Wednesday, 8 December, 2021
होम2019 लोकसभा चुनाव24-24 कैबिनेट और राज्य 9 को मिला स्वतंत्र प्रभार, ऐसी है पीएम मोदी की कैबिनेट-2

24-24 कैबिनेट और राज्य 9 को मिला स्वतंत्र प्रभार, ऐसी है पीएम मोदी की कैबिनेट-2

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने राष्ट्रपति भवन में आयोजित समारोह में मोदी को पद व गोपनीयता की शपथ दिलाई. कार्यक्रम में 58 मंत्रियों ने शपथ ली जिसमें नए चेहरे शामिल हुए.

Text Size:

नई दिल्ली: एक भव्य समारोह में नरेंद्र मोदी ने गुरुवार शाम को लगातार दूसरी बार प्रधानमंत्री पद की शपथ ली. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने राष्ट्रपति भवन में आयोजित समारोह में मोदी को पद व गोपनीयता की शपथ दिलाई. कार्यक्रम में 58 मंत्रियों ने शपथ ली जिसमें नए चेहरे शामिल हुए. मोदी मंत्रिमंडल में अनुभव और नई सोच के साथ साथ, क्षेत्रीय और जातीय समीकरणों का ध्यान रखा गया है. बंगाल, ओडीशा, तेलंगाना जैसे राज्यों में भविष्य तलाशती पार्टी ने यहां से जीते सांसदों को मंत्रिमंडल में जगह देकर एक राजनीतिक संदेश भेजा है. सबसे अहम चेहरा पूर्व विदेश सचिव एस जयशंकर के रूप में सामने आया है. जयशंकर को एक विशेषज्ञ कैबिनेट रैंक का मंत्री बनाया गया है. मोदी कैबिनेट की यह सबसे विशेष बात रही.

शपथ लेने वालों में, 24 सांसदों ने कैबिनेट मंत्री के रूप में, 9 ने राज्यमंत्री स्वतंत्र प्रभार, 24 राज्यमंत्री पद और गोपनीयता की शपथ ली. शपथ ग्रहण समारोह में भाजपा के नेताओं के साथ शिवसेना, अकाली दल के नेताओं ने भी शपथ ली. ​जदयू और अपना दल के नेताओं को इस समारोह में शपथ नहीं दिलवाई गई. मंत्रिमंडल में एक पद दिए जाने से नाराज़ जदयू ने कहा कि हम सरकार में शामिल नहीं होंगे,लेकिन एनडीए में शामिल रहेंगे.

एक मंत्री पद मिलने से नाराज़ हुआ जदयू

16 सांसदों वाली जदयू केंद्रीय मंत्रिमंडल में शामिल नहीं हुई. दो दिनों तक दिल्ली में चली जदयू की बैठक के बाद पार्टी ने यह फैसला लिया है. नीतीश कुमार ने बुधवार को भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह से मुलाकात भी की थी. जानकारी के अनुसार जदयू तीन मंत्री पद की मांग रही थी.जबकि भाजपा एक से ज्यादा मंत्री पद देने को तैयार नहीं था. दो मंत्रियों की बात नहीं मानने के चलते जद्यू ने कैबिनेट से अलग होने का निर्णय लिया है. ​बिहार में इस बार भाजपा और जदयू ने 17—17 लोकसभा सीटों पर चुनाव लड़ा था. इसमें भाजपा ने 17 और जयदू ने 16 सीटों पर जीत दर्ज की थी. वहीं लोजपा ने सभी छह सीटों पर जीत हासिल की थी.

शाह ने ली शपथ, सुषमा स्वराज नहीं बनेगी मंत्री

पीएम नरेंद्र मोदी के शपथ के बाद राजनाथ सिंह ने मंत्री पद की शपथ ली. इसके बाद भाजपा के अध्यक्ष अमित शाह ने शपथ ली. शा​ह के मंत्री बनने को लेकर संशय था, जिसे गुजरात प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष जीतू वघानी ने ट्वीट कर खत्म कर दिया. जीतू वघानी ने ट्वीट किया कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व वाले केन्द्रीय मंत्रिमंडल में मजबूत साथी के रूप में शामिल होने पर भाजपा अध्यक्ष अमित शाह को बहुत शुभकामनाएं. मंत्री पद के शपथ लेने के लिए चुने गए नेताओ ने शपथ ग्रहण से पहले शाम को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से उनके आवास पर मुलाकात की.

