Sunday, 3 July, 2022
होमदेशदिलीप कुमार- बहुआयामी अभिनेता जिसने भारतीय सिनेमा के रंग-ढंग को बदल दिया

दिलीप कुमार- बहुआयामी अभिनेता जिसने भारतीय सिनेमा के रंग-ढंग को बदल दिया

दिलीप साहब एक बड़े फलक के कलाकार हैं जिन्होंने न केवल सिनेमा के रंग-ढंग को बदला बल्कि उसे संजीदगी से पर्दे पर उतारने के लिए खुद बड़ी मेहनत की.

Text Size:

भारतीय सिनेमा के शानदार अभिनेता दिलीप कुमार बीते कुछ दिनों से सांस की तकलीफ के कारण मुंबई के हिंदुजा अस्पताल में भर्ती हैं. उनकी सेहत को लेकर तरह-तरह की अटकलें लगाई जा रही हैं तब उनके ही ट्विटर हैंडल से ट्वीट कर लोगों से गुजारिश की गई कि भ्रम की स्थिति न बनाएं. साहेब स्वस्थ्य हैं.

दिलीप साहब की पत्नी और अपने समय की मशहूर अदाकारा सायरा बानो ने सोमवार को एक संदेश में कहा, ‘बीते कई दिनों से मेरे शौहर यूसुफ खान अस्वस्थ हैं और मुंबई के अस्पताल में उनका इलाज चल रहा है. आप सभी की प्रार्थना और प्यार के लिए मैं आपकी शुक्रगुज़ार हूं.’

उन्होंने बताया, ‘मेरे कोहिनूर और हमारे दिलीप साहब का स्वास्थ अब स्थिर है और डॉक्टरों ने मुझे आश्वस्त किया है कि उन्हें जल्द ही अस्पताल से छुट्टी मिल जाएगी.’ बानो ने लोगों से ये अपील की कि वे भ्रामक सूचनाओं पर विश्वास न करें.

भारतीय सिनेमा के रुपहले पर्दे पर अगर चंद कुछ नामों का जिक्र किया जाए जिसने सबसे ज्यादा दर्शकों को प्रभावित किया, तो दिलीप कुमार उनमें से एक हैं. अपने पांच दशक से भी ज्यादा के कैरियर में सिर्फ 60 के करीब उन्होंने फिल्में की और ये कहने में कोई संकोच नहीं कि लगभग सारी फिल्में कला, संगीत, कहानी और प्रदर्शन के स्तर पर लाजवाब थीं.

दिलीप साहब के अच्छे स्वास्थ्य के लिए जब करोड़ों लोग दुआ कर रहे हैं, तब दिप्रिंट उनके व्यक्तित्व, सिनेमाई सफर और निजी जिंदगी को टटोलने की कोशिश कर रहा है.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें


यह भी पढ़ें: मोदी सरकार ने अपने हाथों में लिया वैक्सीनेशन अभियान, 80 करोड़ लोगों को दिवाली तक मिलेगा मुफ्त राशन


‘अल्लाह का नूर चेहरे को रोशन रखेगा’

दिलीप कुमार अपनी आत्मकथा ‘दिलीप कुमार- वजूद और परछाई’ में अपने बचपन के दिनों का जिक्र करते हुए कहते हैं कि एक फकीर ने एक बार उनके बारे में घोषणा की थी कि ये कोई आम बालक नहीं है.

वो कहते हैं, ‘फकीर ने मेरी दादी से कहा था कि यह बच्चा बहुत मशहूर होने के लिए और असाधारण ऊंचाइयों पर पहुंचने के लिए बना है. इस लड़के का अच्छी तरह ध्यान रखना, इसे दुनिया की नज़रों से बचाकर रखना, अगर तुमने इसे बुरी नज़रों से बचा लिया तो यह लड़का बुढ़ापे में भी खूबसूरत रहेगा.’

‘अगर इसे बचाना चाहती हो तो इसे काला टीका लगाकर उसका चेहरा बिगाड़कर रखो अगर नहीं रखा तो इसे समय से पहले ही खो दोगी. अल्लाह का नूर इसके चेहरे को हमेशा रोशन रखेगा.’

दिलीप कुमार के चेहरे पर वही खूबसूरती का नूर आज भी झलकता है जो उनके चाहने वालों ने 1950 के दशक में देखा होगा.


