scorecardresearch
Monday, 22 April, 2024
होमBudgetबजट 2023: वित्त मंत्री ने महिलाओं के लिए बचत पत्र, युवाओं के लिए डिजिटल लाइब्रेरी की घोषणा की

बजट 2023: वित्त मंत्री ने महिलाओं के लिए बचत पत्र, युवाओं के लिए डिजिटल लाइब्रेरी की घोषणा की

वित्त मंत्री ने कहा, बजट 2023 की सात प्राथमिकताओं में बुनियादी ढांचा, हरित विकास, वित्तीय क्षेत्र और युवा शक्ति के अलावा समावेशी विकास, अंतिम व्यक्ति तक पहुंच और अपनी क्षमता को विकसित करना हैं.

Text Size:

नई दिल्लीः केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने अमृतकाल के पहले बजट के भाषण में निर्मला सीतारमण ने युवाओं, महिलाओं, और विद्यार्थियों का विशेष ध्यान रखा है.

बजट 2023 के दौरान कई महत्वपूर्ण घोषणाओं में, छात्रों के लिए लाइब्रेरी, युवाओं के लिए कौशल विकास और महिलाओं के लिए बचत पत्र जैसी घोषणाएं की गईं.

आम चुनाव 2024 से पहले नरेंद्र मोदी सरकार 2.0 के अंतिम पूर्ण बजट को पेश करते हुए उन्होंने कहा कि सरकार प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना 4.0 लॉन्च करेगी.

उन्होंने कहा कि युवाओं को अंतरराष्ट्रीय अवसरों के लिए कुशल बनाने के लिए विभिन्न राज्यों में 30 स्किल इंडिया इंटरनेशनल सेंटर खोले जाएंगे.

सीतारमण ने कहा कि तीन साल में 47 लाख युवाओं को सहायता प्रदान करने के लिए, पैन इंडिया राष्ट्रीय शिक्षुता योजना के तहत प्रत्यक्ष लाभ हस्तांतरण शुरू किया जाएगा.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बुधवार को आम बजट 2023-24 की सात प्राथमिकताओं को सूचीबद्ध किया. इसमें बुनियादी ढांचा, हरित विकास, वित्तीय क्षेत्र और युवा शक्ति शामिल हैं. बजट की अन्य प्राथमिकताएं समावेशी विकास, अंतिम व्यक्ति तक पहुंच और अपनी क्षमता को विकसित करना हैं.

हालांकि, मंगलवार को अपने अभिभाषण के दौरान राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मु ने कहा था, “हमें ऐसा भारत बनाना है जिसकी युवाशक्ति और नारीशक्ति, समाज और राष्ट्र को दिशा देने के लिए सबसे आगे खड़ी हो, जिसके युवा समय से दो कदम आगे चलते हों.”


यह भी पढ़ें: ‘1500 से 7 लाख तक का सफर’, वित्तमंत्री की घोषणा के बाद मध्यमवर्ग में खुशी, 7 लाख तक आय पर टैक्स नहीं


युवाओं के लिए लाइब्रेरी

बच्चों और किशोरों के लिए एक राष्ट्रीय डिजिटल पुस्तकालय स्थापित किया जाएगा.

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि भौगोलिक, भाषाओं, शैलियों और स्तरों और उपकरणों की उचित पहुंच में गुणवत्तापूर्ण पुस्तकों की उपलब्धता की सुविधा के लिए बच्चों और किशोरों के लिए एक राष्ट्रीय डिजिटल लाइब्रेरी स्थापित की जाएगी.

उन्होंने कहा कि राज्यों को उनके लिए पंचायत और वार्ड स्तरों पर भौतिक पुस्तकालय स्थापित करने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा और राष्ट्रीय डिजिटल पुस्तकालय संसाधनों तक पहुंचने के लिए बुनियादी ढांचा प्रदान किया जाएगा.

सीतारमण ने कहा कि 2014 से स्थापित मौजूदा 157 मेडिकल कॉलेजों के साथ सहस्थान में 157 नए नर्सिंग कॉलेज खोले जाएंगे.

वहीं, राष्ट्रपति ने कहा था कि बीते आठ से नौ वर्षों में लगभग हर महीने एक मेडिकल कॉलेज का निर्माण किया गया. देश में हर दिन दो कॉलेज की स्थापना हुई और हर सप्ताह एक यूनिवर्सिटी बनी है. 2014 से पहले जहां देश में कुल लगभग 725 विश्वविद्यालय थे, वहीं बीते केवल आठ वर्षों में 300 से अधिक नए विश्वविद्यालय बने हैं. इसी दौरान पांच हज़ार से अधिक कॉलेज भी खोले गए हैं.

वित्त मंत्री ने बुधवार को कहा कि अगले 3 साल में 740 एकलव्य मॉडल आवासीय विद्यालयों में 38,000 शिक्षकों और सहायक कर्मचारियों की भर्ती की जाएगी.

महिला बचत पत्र

बजट भाषण में कहा गया कि महिला सम्मान बचत पत्र योजना शुरू की जाएगी. इन पत्रों की मियाद दो साल के लिए होगी और इनके तहत किसी महिला या बालिका के नाम से दो साल के लिए (2025 तक) दो लाख रुपये जमा करवाए जा सकेंगे. इस पर सरकार द्वारा 7 से 7.75 प्रतिशत ब्याज दिया जाएगा.

राष्ट्रपति ने कहा था, “बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’ अभियान की सफलता आज हम देख रहे हैं. देश में पहली बार पुरुषों की तुलना में महिलाओं की संख्या अधिक हुई है एवं महिलाओं का स्वास्थ्य भी पहले के मुकाबले और बेहतर हुआ है. यह सुनिश्चित किया है कि किसी भी कार्यक्षेत्र में महिलाओं के लिए कोई बंदिश न हो.”

इसके अलावा, केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि मेक एआई इन इंडिया और मेक एआई वर्क फॉर इंडिया के विजन को साकार करने के लिए शीर्ष शैक्षणिक संस्थानों में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के लिए उत्कृष्टता के 3 केंद्र खोले जाएंगे.

वित्त मंत्री ने कहा कि विशेष रूप से जनजातीय समूहों की सामाजिक-आर्थिक स्थिति में सुधार के लिए पीएमपीबीटीजी विकास मिशन शुरू किया जाएगा, ताकि पीबीटीजी बस्तियों को मूलभूत सुविधाएं दी जा सके.

अगले 3 साल में योजना को लागू करने के लिए 15,000 करोड़ उपलब्ध कराए जाएंगे.

संसद में बजट पेश करते हुए वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा था कि वर्तमान वर्ष के लिए हमारी अर्थव्यवस्था की वृद्धि दर 7 प्रतिशत रहने का अनुमान है. भारतीय अर्थव्यवस्था सही रास्ते पर है और उज्ज्वल भविष्य की ओर बढ़ रही है.


यह भी पढ़ेंः Budget 2023 Live: ‘यह अमृत काल का पहला बजट’, कृषि से जुड़े स्टार्ट -अप को दी जाएगी प्राथमिकता


 

share & View comments