scorecardresearch
Thursday, 18 July, 2024
होमफीचर‘चांदनी चौक, लेकिन एसी के साथ’ — ओमेक्स मॉल पुरानी दिल्ली में सबसे नई चीज़ है

‘चांदनी चौक, लेकिन एसी के साथ’ — ओमेक्स मॉल पुरानी दिल्ली में सबसे नई चीज़ है

इसकी रत्नजड़ित मेहराबें और छतें सीधे तौर पर मुगल-ए-आज़म के नृत्य वाले सीन — अतीत की एक बॉलीवुड कल्पना — से मेल खाती हैं.

Text Size:

दिल्ली: पुरानी दिल्ली में बदलाव एक ऐसी चीज़ है जो दशकों से सार्वजनिक बातचीत और राजनीतिक वादों में रही है. यह धीरे-धीरे हो रहा है, एक समय में एक हवेली — मिर्ज़ा ग़ालिब से लेकर धरमपुरा तक के अलावा, यह सबसे ज्यादा हैरान करने वाला है कि चांदनी चौक में एक मॉल बन गया है.

महलनुमा, रील-बनाने लायक ओमेक्स चौक पुरानी दिल्ली का पहला मॉल है, जिसमें मल्टीलेवल पार्किंग, विदेशी फूड कोर्ट, मालाबार गोल्ड और तनिष्क जैसी दुकानें हैं. चमचमाते झूमर, मुगल मेहराब और विशाल गुंबद चांदनी चौक की ऐतिहासिक वास्तुकला के बेमेल आर्ट इसके अंदरूनी भाग की शोभा बढ़ा रहे हैं. इसकी रत्नजड़ित मेहराबें और छतें सीधे तौर पर मुगल-ए-आज़म के नृत्य वाले — अतीत की एक बॉलीवुड कल्पना — से मेल खाती हैं.

अब, यह इंस्टाग्राम पर सबसे नई चीज़ है.

16 मार्च 2024 को जनता के लिए खोले गए ओमेक्स चौक दिल्ली नगर निगम (एमसीडी) और ओमेक्स ग्रुप के बीच सार्वजनिक-निजी साझेदारी है, जिसका उद्देश्य क्षेत्र में यातायात को कम करना और बाज़ार को एक आधुनिक टच देना है.

मॉल, कनॉट प्लेस के चौड़े सफेद स्तंभों और छज्जों की याद दिलाता है जो चांदनी चौक की धूल भरी संकरी गलियों से निकलता है — मेट्रो स्टेशन से बाहर निकलने पर हालांकि, ये नज़र नहीं आता. मॉल के बाहर की सड़क थोड़ी व्यवस्थित है, लेकिन बगल की लेन अभी भी भीड़भाड़ और अव्यवस्थित है — ड्राइवर और वाहन जगह के लिए धक्का-मुक्की कर रहे हैं और मज़दूर सामान को एक छोर से दूसरे छोर तक ले जा रहे हैं, लेकिन ओमेक्स चौक के वातानुकूलित हॉल यहां घूमने आने वाले विदेशी पर्यटकों के लिए एक राहत है. इस बीच, इंस्टाग्राम रील्स अन्य उत्सुक टूरिस्टों को आकर्षित करती हैं — मॉल के इंस्टाग्राम अकाउंट, @omaxe_chowk पर पहले से ही लगभग 50,000 फॉलोअर्स हैं.

चांदनी चौक के स्थानीय विक्रेता और फेरीवाले मॉल की चकाचौंध और ग्लैमर से बेफिक्र हैं. उनके लिए यह चांदनी चौक के आकर्षण को कम नहीं करेगा — लेकिन यह कहना जल्दबाज़ी होगी कि क्या इससे इस इलाके में वास्तव में क्षेत्र में कोई फर्क पड़ेगा.

मेट्रो स्टेशन और नए मॉल के बीच एक तंग गली में 20 साल से जींस और डेनिम बेचने वाले विक्की बताते हैं, “यह मॉल हाई-फाई लोगों के लिए है. नियमित मध्यम वर्ग के लोग मेरे जैसे लोगों से खरीदारी करते रहेंगे.”


