scorecardresearch
Monday, 15 July, 2024
होमरिपोर्टशुरुआती रुझानों के मुताबिक भाजपा को गुजरात में स्पष्ठ रूप से बहुमत, हिमाचल में करीबी लड़ाई

शुरुआती रुझानों के मुताबिक भाजपा को गुजरात में स्पष्ठ रूप से बहुमत, हिमाचल में करीबी लड़ाई

चुनाव आयोग के रुझान बताते हैं कि भाजपा गुजरात में 151 सीटों पर आगे चल रही है जबकि कांग्रेस 17 सीटों पर आगे चल रही है. लेकिन ऐसा लगता है कि हिमाचल में भाजपा को हार का सामना करना पड़ सकता है जहां वह 26 सीटों पर आगे चल रही है जबकि कांग्रेस 38 सीटों पर आगे चल रही है.

Text Size:

नई दिल्ली: भारतीय निर्वाचन आयोग के शुरुआती रुझानों से पता चलता है कि भारतीय जनता पार्टी गुजरात की 182 सदस्यीय विधानसभा में 151 सीटों पर आगे चल रही है. पार्टी 2017 के विधानसभा चुनाव में 99 सीटें जीती थी. रुझानों के मुताबिक पार्टी कांग्रेस के 1985 के 149 सीटों के रिकॉर्ड को तोड़ने के करीब पहुंचती दिख रही है.

हिमाचल प्रदेश में सुबह साढ़े ग्यारह बजे तक 68 सदस्यीय विधानसभा में भाजपा 26 सीटों पर आगे चल रही है जबकि कांग्रेस 38 सीटों पर आगे चल रही है. एंटी इनकंबेंसी को कम करने की कोशिश कर रही बीजेपी को 2017 में 44 सीटें मिली थी.

आम आदमी पार्टी गुजरात में सात सीटों पर आगे चल रही है लेकिन पार्टी हिमाचल में बुरी तरह पिट गई है. हालांकि, पार्टी अभी तक गुजरात में एक भी सीट जीती नहीं है लेकिन गुजरात की द्विपक्षीय लड़ाई में पार्टी तीसरी राजनीतिक ताकत के रूप में उभरी है.

आप संयोजक अरविंद केजरीवाल ने गुजरात में भाजपा को मजबूत चुनौती दी थी. पार्टी  ने अपने घोषणापत्र में कई रियायतों और मुफ्त उपहारों का वादा किया था और गुजरात के बदलाव के लिए जनता से वोट मांगे थे.

अगर शुरुआती रुझान जारी रहता है तो परिणाम भाजपा के लिए काफी उत्साहित आएंगे क्योंकि यह चुनाव भाजपा के लिए 2024 लोकसभा चुनाव का मैदान तैयार करेगी. 2023 में भी नौ राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनावों में भाजपा के लिए पिच तैयार करेगी.

अगले साल त्रिपुरा, मेघालय और नागालैंड में फरवरी मार्च में, कर्नाटक में मई में और राजस्थान, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, तेलंगाना और मिजोरम में अगले साल नवंबर-दिसंबर में चुनाव होने की संभावना है.

गुजरात में मोरबी से बेदाग बीजेपी की रिकॉर्ड सातवीं जीत

बीजेपी गुजरात में लगातार सातवीं जीत की ओर बढ़ रही है, दो मुख्यमंत्रियों को पर जुआ खेलने वाली पार्टी फिलहाल 151 सीटों पर  बढ़त बनाए हुए है.  भाजपा ने  2016 में आनंदीबेन पटेल और पिछले साल सितंबर में विजय रूपाणी के रूप में

पच्चीस साल तक सत्ता में रहने के बाद भाजपा के खिलाफ बढ़ती सत्ता विरोधी लहर को मात देने की रणनीति के तहत पिछले साल सितंबर में रूपाणी और उनके पूरे मंत्रिमंडल को पार्टी ने हटा दिया था.

भाजपा के शीर्ष नेतृत्व द्वारा पूरे गुजरात मंत्रिमंडल से इस्तीफा देने के लिए कहे जाने के कुछ दिनों बाद रूपाणी की जगह भूपेंद्र पटेल को मुख्यमंत्री बनाया गया था.

इन चुनावों में, भाजपा ने भी अपने लगभग 30 प्रतिशत विधायकों को उनके खिलाफ सत्ता विरोधी लहर को मात देने के लिए पार्टी के टिकट से वंचित कर दिया.

यहां तक कि मोरबी झूला पुल के गिरने से भी नहीं, जिसके कारण चुनाव प्रचार के बीच में ही 135 लोगों की जान चली गई थी, ऐसा माना जा रहा था कि इससे भाजपा के चुनाव प्रदर्शन पर असर पड़ सकता है.

शुरुआती रुझान भी इस बात का संकेत दे रहे हैं कि पाटीदार, जो 2017 में भाजपा से अलग हो गए थे, दृढ़ता से उनका समर्थन कर रहे हैं.

सरकारी नौकरियों और शिक्षा में आरक्षण के लिए पाटीदार आंदोलन से प्रभावित, गुजरात में भाजपा की संख्या 2017 के विधानसभा चुनाव में दोहरे अंकों में आई थी, जब वह केवल 99 सीटें ही हासिल कर सकी थी, जबकि कांग्रेस 77 के साथ दूसरे स्थान पर रही थी.

इन चुनावों में, बीजेपी कांग्रेस के 1985 के 149 सीटों के रिकॉर्ड को तोड़ने की अपनी उम्मीद को पूरा करने के करीब है, जिसे उसने माधव सिंह सोलंकी के नेतृत्व में जीता था.

हिमाचल में करीबी मुकाबला

हिमाचल में कांटे की टक्कर के बीच कांग्रेस 38 सीटों पर आगे चल रही है. दोपहर 11:30 तक चुनाव आयोग के रुझानों के अनुसार भाजपा 26 सीटों पर आगे चलकर दूसरे स्थान पर है.

चुनाव आयोग के रिकॉर्ड के मुताबिक पिछली बार किसी भी पार्टी को लगातार दो बार जीत 1982 और 1985 में ऐसा हुआ था.

हालांकि भाजपा के लिए हिमाचल चुनाव आसान नहीं था क्योंकि पार्टी को आंतरिक विद्रोह का सामना करना पड़ रहा था. इन विधानसभा चुनाव में मौजूदा और पूर्व विधायकों सहित 21 बागी उम्मीदवार निर्दलीय चुनाव लड़ रहे हैं. अंदरूनी कलह और विद्रोह के कारण पार्टी को अपने कई बागी नेताओं को निलंबित करना पड़ा.

हालांकि जरूरत पड़ने पर समर्थन लेने के लिए पार्टी कुछ संभावित विजेताओं पर कड़ी नजर रख रही है.


यह भी पढ़ें: मोदी-शाह के प्रचार का दिखा असर, गुजरात में भाजपा एकबार फिर बहुमत की ओर


share & View comments