इस बार सुषमा स्वराज, सुरेश प्रभु, वी.के.सिंह, महेश शर्मा, राधा मोहन सिंह, मेनका गांधी, जयंत सिन्हा और राज्यवर्धन सिंह राठौड़ ने शपथ नहीं ली. हालांकि यह सभी नेता शपथ ग्रहण समारोह में मौजूद थे. जानकारी के अनुसार सुषमा स्वराज ने भी स्वास्थ्य कारणों से मंत्रिमंडल में शामिल नहीं हुई है. शपथ ग्रहण समारोह में अरुण जेटली दिखाई नहीं देंगे. उन्होंने शपथ ग्रहण के एक दिन पहले बुधवार दोपहर को ही पत्र लिखकर अपने स्वास्थ्य का हवाला देते हुए जिम्मेदारी नहीं लेने की इच्छा व्यक्त की थी. जेटली के इस फैसले के बाद पीएम मोदी ने उनके घर जाकर उनसे मुलाकात भी की थी.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

बिम्स्टेक के नेता थे विशेष अतिथि

2014 में जिस तरह से पीएम ने अपने शपथ ग्रहण समारोह में सार्क देशों के नेताओं को आमंत्रित किया था. उसी तर्ज पर पीएम मोदी ने इस शपथ ग्रहण में बिम्स्टेक के नेता भी शामिल हुए है. ​दक्षिण एशिया, दक्षिण पूर्वी देशों को मिलाकर बिमस्टेक की संरचना की गई है. शपथ ग्रहण में श्रीलंका के राष्ट्रपति मैत्रिपाला सिरिसेना, किर्गीस्तान के राष्ट्रपति एस जीनबेकोव, म्यामां के राष्ट्रपति यू विन मिंट, बांग्लादेश के राष्ट्रपति राष्ट्रपति अब्दुल हामिद, नेपाल के प्रधानमंत्री के पी शर्मा ओली, मॉरीशस के प्रधानमंत्री प्रविंद कुमार जगन्नाथ , भूटान के प्रधानमंत्री लोटे शेरिंग और थाईलैंड की ओर से विशेष दूत ग्रिसाडा बूनरैक शामिल हुए है.इसके अलावा कार्यक्रम में कई फिल्मी सितारे और उद्योगपति भी शामिल हुए है.

यह बने है कैबिनेट मंत्री

इसमें राजनाथ सिंह, नितिन गडकरी, सदानंद गौड़ा, निर्मला सीतारमण, राम विलास पासवान,नरेंद्र सिंह तोमर, हरसिमरत कौर बादल, थावरचंद गहलोत, स्मृति ईरानी, हर्षवर्धन, प्रकाश जावड़ेकर, पीयूष गोयल, धर्मेंद्र प्रधान, मुखतार अब्बास नकवी ने कैबिनेट मंत्री पद की शपथ ली. यह सभी नेता पिछली सरकार में भी मंत्री थे.

इस सरकार के कैबिनेट में अमित शाह, एस जयशंकर, रमेश पोखरियाल निशंक, अर्जुन मुंडा, प्रह्लाद जोशी, महेंद्र नाथ पांडेय, अरविंद सावंत, गिरिराज सिंह, गजेंद्र सिंह शेखावत ने भी बतौर कैबिनेट मंत्री पद की शपथ ली.

यह बने राज्यमंत्री स्वतंत्र प्रभार

इसमें संतोष कुमार गंगवार, राव इंद्रजीत सिंह,श्रीपद नायक, डॉ जितेंद्र सिंह, किरण रिजिजू, प्रहलाद पटेल,आर के सिंह, हरदीप सिंह पुरी, मनसुख मांडविया ने राज्यमंत्री स्वतंत्र प्रभार की शपथ ली.

यह बने राज्यमंत्री

इसके अलावा फग्गन सिंह कुलस्ते, अश्विनी कुमार चौबे, अर्जुन राम मेघवाल, जनरल वीके सिंह, कृष्णपाल, रावसाहब दानवे, जी कृष्णा रेड्डी, पुरुषोत्तम रुपाला, रामदास अठावले, साध्वी निरंजन ज्योति, बाबुल सुप्रीयों, संजीव कुमार बालियान, संजय धोत्रे, अनुराग ठाकुर, सुरेश आंगड़ी, नित्यादनंद राय, रतन लाल कटारिया, वी मुरलीधरन, रेणुका सिंह, सोम प्रकाश ,रामेश्वर तेली, प्रतापचंद्र सारंगी, कैलाश चौधरी और देबाश्री चौधरी ने राज्यमंत्री की शपथ ली है.

share & View comments