scorecardresearch
Sunday, 14 July, 2024
होमराजनीतितमिलनाडु में महिलाओं को मिलेंगे हर महीने 1 हजार रुपये, CM स्टालिन ने शुरू की योजना

तमिलनाडु में महिलाओं को मिलेंगे हर महीने 1 हजार रुपये, CM स्टालिन ने शुरू की योजना

स्टालिन ने योजना की शुरुआत करते हुए कई लाभार्थियों को बैंक के डेबिट कार्ड दिए. वहीं राज्य सरकार के मंत्रियों ने अपने-अपने जिलों में इस कार्यक्रम की शुरुआत की.

Text Size:

कांचीपुरम : तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एम. के. स्टालिन ने द्रविड नेता सी. एन. अन्नादुरै की जयंती पर शुक्रवार को यहां द्रविड़ मुनेत्र कषगम (द्रमुक) सरकार की महिलाओं के लिए एक हजार रुपये की मासिक आर्थिक सहायता योजना की शुरुआत की.

स्टालिन ने योजना की शुरुआत करते हुए कई लाभार्थियों को बैंक के डेबिट कार्ड दिए. वहीं राज्य सरकार के मंत्रियों ने अपने-अपने जिलों में इस कार्यक्रम की शुरुआत की.

स्टालिन ने कहा कि यह गर्व की बात की है कि इस योजना की शुरुआत अन्ना की जयंती और करुणानिधि की जन्मशती (2023-24) के दौरान हुई.

बुनियादी आय वाली इस योजना का नाम दिवंगत मुख्यमंत्री एम. करुणानिधि के नाम पर रखा गया है और राज्य सरकार ने इस सहायता योजना को महिलाओं का ‘अधिकार’ करार दिया.

राज्य सरकार ने इस योजना के लिए 1.06 करोड़ (1,06,50,000) महिलाओं की पहचान की है और एक हजार रुपये की आर्थिक सहायता का भुगतान प्रत्यक्ष लाभ अंतरण के माध्यम से लाभार्थियों को किया गया.

आधिकारिक रूप से इस योजना का नाम ‘कलैगनार मगलिर उरीमाई थित्तम’ है, जिसका मतलब कलैगनार महिलाओं का अधिकार योजना है. द्रमुक के दिवंगत नेता करुणानिधि (1924-2018) को कलैगनार नाम से जाना जाता था, जिसका अर्थ है प्रतिष्ठित कलाकार.

राज्य सरकार ने कुछ महीने पहले इस योजना की घोषणा की थी और कहा था कि अन्नादुरै की जंयती यानी 15 सितम्बर को यह योजना शुरू की जाएगी. वर्ष 2021 के तमिलनाडु विधानसभा चुनाव से पहले द्रमुक घोषणापत्र में भी इसका जिक्र था.

एक हजार रुपये की मासिक सहायता का लाभ पाने के लिए पंजीकरण कराने के वास्ते स्टालिन ने जुलाई में धर्मापुरी में एक केन्द्र का उद्धघाटन किया था.

स्टालिन ने इस योजना को क्रांति करार दिया, जो करोड़ों महिलाओं के जीवन में नया बदलाव लाने में मदद करेगी.

उन्होंने कहा था कि प्रतिवर्ष 12 हजार रुपये महिलाओं के लिए अच्छी सहायता है. इस योजना से उन्हें अपने जीवन स्तर में सुधार करने, आत्म-सम्मान के साथ जीवन जीने और गरीबी उन्मूलन में मदद मिलेगी.

अन्नादुरै की 115वीं जयंती पर स्टालिन ने योजना शुरू करने से पहले उनकी प्रतिमा पर पुष्पांजलि अर्पित की.


यह भी पढ़ें : सिद्धारमैया सरकार का फैसला- कर्नाटक के स्कूलों, कॉलेजों में हर दिन पढ़ी जाएगी संविधान की प्रस्तावना


 

share & View comments