यह भी पढ़ें: खालिद सैफुल्लाह क्लिक-बैट ऐप्स के हीरो हैं, भारतीय मुसलमानों को ‘बचाने’ के लिए तकनीक को बढ़ा रहे हैं


‘केवल देखने आए हैं, खरीदारी करने नहीं’

अधिकांश स्थानीय निवासियों और विक्रेताओं का मानना है कि मॉल चांदनी चौक के लिए उपयुक्त है — क्योंकि यह पार्किंग के लिए स्थान देता है.

चांदनी चौक बाज़ार के अभिन्न अंग, एशिया के सबसे पुराने इलेक्ट्रॉनिक्स, ओल्ड लाजपत राय मार्केट में बिजली की दुकान चलाने वाले संजू बताते हैं, “मैंने अपनी कार यहां पार्क की है, मुझे लगता है कि मैं इसे हर दिन यही लगाऊंगा क्योंकि अब मैं यहां अपनी कार ला सकता हूं और अधिक सामान ले जा सकता हूं. यह लंबे समय में मदद करेगा क्योंकि इससे सड़कें कम तंग हो जाएंगी.”

मल्टीलेवल पार्किंग स्थल में 2,200 से अधिक कारें पार्क की जा सकती हैं और यह सभी के लिए प्रमुख आकर्षण है. पार्किंग के पांच लेवल हैं, तीन स्तर अंडरग्राउंड हैं. मॉल तीन मंज़िला ऊंचा है — भूतल और पहली मंजिल, जो अभी भी काफी हद तक खाली हैं, खुदरा दुकानों के लिए रखी गई हैं, जबकि दूसरी मंज़िल दावतपुर है, जो चांदनी चौक की विभिन्न पाक कलाओं/परंपराओं को प्रदर्शित करने वाला फूड कोर्ट है.

दावतपुर चांदनी चौक की शैली को भी दर्शाता है और बाहरी हिस्से को अंदर लाने की कोशिश करता है. पन्ना पुरी, नील नगर, लाल बाग और सुनहरी नगर जैसे क्वार्टरों के बीच गलियों में विभाजित, फूड कोर्ट में टूरिस्ट को दिशा-निर्देश देने के लिए साइनबोर्ड हैं, जो बाहर की ओर गूंजते हैं. रोशनी और चमकीले रंगों से सज़ी, चुस्की और चाट बेचने वाली गाड़ियां, स्थानीय स्वाद का स्पर्श देती हैं.

22-वर्षीय विष्णु पान चबाते हुए और अपने फोन पर वीडियो बनाते हुए कहते हैं, “वे इसे चांदनी चौक जैसा बनाने की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन एसी के साथ!” बहादुरगढ़ के एक मोमो विक्रेता, जो अपने दोस्तों के साथ इस क्षेत्र में अक्सर आते रहते हैं, ने इंस्टाग्राम पर मॉल को ट्रेंड होते देखा और सोचा कि इसे देखने जाना चाहिए. उन्होंने कहा, “यह फैंसी लग रहा है, लेकिन मैं केवल इसे देखने आया हूं, यहां खाने या खरीदारी करने नहीं आया हूं.”

उनके पीछे, एक खाली आभूषण की दुकान के अंदर एक मैनेजर अपने नव-नियुक्त कर्मचारियों को अपेक्षित भीड़ के प्रबंधन के निर्देश दे रहे हैं. वे जिन मुख्य ग्राहकों की उम्मीद कर रहे हैं उनमें पर्यटक और विदेशी शामिल हैं जो किसी विश्वसनीय ब्रांड से सामान खरीदते हैं. अपने इंस्टाग्राम पेज पर मॉल ने घोषणा की है कि 85 से अधिक ब्रांड उसके हॉल के अंदर दुकान स्थापित करने के लिए तैयार हैं.

एक यूरोपीय पर्यटक ने मॉल में हाल ही में खरीदी गई स्टारबक्स कॉफी पकड़े हुए कहा, “हम गर्मी से राहत पाने के लिए यहां आए थे और हमें एहसास हुआ कि यह एक नया मॉल है. यह निश्चित रूप से शहर के एक बहुत ही ऐतिहासिक हिस्से में आधुनिकता का अप्रत्याशित मिश्रण है, लेकिन हम यहां इसीलिए नहीं आए हैं. हम लाल किला देखने आए थे और कुछ दुकानें देखने के लिए चलते-चलते मॉल भी देखा.”

