scorecardresearch
Tuesday, 23 July, 2024
होमसमाज-संस्कृतिनए-नए स्वतंत्र हुए भारत की ज़मीनी हकीकत को दिखाती कॉमेडी ड्रामा फिल्म है बूट पॉलिश

नए-नए स्वतंत्र हुए भारत की ज़मीनी हकीकत को दिखाती कॉमेडी ड्रामा फिल्म है बूट पॉलिश

एक ऐसे युग में जब अधिकांश हिंदी फिल्मों में वयस्क किरदारों को नायक के रूप में दिखाया जाता था, 'बूट पॉलिश' अपने मुख्य बाल किरदारों- भोला और बेलू के साथ अलग नज़र आई.

Text Size:

गरीबी के इर्द-गिर्द कहानियां गढ़ने के लिए बच्चे अक्सर एक शक्तिशाली माध्यम होते हैं. फर्नांडो मीरेल्स की सिटी ऑफ़ गॉड (2002) जैसी समीक्षकों द्वारा प्रशंसित फ़िल्में, जो रियो में उम्मीदों, सपनों और हिंसा पर आधारित हैं, से लेकर डैनी बॉयल की स्लमडॉग मिलियनेयर (2008) जो मुंबई की सड़कों पर सामने आती है, दिखाती हैं कि शहरी गरीबी का यह चित्रण समय के साथ कैसे आकार लेता और विकसित होता है.

1950 के दशक के बॉलीवुड में, गुरु दत्त की बाज़ी (1951) और ज़िया सरहदी की फुटपाथ (1953) जैसी फ़िल्मों में यह बार-बार देखने को मिलता है. लेकिन राज कपूर की फ़िल्में बिल्कुल अलग लीग की थीं. आवारा (1951), जिसे उन्होंने प्रोड्यूस और निर्देशित किया, दिखाती है कि कैसे अपराधी पैदा नहीं होते बल्कि आधुनिक शहरों की झुग्गियों में बनाए जाते हैं. बूट पॉलिश (1954) के साथ, उन्होंने संगठित भीख मांगने के उद्योग को उजागर किया.

जबकि इसे एक कॉमेडी-ड्रामा के रूप में पेश किया गया था, बूट पॉलिश एक नए स्वतंत्र भारत का एक आलोचनात्मक दृष्टिकोण भी था जो लगातार अपने लोगों और अपने बच्चों को निराश कर रहा था.

“इस फिल्म का उद्देश्य आपको यह बताना है कि ये अनाथ बच्चे आपकी उतनी ही जिम्मेदारी हैं जितनी सरकार की. व्यक्तिगत दान इस समस्या को हल नहीं करेगा क्योंकि इसका एकमात्र समाधान राष्ट्रीय स्तर पर एक सहकारी प्रयास है,” राज कपूर ने 2 अप्रैल 1954 को द इंडियन एक्सप्रेस में ‘मैंने बूट पॉलिश क्यों बनाई’ शीर्षक से लिखा था.

एक साधारण प्लॉट

प्रकाश अरोड़ा द्वारा निर्देशित और 1954 में रिलीज़ हुई, बूट पॉलिश दो अनाथ भाई-बहनों की मार्मिक कहानी और अभाव से गरिमा तक के उनके सफर को बताती है. सरल कथानक दो बाल कलाकारों – रतन कुमार ने भोला की भूमिका निभाई, और कुमारी नाज़ ने बेलू की भूमिका निभाई – के कंधों पर सवार थी, जो अपनी दुष्ट चाची, कमला देवी (चांद बर्क) के साथ रहते हैं.

फिल्म शुरू से ही गरीबी और अपमान के चक्र और सड़क पर जीवन की कठोर वास्तविकताओं को दर्शाती है. कमला बच्चों को भीख मांगने के लिए मजबूर करती है. वह उनके जीवन के हर पहलू को नियंत्रित करती है, जिसमें यह भी शामिल है कि उन्हें खाना मिले या न मिले. लेकिन जब भोला ट्रेन में जूते पॉलिश करके पैसे कमाने वाले एक आदमी को देखता है, तो उसे अहसास होता है कि जीवन में भीख मांगने से कहीं ज़्यादा कुछ है. वह बूट पॉलिश करने वाला बनना चाहता है.

इस फिल्म को जो चीज बचाती है, वह है दोनों अभिनेताओं के बीच की केमिस्ट्री और एक स्क्रिप्ट जो उन सभी मार-पीटों की पृष्ठभूमि में उनकी हल्की-फुल्की हरकतों पर केंद्रित है, जिन्हें उन्हें सहना पड़ता है. वे दर्शकों को एक बहुत ज़रूरी राहत देते हैं – तब भी जब वे भूखे सोते हैं.

भाई-बहनों का एक दोस्त जॉन चाचा (डेविड अब्राहम चेउलकर द्वारा अभिनीत) है, जो शराब बेचने वाला एक तस्कर है. वह उन्हें अपनी ईमानदारी से समझौता किए बिना पैसे कमाने के लिए प्रेरित करता है. और, उनका ‘बूट पॉलिश’ व्यवसाय शुरू हो जाता है.