यह भी पढ़ें: ‘कोविड, विदेश नीति, राष्ट्रीय सुरक्षा’- मोदी सरकार की ‘विफलताओं’ का व्हाट्सएप यूनिवर्सिटी कैसे बचाव कर रही है


भाषा पर पकड़ और पढ़ने का शौक

दिलीप कुमार की फिल्मों या उनके साक्षात्कारों को ध्यान से देखा जाए तो एक बात जो साफ झलकती है वो उनकी भाषा की स्पष्टता है. जब वो बोलते हैं तब हिंदी, उर्दू और अंग्रेज़ी में समान अधिकार रखते हैं.

दिलीप कुमार-वजूद और परछाई  के फॉर्वर्ड में उनकी पत्नी और अपने समय की जानी-मानी अदाकारा सायरा बानो कहती हैं, ‘शब्दों और भाषा के ऊपर उनकी ऐसी जबरदस्त पकड़ है चाहे अंग्रेज़ी हो या उर्दू और मुझे इसमें कोई शक नहीं है कि ऐसा कहने वाली मैं अकेली नहीं हूं.’

बानो कहती हैं, ‘उनके असंख्य चाहने वालों में कुछ ही लोग जानते हैं कि दिलीप कुमार बहुत बड़े पढ़ाकू थे. चाहे वह कोई उपन्यास हो, चाहे नाटक या जीवनी, क्लासिक साहित्य के लिए उनका प्यार सबसे बढ़कर था.’

ये जानना दिलचस्प है कि फ्योदोर दास्तोव्यस्की, टेनिसन विलियम्स और जोसेफ कोनराड उनके प्रिय लेखकों में से थे. दिलीप साहब को कला, शास्त्रीय संगीत और नृत्य का भी काफी शौक है. इसकी झलक उनकी कई फिल्मों में भी दिखती है.


यह भी पढ़ें: ‘उसने गांधी को क्यों मारा’- गांधी हत्या के पीछे के ‘वैचारिक षड्यंत्र’ को उजागर करती किताब


एक्टिंग के स्टाइल को बदल दिया

1950 के दशक में भारतीय सिनेमा के सबसे बड़े अभिनेताओं में राज कपूर, देवानंद और दिलीप कुमार थे. तीनों ही अपने समय के बेहतरीन अभिनेता थे. लेकिन एक्टिंग (अदाकारी) के स्टाइल के जिस रूप को दिलीप साहब ने पर्दे पर उतारा उसने भारतीय सिनेमा में एक बड़ा बदलाव ला दिया. इसे तकनीकी तौर पर मेथड एक्टिंग कहा जाता है.

मेथड एक्टिंग के भारत या विदेश में प्रचलन में आने से बहुत पहले दिलीप कुमार ने भावपूर्ण अभिनय का अपना ही सलीका ईजाद किया.

बानो बताती हैं कि दिलीप साहब एक बार में एक फिल्म में ही काम करते थे और यह उनके संपूर्ण समर्पण और उनकी एकाग्रता के कारण था.

दिलीप कुमार खुद अपनी आत्मकथा में कहते हैं, ‘इसमें बेहद खतरा रहता है कि आप एक फिल्म में ही काम करें जबकि दूसरे एक्टर एक समय में दो या तीन फिल्में कर रहे होते थे. मैंने यह तय किया कि मैं एक समय में एक ही फिल्म करूंगा. यह सिर्फ अपने चुने हुए विषय के प्रति मेरा विश्वास होता था और वह मेहनत जो मैं उस भूमिका के लिए करता था.’

यही कारण है कि अपने पांच दशक से भी ज्यादा के फिल्मी सफर में उन्होंने 60 के करीब ही फिल्में कीं.

उदयतारा नायर जो कि दिलीप कुमार और सायरा बानो की काफी करीबीं हैं, उन्होंने ही उनके जीवन को पन्नों पर उतारा है. उनका कहना है कि दिलीप साहब पर जो किताबें लिखी गईं उनमें काफी भ्रामक सूचनाएं हैं और वो खुद भी इस बात को स्वीकारते हैं.


