’ लेना ज्यादा पसंद करूंगी.’

बिस्मी तसकीन के इनपुट्स के साथ

अनुवाद: संघप्रिया मौर्य

संपादन: इन्द्रजीत

(इस ख़बर को अंग्रेजी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें)


यह भी पढ़ें: आंतों का ‘कीमा’ बनाया, फ्रिज में कोल्ड ड्रिंक के साथ रखा सिर- शेफ ने कैसे अपनी प्रेमिका के शव को ‘छिपाया’


 

share & View comments