Thursday, 20 January, 2022
होमएजुकेशनUPTET पेपर लीक मामले में शिक्षा विभाग के निदेशक 14 दिन की न्यायिक हिरासत में

UPTET पेपर लीक मामले में शिक्षा विभाग के निदेशक 14 दिन की न्यायिक हिरासत में

इस मामले में एसटीएफ ने अलीगढ़ से भी एक व्यक्ति को आज गिरफ्तार किया है, जबकि कल दिल्ली स्थित एक प्रिंटिंग प्रेस के मालिक को गिरफ्तार किया था.

Text Size:

नोएडा(उप्र): उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा वर्ष 2021 के पेपर लीक होने के मामले में लखनऊ से गिरफ्तार किये गये बेसिक शिक्षा विभाग के निदेशक को बुधवार को उत्तर प्रदेश एसटीएफ (नोएडा यूनिट) ने अदालत में पेश किया जहां से उन्हें 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया. एसटीएफ के एक अधिकारी ने इसकी जानकारी दी.

इस मामले में एसटीएफ ने अलीगढ़ से भी एक व्यक्ति को आज गिरफ्तार किया है, जबकि कल दिल्ली स्थित एक प्रिंटिंग प्रेस के मालिक को गिरफ्तार किया था. इस मामले में थाना सूरजपुर में एसटीएफ द्वारा विभिन्न प्रिंटिंग प्रेस के मालिकों के खिलाफ गैंगस्टर एक्ट के तहत भी मुकदमा दर्ज करवाया गया है.

उत्तर प्रदेश विशेष कार्य दल (एसटीएफ) के नोएडा के अधीक्षक राजकुमार मिश्रा ने बताया कि 28 नवंबर को होने वाली उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा का प्रश्न पत्र परीक्षा वाले दिन ही सोशल मीडिया पर वायरल हो गया.

उन्होंने बताया कि इस मामले में नोएडा एसटीएफ ने आज बेसिक शिक्षा विभाग के निदेशक (सचिव परीक्षा नियामक प्राधिकारी) संजय उपाध्याय को गिरफ्तार किया है. उन्होंने बताया कि उपाध्याय को आज गौतमबुद्ध नगर जनपद न्यायालय में पेश किया गया जहां आरोपी को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया .

उन्होंने बताया कि जांच में पता चला है कि शिक्षक पात्रता परीक्षा के प्रश्न पत्र छपवाने सहित अन्य चीजों का टेंडर इन्होंने ही दिया था. उन्होंने बताया कि संजय उपाध्याय पूर्व में गाजियाबाद में जिला शिक्षा अधिकारी के रूप में तैनात रह चुके हैं.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

एसटीएफ के अधिकारी गिरफ्तार आरोपी से गहनता से पूछताछ कर रहे हैं. उत्तर प्रदेश सरकार ने कल संजय उपाध्याय को निलंबित कर दिया था. उन्होंने बताया कि संजय उपाध्याय के पास से कई महत्वपूर्ण दस्तावेज, लैपटॉप आदि बरामद हुआ है और पूछताछ के दौरान कई अहम जानकारियां मिली है.

उन्होंने बताया कि एसटीएफ ने जनपद अलीगढ़ से गौरव कुमार पुत्र प्रमोद कुमार को भी आज इस मामले में गिरफ्तार किया है. उन्होंने बताया कि इस व्यक्ति के भी शिक्षक पात्रता परीक्षा में हुयी धांधली में शामिल होने का संदेह है. इसके पास से लैपटॉप प्रिंटर लैमिनेशन मशीन आदि बरामद हुई है.

उन्होंने बताया कि इस मामले की जांच कर रही एसटीएफ ने टीईटी परीक्षा के दिल्ली में पेपर छापने वाले प्रिंटिंग प्रेस के मालिक राय अनूप प्रसाद मूलनिवासी जनपद गोरखपुर को कल गिरफ्तार किया है. इनकी दिल्ली के ओखला में प्रिंटिंग प्रेस है. उन्होंने बताया कि जांच में पता चला है कि कोलकाता, नोएडा, दिल्ली में स्थित विभिन्न प्रिंटिंग प्रेसों मे टीईटी की परीक्षा के प्रश्न पत्र छपवाए गए थे. इस मामले में एसटीएफ की तरफ से पांच प्रिंटिंग प्रेस के मालिकों के खिलाफ थाना सूरजपुर में गैंगस्टर एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज हुआ है.


यह भी पढ़ेंः TET पेपर लीक कराने वालों के ख़िलाफ रासुका लगाएगी यूपी सरकार, विपक्ष ने कहा- ‘युवाओं के भविष्य के साथ खिलवाड़’


 

share & View comments