यह भी पढ़ें: आज़ादी- ‘तेज़ी से तैयार होती भारतीय फासीवाद की इमारत’


आज़ादी की लड़ाई में हुई गिरफ्तारी

पेशावर (अब पाकिस्तान) के किस्सा ख्वानी बाज़ार में 1922 में यूसुफ खान (जो आगे चलकर दिलीप कुमार बने) का जन्म हुआ. दिलचस्प बात ये है कि इसी सप्ताह खैबर पख्तूनख्वा के पुरातत्व और संग्रहालय निदेशालय ने दिलीप कुमार और राज कपूर के पुश्तैनी मकानों का अधिग्रहण किया है और इसे जल्द ही संग्रहालय में तब्दील किया जाएगा.

दिलीप कुमार के पिता मुंबई में फलों के बड़े कारोबारी थे और शुरुआती दिनों में वो भी अपने पारिवारिक काम में लगे हुए थे. लेकिन कुछ समय बाद उन्होंने ब्रिटिश आर्मी क्लब पूना में काम करना शुरू किया. वहां उन्होंने फलों और सैंडविच का एक स्टाल लगाने की अनुमति ली. जिससे उनके ब्रिटिश अफसरों के साथ रिश्ते अच्छे बने बल्कि इसके चलते क्लब में और भी लोग आने लगे.

इसी बीच उन्होंने एक दिन भारत की आज़ादी की लड़ाई का समर्थन किया और उसके बाद उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया. इसके बाद वे फिर से अपने पिता के कारोबार में लग गए.


यह भी पढ़ें: हिंदू राष्ट्रवाद की विचारधारा तले अटल-आडवाणी की ‘जुगलबंदी’ और नरेंद्र मोदी का भारतीय राजनीति में उदय


देविका रानी से मुलाकात और पहचान में तब्दीली

एक दिन उनकी मुलाकात बॉम्बे टाकीज़  फिल्म प्रोडक्शन हाउस की मालकिन देविका रानी से हुई जो उस समय तक मशहूर अदाकारा बन चुकी थीं. देविका रानी ने उन्हें फिल्मों में काम करने का ऑफर दिया जिसे दिलीप कुमार ने स्वीकार लिया.

इसी बीच देविका रानी ने यूसुफ खान से उनका नाम बदलने का प्रस्ताव रखा जिसे सुनते ही वो हैरान रह गए. अपनी आत्मकथा में दिलीप कुमार ने इसका विस्तार से जिक्र किया है.

देविका रानी ने उन्हें दिलीप कुमार नाम सुझाया जिसे उन्होंने कुछ देर सोचने के बाद स्वीकार लिया और तब से लेकर आज तक हर कोई उन्हें दिलीप कुमार के नाम से जानता है.

दिलचस्प बात ये है कि भारतीय सिनेमा जगत में यूसुफ खान अकेले नहीं हैं जिन्होंने अपनी पहचान बदली बल्कि ऐसा करने वालों में बड़-बड़े कलाकार शामिल हैं.

ऐसा करने वालों में राज कपूर, शम्मी कपूर, शशि कपूर, अशोक कुमार, देवानंद, गुरू दत्त, धर्मेंद्र, जॉनी वाकर, रजनीकांत, राजेश खन्ना, सुनील दत्त, अक्षय कुमार जैसे नाम शामिल हैं. दर्शकों के बीच एक सहज और सरल छवि पेश करने के लिए ही ऐसा किया जाता रहा है.


यह भी पढ़ें: ‘शहरीकरण, जलवायु परिवर्तन, जनसंख्या वृद्धि’- क्यों 2031 तक लखनऊ में गहरा सकता है पानी का संकट


फिल्मी सफर की शुरुआत

1944 में दिलीप कुमार की पहली फिल्म ‘ज्वार भाटा ‘ आई, जो ज्यादा कमाल नहीं दिखा सकी. उस वक्त वो केवल 22 साल के ही थे. देविका रानी ने उनकी काबिलियत भांप ली थी और उन्होंने दिलीप कुमार को फिर मौका दिया.

कुछ शुरुआती असफलताओं के बाद 1947 में आई फिल्म जुगनू  सफल रही जिसमें दिलीप कुमार के साथ नूरजहां थीं. इसके बाद 1948 में शहीद और मेला भी उनकी सफल फिल्में रहीं. इसके बाद 1949 में आई महबूब खान की फिल्म अंदाज काफी सफल रही जिसमें राज कपूर और नरगिस भी थे.