जूते पॉलिश करने का कोई अनुभव न होने के बावजूद, भोला और बेलू के मज़ेदार प्रयास दर्शकों को हंसाते हैं. फिल्म में मासूम आदर्शवाद है – शायद यह नए भारत का प्रतिबिंब है. बच्चों को अपने फैसले खुद लेने और बिना किसी अधिकार के आजीविका कमाने का अधिकार दिया गया है.

भोला और बेलू: शो के सितारे

उनका नया बूट पॉलिश का व्यवसाय मानसून के शुरू होने तक अच्छा चलता है. उनके पास फिर से सड़कों पर भीख मांगने के अलावा कोई विकल्प नहीं है. एक महत्वपूर्ण दृश्य में, बेलू बुखार से कांप रही है और उसे कई दिनों से खाना नहीं मिला है. वह फिर से भीख मांगने के लिए तैयार है. जब एक राहगीर उसे एक सिक्का देता है, तो भोला उसे भीख मांगने के लिए थप्पड़ मारता है. अपने इस कृत्य का बचाव करते हुए, रोती हुई बेलू कहती है, “क्या करूं? मुझे भूख लग रही है.”

लेकिन उनके रिश्ते की परीक्षा तब होती है जब बेलू को एक अमीर परिवार गोद ले लेता है. और पहली बार उनके जीवन में भाई-बहन अलग हो जाते हैं. भोला पर एक के बाद एक त्रासदी आती रहती है. उसे कुछ समय के लिए गिरफ्तार कर लिया जाता है, उसके पास खुद का भरण-पोषण करने का कोई साधन नहीं होता और वह फिर से भीख मांगने के लिए मजबूर हो जाता है. और तभी वह अपनी बहन को उसके अमीर परिवार के साथ फिर से देखता है. फिल्म के अंतर्निहित आशावाद को देखते हुए, एक सुखद अंत होता है जहाँ भाई-बहन फिर से मिल जाते हैं.

एक ऐसे युग में जहाँ लगभग सभी हिंदी फिल्मों में वयस्क किरदार ही नायक होते थे, बूट पॉलिश अलग है. फिल्म में असली सितारे भोला और बेलू थे.

बेलू के रूप में नाज़ पूरे फिल्म की सुर्खियां बटोर लेती है. उस वर्ष कान फिल्म महोत्सव में उनका विशेष उल्लेख भी किया गया. यह स्वीकार करना कठिन है कि जब उन्होंने फिल्म में अभिनय किया था तब वह केवल आठ वर्ष की थीं.

राज कपूर द्वारा घोस्ट-निर्देशन

प्रकाश अरोड़ा का निर्देशन दिखता है क्योंकि वह बच्चों की यात्रा की भावनात्मक गहराई को बारीकी से पकड़ते हैं. बूट पॉलिश ने बॉलीवुड को नन्हे मुन्ने बच्चे तेरी मुट्ठी में क्या है, हम मतवाले पॉलिश वाले और रात गई फिर दिन आता है जैसी कुछ यादगार क्लासिक फ़िल्में भी दीं.

लेकिन कई रिपोर्ट्स में बार-बार यह कहा गया है कि निर्माता राज कपूर ने ही फिल्म का निर्देशन किया था. 2013 में rediff.com को दिए गए एक इंटरव्यू में राज कपूर के बेटे और अभिनेता ऋषि कपूर ने साफ तौर पर कहा था कि उनके पिता “फिल्म के बनने के तरीके से खुश नहीं थे.”

ऐसा कहा जाता है कि बूट पॉलिश के मूल कट में कोई गाना नहीं था. अपने पिछले प्रोडक्शन आह की असफलता से सबक लेते हुए कपूर ने फिर से जोखिम लेने से परहेज किया. फिर उन्होंने कम समय में संगीतकार जोड़ी शंकर-जयकिशन को साउंडट्रैक बनाने का काम सौंपा.

ऐसा नहीं है कि बूट पॉलिश कुछ कमियां नहीं हैं – इसमें कुछ अजीबोगरीब बातें हैं. जॉन चाचा के जेल में होने वाले दृश्य कथानक से अलग लग रहे थे. हालांकि लपक झपक तू आ रे बदरवा गाना लोकप्रिय हुआ था. सेटिंग और बैकड्रॉप कहानी में फिट नहीं बैठे. ऐसा लग रहा था कि निर्माता फिल्म के बीच में गाना घुसाने का कोई बहाना ढूंढ रहे थे.

फिल्म का आखिरी आधा घंटा अपने सुखद संयोगों के साथ अब अवास्तविक लगता है. लेकिन शायद 1950 के दशक के भारत में, भूले-बिसरे बच्चों ने भी सपने देखने की हिम्मत की.

(इस खबर को अंग्रेज़ी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.)


यह भी पढ़ेंः फौजी पति जुदाई को बड़ी सहजता से लेते हैं और पत्नियां…आखिर कैसी होती है सैनिक पत्नियों की ज़िंदगी


 

share & View comments