Wednesday, 29 June, 2022
होमविदेशकोरोना वायरस से संक्रमित होने पर शिशुओं के स्वास्थ्य पर क्या असर पड़ सकता है?

कोरोना वायरस से संक्रमित होने पर शिशुओं के स्वास्थ्य पर क्या असर पड़ सकता है?

Text Size:

(शिदान टोसिफ, ऑनरेरी क्लीनिकल एसोसिएट प्रोफेसर, यूनिवर्सिटी ऑफ मेलबर्न और सारा मैकनैब, ऑनरेरी फेजरे ऑफ पीडियाट्रिक्स, डायरेक्टर ऑफ जनरल मेडिसिन, मर्डोक चिल्ड्रन रिसर्च इंस्टीट्यूट)

विक्टोरिया, 26 मई (द कन्वरसेशन) माता-पिता का इस बात को लेकर चिंतित होना जायज है कि यदि उनका शिशु कोरोना वायरस से संक्रमित हो गया, तो क्या होगा। कमजोर रोग प्रतिरोधी क्षमता और बच्चों के लिए टीकाकरण अभी उपलब्ध नहीं होने के कारण ऐसा माना जा सकता है कि शिशुओं के संक्रमित होने का खतरा अधिक है।

अच्छी बात यह है कि अधिकतर शिशुओं में संक्रमण के मामूली लक्षण ही दिखाई देते हैं। यदि आपका बच्चा संक्रमित पाया जाता है, तो क्या हो सकता है?

यदि आप संक्रमित पाए जाते हैं और आपके घर में कोई नवजात या शिशु है, तो आप कुछ एहतियाती कदम उठा सकते हैं। बच्चे की देखभाल करने से पहले हाथ धोएं और माताएं शिशु को स्तनपान कराते समय या उसके निकट होने पर मास्क पहनें। मौजूदा साक्ष्य बताते हैं कि कोविड-19 स्तनपान से नहीं फैलता है।

इसके अलावा बड़े भाई-बहनों और परिवार के अन्य सदस्यों का टीकाकरण कराके संक्रमण की दर को कम किया जा सकता है। इसमें पर्याप्त सावधानी बरतना और साफ-सफाई अत्यंत महत्वपूर्ण है। घर के बड़े सदस्य संक्रमित होने पर स्वयं ही बच्चों से दूरी बना लें तो ज्यादा बेहतर है।

वैश्विक महामारी के दौरान सभी आयुवर्ग के बच्चों में वयस्कों की तुलना में संक्रमण के लक्षण मामूली पाए गए हैं। हमारे नैदानिक अनुभव और अंतरराष्ट्रीय अनुसंधान के अनुसार भी शिशुओं में कोविड-19 के अधिकतर मामूली लक्षण ही देखने को मिलते हैं।

कोरोना वायरस से संक्रमित होने पर शिशुओं को अस्पताल में भर्ती कराने या आईसीयू में रखने की आवश्यकता आमतौर पर नहीं पड़ती। अध्ययनों के अनुसार, शिशुओं में कोविड-19 होने पर उनमें इन्फ्लूएंजा और आरएसवी जैसी श्वांस की मामूली बीमारियां ही होती हैं और मौत की दर बहुत कम है।

हालांकि शिशुओं के लिए अभी कोई टीका उपलब्ध नहीं है, लेकिन टीकाकरण करा चुकी गर्भवती महिला से बच्चे में भी एंटीबॉडी चली जाती हैं, जिसके कारण उसे सुरक्षा मिल सकती है। करीब 25 प्रतिशत शिशुओं में संक्रमित होने पर बीमारी के लक्षण नजर नहीं आते।

बुखार, नाक बंद होना, दूध पीने में कठिनाई और खांसी सामान्य लक्षण हैं, लेकिन सांस लेने में तकलीफ, सुस्ती और लगातार बुखार गंभीर बीमारी के लक्षण हो सकते हैं।

बुखार या बेचैनी होने पर आप अपने बच्चे को पैरासिटामोल या आइबुप्रोफेन दे सकते हैं। यदि शिशु की आयु तीन महीने से कम है, तो दवा देने से पहले कृपया अपने चिकित्सक से परामर्श जरूर करें।

यदि आपके शिशु को सांस लेने में कठिनाई है, लगातार बुखार से दूध पीने में कठिनाई होने के कारण पानी की कमी हो रही है और सामान्य की तुलना में आधे डायपर इस्तेमाल हो रहे हैं, तो भी आप अपने चिकित्सक से बात करें।

मुझे और क्या जानकारी होनी चाहिए?

खासकर, सर्दियों का मौसम शुरू होने पर इन्फ्लूएंजा जैसे अन्य वायरस से भी शिशुओं की सुरक्षा करना अहम है। छह महीने से अधिक आयु के बच्चे को इन्फ्लूएंजा का टीका लगवाया जा सकता है।

(द कन्वरसेशन) सिम्मी मनीषा

मनीषा

यह खबर ‘भाषा’ न्यूज़ एजेंसी से ‘ऑटो-फीड’ द्वारा ली गई है. इसके कंटेंट के लिए दिप्रिंट जिम्मेदार नहीं है.

share & View comments