1950 के बाद दिलीप कुमार ने एक से बढ़कर एक फिल्में की. जिनमें तराना, संगदिल, अमर, इंसानियत, नया दौर, यहूदी, मधुमति, पैगाम, आन (पहली टेक्नीकलर फिल्म), मुगल-ए-आज़म, कोहिनूर, आज़ाद, लीडर, दाग , गोपी, राम और श्याम  शामिल हैं. इन फिल्मों ने उन्हें ट्रैजेडी किंग के तौर पर भारतीय सिनेमा में स्थापित कर दिया.


यह भी पढ़ें: ‘रिपब्लिक ऑफ हिंदुत्व’- सोशल इंजीनियरिंग से कैसे लोगों को साध रहा है RSS


अदाकारी और संगीत

अपने समय की मशहूर अभिनेत्री मधुबाला और वैजयंती माला के साथ दिलीप कुमार ने कई फिल्में की.

मधुबाला के साथ दिलीप साहब तराना, अमर, मुगल-ए-आज़म में नज़र आए वहीं वैजयंती माला के साथ उन्होंने सबसे ज्यादा फिल्में की. इसमें नया दौर, मधुमति, गंगा जमुना, संघर्ष, पैगाम, लीडर, देवदास जैसे बेहतरीन फिल्में शामिल हैं.

1940 के उत्तरार्द्ध में सिनेमा के केंद्र में संगीत की भूमिका बढ़ने लगी. दिलीप साहब की फिल्मों में भी संगीत कमाल का होता था. एक्टिंग में बदलाव और संगीत को तवज्जो ने सिनेमा को तो बदला ही बल्कि दर्शकों का एक बड़ा वर्ग तैयार हुआ जिसने इस तब्दीली को सराहा.

दिलीप साहब की अदाकारी तो शानदार होती ही थी लेकिन उन फिल्मों का संगीत भी गजब होता था. 1952 में आई फिल्म आन को ही लिया जाए तो इसमें दिलीप कुमार के साथ निम्मी और नादिरा काम कर रही थीं. इस फिल्म का संगीत नौशाद साहब ने दिया था. इस फिल्म का एक गीत- ‘दिल में छुपाकर प्यार का तूफान ले चले ‘ आज भी लोगों की पसंद है.

इसी तरह 1957 में आई फिल्म नया दौर उस समय की बड़ी हिट थी. इस फिल्म के गानों को याद करें तो मांग के साथ तुम्हारा, मैंने मांग लिया संसार और उड़े जब जब जुल्फें तेरी  में दिलीप कुमार के किरदार में एक अलग रुहानगी नज़र आती है. मुगल-ए-आज़म फिल्म के रोमांटिक सीन्स में भी दिलीप साहब ने कमाल की अदाकारी की है.

इसमें दोराय नहीं है कि दिलीप साहब एक बड़े फलक के कलाकार हैं जिन्होंने न केवल सिनेमा के रंग-ढंग को बदला बल्कि उसे संजीदगी से पर्दे पर उतारने के लिए खुद बड़ी मेहनत की. अपनी आत्मकथा में वो इस बात को खुद स्वीकारते भी हैं.


यह भी पढ़ें: जयप्रकाश नारायण की ‘संपूर्ण क्रांति’ ने भारतीय राजनीति को कैसे बदल दिया


राजनीति

दिलीप कुमार ने अपने लंबे सफर में कुछ क्षण राजनीति को भी दिया. भारत के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू के साथ उनके अच्छे संबंध थे और नेहरू उन्हें काफी पसंद करते थे.

महाराष्ट्र में बाल ठाकरे और शरद पवार उनके अच्छे दोस्तों में से रहे हैं. दिलीप कुमार के बीमार होने की खबर सुनते ही 6 जून को शरद पवार उनसे अस्पताल में मिलने पहुंचे.

दिलीप कुमार 2000-2006 तक राज्य सभा के सदस्य भी रहे. 1994 में उन्हें दादा साहेब फाल्के सम्मान, 1991 में पद्म भूषण, 2015 में पद्म विभूषण से नवाजा गया. 1998 में पाकिस्तान सरकार ने उन्हें देश के सर्वोच्च नागरिक सम्मान निशान-ए-इम्तियाज़  से सम्मानित किया.


यह भी पढ़ें: ‘मिट्टी पानी और बयार, जिंदा रहने के आधार’- पर्यावरण के लिए क्यों महत्वपूर्ण हैं अगले 10 साल


 

share & View comments