Text Size:
  • 523
    Shares

नई दिल्ली: पूर्वी उत्तर प्रदेश में कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी का नया राजनीतिक क़दम चर्चा का विषय बना हुआ है. प्रियंका पश्चिमी उत्तर प्रदेश के महासचिव ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर रावण से मिलने मेरठ पहुंची. चंद्रशेखर की कल पुलिस हिरासत में तबीयत ख़राब हो गई थी जिसके बाद से उनका इलाज चल रहा है. मीडिया से बातचीत में प्रियंका ने कहा कि इस मुलाक़ात को राजीनितक नज़रिए से नहीं देखा जाना चाहिए और चंद्रशेखर को कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ाए जाने के सवाल को उन्होंने सिरे से ख़ारिज कर दिया. लेकिन इससे भी इंकार नहीं किया जा सकता कि चंद्रशेखर के बहाने वो दलित वोटों को साधने की कोशिश कर रही हैं.

प्रियंका ने कहा, ‘चंद्रशेखर युवा हैं और अपनी आवाज़ उठा रहे हैं. वो बस इतना कह रहे हैं कि मेरी आवाज़ सुनिए.’ प्रियंका ने आगे कहा, ‘ये सरकार इतनी अहंकारी है कि इस आवाज़ को कुचलना चाहती है.’ उन्होंने सरकार पर रोज़गार देने में असफल रहने का आरोप लगाते हुए मांग की कि अगर कोई इसके ख़िलाफ़ आवाज़ उठा रहा है तो उठाने दिया जाए. उन्होंने आगे कहा कि उन्हें चंद्रशेखर का राजनीतिक जोश पसंद है और ये भी कि वो अपने लोगों के लिए आवाज़ उठाते हैं.

वहीं, चंद्रशेखर ने अपने ताज़ा बयान में कहा कि वो कल जब उनकी बहुजन सुरक्षा यात्रा लेकर देवबंद से निकल रहे थे तो यूपी की तानाशाह सरकार ने उन्हें रोकने का काम किया है. उन्होंने यात्रा की इजाज़त होने की भी बात कही. उन्होंने इजाज़त रद्द किए जाने को लेकर किसी तरह की जानकारी नहीं दिए जाने की बात कही. चंद्रशेखर ने ये भी कहा कि पुलिस ने महिलाओं से बदतमिज़ी की जिसकी वजह से भिडंत की नौबत आ गई. ‘जय भीम’ के नारे के साथ उन्होंने एलान किया कि भीम आर्मी 15 मार्च को दिल्ली के जंतर-मंतर पर इस रैली को अंजाम देगी.

चंद्रशेखर ने कहा कि जब से उन्होंने पीएम नरेंद्र मोदी को हराने की घोषणा की है तब से भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) डर गई है और उनके ख़िलाफ़ क़दम उठा रही है. आपको बता दें कि बहुजन अधिकार सुरक्षा यात्रा निकालने वाले भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर को पुलिस ने मंगलवार दोपहर गिरफ्तार कर लिया था. पुलिस का कहना था कि वो आचार सहिंता लागू होने के बावजूद रैली निकालने का प्रयास कर रहे थे.

भीम आर्मी संस्थापक चंद्रशेखर और उनके समर्थकों द्वारा सोमवार को सहारनपुर में हुंकार रैली निकाली गई थी. बताया गया कि इस रैली के लिए प्रशासन ने अनुमति नहीं दी थी बावजूद इसके ये रैली निकाली गई. मंगलवार को ये रैली देवबंद से आगे बढ़नी थी. इसी दौरान पुलिस ने कार्रवाई करते हुए भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर को गिरफ्तार कर लिया था.

रैली मंगलवार को देवबंद से शुरू होकर मुजफ्फरनगर पहुंचनी थी, लेकिन पुलिस ने रैली को बीच में ही रुकवा दिया. रैली मुजफ्फरनगर से 13 मार्च को चलकर मेरठ, 14 मार्च को गाजियाबाद और 15 मार्च को दिल्ली के जंतर-मंतर पर पहुंचने की योजना थी. ताज़ा ऐलान के मुताबिक 15 मार्च को दिल्ली के जंतर-मंतर पर इसे अंजाम दिया जाएगा.


  • 523
    Shares
Share Your Views

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here