Saturday, 25 June, 2022
होमएजुकेशनडीयू में मिशन-एडमिशन: हंसराज, SRCC, हिंदू, रामजस सहित 6 कॉलेजों में 100% तक पहुंची कटऑफ

डीयू में मिशन-एडमिशन: हंसराज, SRCC, हिंदू, रामजस सहित 6 कॉलेजों में 100% तक पहुंची कटऑफ

पिछले साल के मुकाबले इस साल कटऑफ अधिक होने की संभावना है क्योंकि सीबीएसई की 12वीं बोर्ड परीक्षा में 70 हजार से अधिक विद्यार्थियों ने 95 प्रतिशत से अधिक अंक प्राप्त किया है.

Text Size:

नई दिल्ली: दिल्ली विश्वविद्यालय (डीयू)ने स्नातक पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए शुक्रवार को पहली कटऑफ सूची जारी की जिसमें एसआरसीसी और हिंदू कॉलेज जैसे कम से कम छह महाविद्यालय हैं, जहां के कई पाठ्यक्रमों के लिए कटऑफ 100 प्रतिशत है.

डीयू के श्री राम कॉलेज ऑफ कामर्स ने अर्थशास्त्र (ऑनर्स) और बीकॉम (ऑनर्स) में, हिंदू कॉलेज और रामजस कॉलेज ने राजनीति शास्त्र (ऑनर्स) में, हिंदू कॉलेज और एसजीटीबी खालसा कॉलेज ने बीकॉम में, हंसराज कॉलेज और दीन दयाल उपाध्याय कॉलेज ने कंप्यूटर विज्ञान (ऑनर्स) में और जीसस ऐंड मैरी कॉलेज ने मनोविज्ञान (ऑनर्स) पाठ्यक्रम में 100 परशेंट कटऑफ की घोषणा की है.

दिल्ली विश्वविद्यालय के संबद्ध महाविद्यालयों के प्रधानाचार्यों का कहना है कि पिछले साल के मुकाबले इस साल कटऑफ अधिक होने की संभावना है क्योंकि सीबीएसई की 12वीं बोर्ड परीक्षा में 70 हजार से अधिक विद्यार्थियों ने 95 प्रतिशत से अधिक अंक प्राप्त किया है.

गौरतलब है कि वर्ष 2020 में लेडी श्रीराम कॉलेज ने तीन पाठ्यक्रमों- अर्थशास्त्र, राजनीति विज्ञान और मनोविज्ञान में बीए (ऑनर्स) के लिए शत प्रतिशत कटऑफ जारी की थी.

दिल्ली विश्वविद्यालय से सबद्ध महाविद्यालयों में आवेदन की प्रक्रिया चार अक्टूबर से शुरू होगी. इस साल करीब 2.87 लाख विद्यार्थियों ने दिल्ली विश्वविद्यालय के विभिन्न स्नातक पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए पंजीकरण कराया गया जो पिछले साल के 3.53 लाख आवेदन की तुलना में कम है. इनमें से भी सबसे अधिक उम्मीदवार सीबीएसई बोर्ड के हैं.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

आंकड़ों के मुताबिक करीब 2.29 लाख आवेदक सीबीएसई से सबद्ध स्कूलों के हैं. इसके बाद हरियाणा स्कूल शिक्षा बोर्ड (9,918), काउंसिल फॉर इंडियन स्कूल सर्टिफिकेशन इग्जैमिनेशन (9,659) और उत्तर प्रदेश उच्च एवं इंटरमीडिएट शिक्षा बोर्ड (8007) के विद्यार्थियों का स्थान है.

पिछले साल अर्थशास्त्र में बीए (ऑनर्स) करने के लिए 98.5 प्रतिशत अंक और अंग्रेजी विषय में बीए (ऑनर्स) के लिए 99 प्रतिशत अंक उन विद्यार्थियों के लिए निर्धारित किए गए थे जो कॉमर्स से आए हैं जबकि ह्यूमैनिटीज़ और साइंस के विद्यार्थियों के लिए 97 प्रतिशत थी.

हंसराज कॉलेज ने इस साल अर्थशास्त्र में बीए (ऑनर्स), भौतिकशास्त्र में बीएससी (ऑनर्स) और बीकॉम (ऑनर्स) के लिए कटऑफ क्रमश: 99.75 प्रतिशत, 99.66 प्रतिशत और 99.75 प्रतिशत तय किया है.

पिछले साल कॉलेज की अर्थशास्त्र में बीए (ऑनर्स), भौतिकशास्त्र में बीएससी (ऑनर्स) और बीकॉम (ऑनर्स) का कटऑफ क्रमश: 98.75 प्रतिशत, 98.33 प्रतिशत और 99.25 प्रतिशत थी.

दिल्ली विश्वविद्यालय के संबद्ध महाविद्यालयों के प्रिंसिपल्स का कहना है कि पिछले साल के मुकाबले इस साल कटऑफ अधिक होने की संभावना है क्योंकि सीबीएसई की 12वीं बोर्ड परीक्षा में 70 हजार से अधिक विद्यार्थियों ने 95 प्रतिशत से अधिक अंक प्राप्त किया है.


य़ह भी पढ़ें: PhD नहीं की है? आप इस साल भी असिस्टेंट प्रोफेसर के लिए कर सकते हैं आवेदन, शिक्षा मंत्री ने कहा


एनएसयूआई ने छात्रों के लिए हेल्पलाइन शुरू की

कांग्रेस की छात्र इकाई भारतीय राष्ट्रीय छात्र संगठन (एनएसयूआई) ने दिल्ली विश्वविद्यालय (डीयू) में प्रवेश प्रक्रिया के बारे में विद्याथियों को जानकारी देने के मकसद एक हेल्पलाइन नंबर शुरू किया है.

एनएसयूआई की ओर से हेल्पलाइन नंबर 9268030030 की शुरुआत करते हुए इस छात्र संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष नीरज कुंदन ने कहा कि छात्रों को किसी तरह की परेशानी नहीं हो, यह सुनिश्चित करना उनके संगठन का कर्तव्य है.

कुंदन ने कहा, ‘हमने हमेशा छात्रों की परेशानी को समझा है. आज दूसरी विचारधाराओं के लोग भी हमसे जुड़ रहे हैं. सभी छात्रों का जल्द टीकाकरण होना चाहिए और इसके बाद छात्र संघ का चुनाव होना चाहिए.’

उधर, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) से जुड़ी छात्र इकाई अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) की दिल्ली इकाई के पूर्व अध्यक्ष रामनिवास बिश्नोई एनएसयूआई में शामिल हुए.

उन्होंने कहा, ‘कोरोना काल में जब एनएसयूआई लोगों की मदद कर रहा थी तो एबीवीपी के लोग घरों में बैठे हुए थे. मैं राहुल गांधी के विचारों से प्रभावित होकर एनएसयूआई से जुड़ा हूं.’

(भाषा के इनपुट्स के साथ)


यह भी पढ़ें: दिल्ली विश्वविद्यालय में बीते 10 सालों में अंग्रेजी साहित्य के कोर्स में क्या-क्या हुए बदलाव


 

share & View comments