Saturday, 21 May, 2022

के जे एम वर्मा

Avatar
28 पोस्ट0 टिप्पणी

मत-विमत

मंदिर या मस्जिद? नए सर्वे की जरूरत नहीं, बस सच्चाई को स्वीकार कर सुलह की ओर बढ़ें

यह तो निर्विवाद तथ्य है कि मंदिर तोड़े गए और मस्जिदें बनाई गईं, अब उस इतिहास को बदला नहीं जा सकता लेकिन सौहार्द पर विचार करने से पहले हम अतीत की गलतियों से इनकार नहीं कर सकते.

वीडियो

राजनीति

देश

पत्नी समेत एनआईए उपाधीक्षक की हत्या के आरोपी मुनीर और उसके सहयोगी को फांसी की सजा

बिजनौर (उप्र) 21 मई (भाषा) बिजनौर की एक अदालत ने शनिवार को राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) के पुलिस उपाधीक्षक और उनकी पत्नी की छह...

लास्ट लाफ

वर्ल्ड हाइपरटेंशन डे पर स्वास्थ्य कैसे बनाए रखें और राहुल ने क्षेत्रीय दलों के पाले में गेंद डाली

दिप्रिंट के संपादकों द्वारा चुने गए पूरे दिन के सबसे अच्छे कार्टून.