हल्दीराम और ज्ञानीज़ जैसे ब्रांड, जिनकी शुरुआत चांदनी चौक में हुई थी, मॉल के दावतपुर में फ्रेंचाइज़ी स्थापित करने के लिए लौट आए हैं, लेकिन क्या पर्यटक चांदनी चौक की परांठे वाली गली में पोपीज़, स्टारबक्स या वॉव जैसी चेन में खाना खाना पसंद करेंगे? मोमो को देखना बाकी है.


यह भी पढ़ें: हिंदू मंदिरों का संचालन किसे करना चाहिए? तमिलनाडु इस नई रस्साकशी का केंद्र है


एक नया जोड़

67-वर्षीय प्रमोद कुमार अपनी ड्राईक्लीनिंग दुकान से शेरवानी सूट पहनकर मॉल के भव्य सफेद हिस्से को देख रहे हैं. वे दूसरी पीढ़ी का विक्रेता हैं और उनकी कपड़े धोने और सिलाई की दुकान एक सदी से भी अधिक समय से उसी स्थान पर मौजूद है.

वे कहते हैं, “लोग ऐतिहासिक दिल्ली का अनुभव करने के लिए चांदनी चौक आते हैं और हां, वे मोलभाव करने आते हैं. वे किसी मॉल में मोलभाव नहीं कर सकते! यह पार्किंग के लिए एक अच्छी बात है, लेकिन यह चांदनी चौक के लिए एक अच्छा ऑप्शन है. मुझे नहीं लगता कि कुछ बदलेगा, यही इस शहर का तरीका है. शासक और दुकानें दोनों आती हैं और चली जाती हैं, लेकिन बाज़ार बना हुआ है.”

350 साल पुराने बाज़ार का इतिहास मुग़ल बादशाह शाहजहां से मिलता है, जिनकी बेटी जहांआरा ने इसका डिज़ाइन तैयार किया था. यह भारत के सबसे बड़े थोक बाज़ारों में से एक है और समय की कसौटी पर खरा उतरा है और लगातार शहर और इसकी ज़रूरतों के अनुरूप ढलता रहा है. समय के साथ, मूल बाज़ार का विस्तार बहुत बड़े क्षेत्र तक हो गया है, जिसमें उर्दू बाज़ार और फतेहपुरी बाज़ार जैसे अन्य ऐतिहासिक बाज़ार भी शामिल हैं.

ओमेक्स चौक नया है और यही बात लोगों को इसकी ओर आकर्षित करती है. यह अभी तक एक मॉल की तरह चालू नहीं है और फूड कोर्ट बहुत कम आबादी वाला है. इसकी विशाल कांच की खिड़कियां छोटी-छोटी दुकानों से भरी एक गली को देखती हैं, जो किसी तरह बाहर से आने वाले यातायात के लगातार शोर को रोकती हैं. यह चांदनी चौक के शानदार दृश्यों और ध्वनियों से राहत देता है, लेकिन अंदर से एक बिल्कुल नया अनुभव प्रदान करता है: टूरिस्ट केवल मॉल के अंदरूनी हिस्सों को रिकॉर्ड करने के लिए हाथ में फोन लेकर एस्केलेटर पर ऊपर और नीचे कई यात्राएं करते हैं.

सड़क पर फेरीवालों और विक्रेताओं को नहीं लगता कि ग्राहकों की बढ़ती संख्या का उन पर कोई प्रभाव पड़ेगा. वे जानते हैं कि लोग आ रहे हैं क्योंकि यह नया है — हालांकि, कई लोगों को मॉल में जाने का समय नहीं मिला है.

मॉल से कुछ फीट की दूरी पर खड़े एक ऑटो चालक सैय्यद कहते हैं, “चांदनी चौक सभी के लिए है – अमीर और गरीब”, “हर कोई यहां आता है क्योंकि वे जानते हैं कि उन्हें यहां क्या मिलेगा. कुछ भी इसे नहीं बदलेगा, यहां तक कि एक मॉल भी नहीं.”

(संपादन : फाल्गुनी शर्मा)

(इस ग्राउंड रिपोर्ट को अंग्रेज़ी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें)


यह भी पढ़ें: रक्तबीज और प्रधान से बोनबीबी तक-क्या फिल्में बंगाल में राजनीतिक विरोध की भूमिका निभा रही हैं?


 

share & View comments