Saturday, 4 December, 2021
होमराजनीतिहम भारत का हिस्सा हैं और रहेंगे, भले ही मुझे गोली मार दी जाए: फारुक अब्दुल्ला

हम भारत का हिस्सा हैं और रहेंगे, भले ही मुझे गोली मार दी जाए: फारुक अब्दुल्ला

सरकारी स्कूल की प्राचार्य सुपिंदर कौर को श्रद्धांजलि देने के लिए यहां एक गुरुद्वारे में आयोजित शोकसभा को संबोधित करते हुए अब्दुल्ला ने कहा कि कश्मीर के लोगों को साहसी बनना पड़ेगा और मिलकर हत्यारों से लड़ना होगा.

Text Size:

श्रीनगर: नेशनल कॉन्फ्रेंस के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला ने बुधवार को यहां कहा कि कश्मीर कभी पाकिस्तान का हिस्सा नहीं बनेगा क्योंकि हम भारत का हिस्सा हैं और रहेंगे, ‘भले ही मुझे गोली मार दी जाए.’

सरकारी स्कूल की प्राचार्य सुपिंदर कौर को श्रद्धांजलि देने के लिए यहां एक गुरुद्वारे में आयोजित शोकसभा को संबोधित करते हुए अब्दुल्ला ने कहा कि कश्मीर के लोगों को साहसी बनना पड़ेगा और मिलकर हत्यारों से लड़ना होगा. कौर की सात अक्टूबर को आतंकवादियों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी.

श्रीनगर से लोकसभा सदस्य अब्दुल्ला ने कहा, ‘हमें इन जानवरों से लड़ना होगा. यह (कश्मीर) कभी पाकिस्तान नहीं बनेगा, याद रखना. हम भारत का हिस्सा हैं और हम भारत का हिस्सा रहेंगे, चाहे जो हो जाए. वे मुझे गोली भी मार दें तो भी इसे नहीं बदल सकते.’

कौर की हत्या पर दुख जताते हुए अब्दुल्ला ने कहा कि 1990 के दशक में जब कई लोग डर की वजह से घाटी छोड़कर चले गये थे तब सिख समुदाय ने कश्मीर को नहीं छोड़ा. उन्होंने कहा कि हमें अपना मनोबल ऊंचा रखना होगा और साहसी बनना पड़ेगा.

उन्होंने कहा, ‘हमें मिलकर साहस के साथ लड़ना होगा. केवल आपका (सिख) समुदाय है जो सबके जाने के बाद भी यहीं रहा. छोटे-छोटे बच्चों को पढ़ाने वाली एक शिक्षक को मारने से इस्लाम की खिदमत नहीं होती.’

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

गुरद्वारे के बाहर संवाददाताओं से बातचीत में अब्दुल्ला ने कहा, ‘वे (आतंकवादी) कभी सफल नहीं होंगे और उनकी साजिश नाकाम हो जाएगी. लेकिन हम सभी को- मुस्लिमों, सिखों, हिंदुओं और ईसाइयों को उनके खिलाफ मिलकर लड़ना होगा.’

उन्होंने कहा कि भारत में ‘नफरत का तूफान’ चल रहा है और मुस्लिम, हिंदू तथा सिख समुदायों को बांटा जा रहा है. नेशनल कॉन्फ्रेंस अध्यक्ष ने कहा, ‘बांटने की इस राजनीति को रोकना होगा, अन्यथा भारत नहीं बचेगा. अगर हमें भारत को बचाना है तो हम सभी को मिलकर रहना होगा और तभी आगे बढ़ सकेंगे.’

देवेंद्र राणा के नेशनल कॉन्फ्रेंस छोड़कर भाजपा में जाने के बारे में पूछने पर अब्दुल्ला ने कहा, ‘लोग आते जाते रहते हैं. यह कोई बड़ी बात नहीं है.’


यह भी पढ़ेंः मोदी की मीटिंग में शामिल होंगे कश्मीर के बड़े नेता, आर्टिकिल 370, 35A पर रहेंगे सख्त


 

share & View comments