scorecardresearch
Monday, 22 July, 2024
होमराजनीतिपंकजा मुंडे बोलीं कि वो बीजेपी नहीं छोड़ेंगी, 'उन्हें नजरअंदाज क्यों किया जाता है', ये आप पार्टी से पूछिए

पंकजा मुंडे बोलीं कि वो बीजेपी नहीं छोड़ेंगी, ‘उन्हें नजरअंदाज क्यों किया जाता है’, ये आप पार्टी से पूछिए

भाजपा की राष्ट्रीय महासचिव मुंडे ने कांग्रेस में शामिल होने की योजना की अफवाहों के बीच प्रेस कॉन्फ्रेंस की और कहा कि वह 'इस ब्रांड की राजनीति' से दो महीने की छुट्टी लेना चाहती हैं.

Text Size:

मुंबई: किसी दूसरी पार्टी में शामिल होने की चर्चाओं का खंडन करते हुए, भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की राष्ट्रीय सचिव पंकजा मुंडे ने शुक्रवार को कहा कि अगर पार्टी उन्हें अवसर नहीं दे रही है और उनकी अनदेखी की जा रही है तो ये पार्टी को देखना है.

मुंडे ने अपने आवास पर मीडिया से बातचीत में कहा, “हर बार जब किसी की नियुक्ति होती है और मेरा नाम नहीं आता है, तो चर्चा होती है कि मैं असंतुष्ट हूं. यह चर्चा मेरी वजह से नहीं है. इसलिए इस बारे में मुझसे पूछने के बजाय पार्टी को इस बारे में बात करनी चाहिए.’ जब पार्टी को लगेगा कि मैं योग्य हूं, तो वह मुझे मौका देगी,”

शुक्रवार की प्रेस कॉन्फ्रेंस मुंडे के कांग्रेस में शामिल होने की बातचीत की खबरों के बीच की गई थी.

2019 के बाद से, महाराष्ट्र चुनाव में मुंडे के चचेरे भाई और राकांपा नेता धनंजय मुंडे से हारने के बाद, बीड जिले के परली से पूर्व विधायक मुंडे और भाजपा नेतृत्व के बीच, विशेष रूप से राज्य स्तर पर, बढ़ती दरार की चर्चाएं हो रही हैं.
धनंजय ने 2013 में, तब भाजपा छोड़ दी थी जब यह स्पष्ट हो गया था कि उनके चाचा और दिवंगत भाजपा नेता गोपीनाथ मुंडे अपनी राजनीतिक विरासत अपनी बेटियों – प्रीतम और पंकजा को सौंपना चाहते हैं. इसके बाद धनंजय एनसीपी में शामिल हो गए. प्रीतम बीड से बीजेपी सांसद हैं.

रविवार को, जब अजीत पवार के नेतृत्व वाला एनसीपी गुट एकनाथ शिंदे-देवेंद्र फड़नवीस सरकार में शामिल हुआ, तो धनंजय कैबिनेट मंत्री बन गए.

शुक्रवार को, मुंडे ने कहा कि वह “राजनीति के इस ब्रांड” से दो महीने की छुट्टी चाह रही हैं और मीडियाकर्मियों से अनुरोध किया कि वे उस अवधि के लिए उनसे संपर्क न करें.


यह भी पढ़ें: मोदी ‘सरनेम टिप्पणी के मानहानि मामले’ में राहुल गांधी को गुजरात HC से झटका — पुनर्विचार याचिका खारिज


‘मेरी नैतिकता पर क्यों उठ रहे हैं सवाल?’

2019 के बाद से, इस बात पर चर्चा चल रही है कि क्या भाजपा उन्हें राज्य विधानमंडल में एमएलसी के रूप में समायोजित करेगी.

उन्होंने कहा कि पार्टी ने उन्हें दो मौकों पर एमएलसी चुनावों के लिए अपना नामांकन पत्र तैयार रखने के लिए कहा था, लेकिन अंततः उन्हें अनुमति नहीं दी गई.

उन्होंने कहा, ”मैंने पार्टी के हर फैसले का पालन किया है. फिर मेरी नैतिकता पर सवाल क्यों उठाए जा रहे हैं? मेरा स्वभाव ऐसा है कि मैं पारदर्शी हूं और मुझे सीधी बात पसंद है. मैंने राजनीति में हमेशा स्पष्ट रुख अपनाया है,” मुंडे ने कहा, अगर उन्हें कोई कार्रवाई करनी है तो यह ‘डंके की चोट पर’ (इसके बारे में सभी को खुलकर बताना) होगा.

शिवसेना और राकांपा में विभाजन के परोक्ष संदर्भ में मुंडे ने कहा कि जहां महाराष्ट्र में अलग-अलग राजनीतिक प्रयोग देखने को मिल रहे हैं, वहीं उनके जैसे पार्टी कार्यकर्ता यह सुनिश्चित करने के लिए काम कर रहे हैं कि भाजपा की दीनदयाल उपाध्याय और अटल बिहारी वाजपेयी की विचारधारा संरक्षित रहे.

मुंडे ने कहा, इस सप्ताह की शुरुआत में, वह अपने चचेरे भाई धनंजय से भी उनके आवास पर मिलीं, जब वह उनसे मिलने आए और उन्हें कैबिनेट मंत्री नियुक्त होने पर बधाई दी.

शुक्रवार की सुबह, धनंजय ने पंकजा मुंडे की तस्वीरें और एक वीडियो ट्वीट किया, जिसमें वह उन्हें गुलदस्ता भेंट कर रही हैं, उन्हें मिठाई खिला रही हैं और उनके माथे पर टीका लगा रही हैं.

पार्टी द्वारा नजरअंदाज किया गया

भाजपा के भीतर मुंडे की बेचैनी का पहला संकेत 2016 में मिला जब तत्कालीन सीएम देवेंद्र फड़नवीस ने उनसे जल संरक्षण विभाग छीन लिया, जिसके तहत उनकी प्रमुख परियोजना जल युक्त शिवार का गठन किया गया था.

2019 के बाद से, मुंडे ने अक्सर पार्टी से मोहभंग का संकेत देने वाले बयान दिए हैं.

2019 का राज्य चुनाव हारने के बाद मुंडे ने कहा था कि मीडिया उनके भाजपा छोड़ने की चर्चा करता रहता है. उन्होंने फड़णवीस पर परोक्ष रूप से तंज कसते हुए कहा था कि यह “कुछ लोगों द्वारा जानबूझकर” किया जा रहा है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि उन्हें पार्टी में कोई पद न मिले.

मुंडे का पार्टी से कथित मोहभंग अक्सर चर्चा में रहा है, जब भी उन्हें या उनकी बहन को किसी पद के लिए नजरअंदाज किया गया – 2020 और 2022 में एमएलसी चुनावों के दौरान जब उन्हें नामांकन करने नहीं दिया गया, या 2021 में कैबिनेट विस्तार के दौरान, जब भाजपा नेतृत्व ने भागवत कराड को कनिष्ठ मंत्री और प्रीतम के स्थान पर ओबीसी चेहरे के रूप में चुना.

मुंडे बहनें ओबीसी के वंजारी समुदाय से हैं और उनके पिता महाराष्ट्र में इस समुदाय के लिए एक प्रतीक हैं.

(इस ख़बर को अंग्रेज़ी में पढ़नें के लिए यहां क्लिक करें)


यह भी पढ़ें: गुजरात HC के फैसले पर कांग्रेस बोली- राहुल सत्य की राह के निडर यात्री, BJP का पर्दाफाश करते रहेंगे


share & View comments