Friday, 21 January, 2022
होमराजनीतिममता बनर्जी कांग्रेस के बिना गठबंधन बनाने पर विचार कर रही हैं- संजय राउत

ममता बनर्जी कांग्रेस के बिना गठबंधन बनाने पर विचार कर रही हैं- संजय राउत

सामना ने कहा कि कांग्रेस को राष्ट्रीय राजनीति से दूर रखना और इसके बिना यूपीए के समानांतर विपक्षी गठबंधन बनाना सत्तारूढ़  बीजेपी और 'फासीवादी' ताकतों को मजबूत करने के समान है

Text Size:

मुंबई: शिवसेना सांसद संजय राउत ने रविवार को दावा किया कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी कांग्रेस के बिना गठबंधन पर विचार कर रही है.

राउत ने शिवसेना के मुखपत्र सामना में अपने साप्ताहिक कॉलम ‘रोखठोक’ में यह भी दावा किया कि बनर्जी ने कहा है कि उनकी पार्टी तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) महाराष्ट्र में सियासी आजमाइश नहीं करेगी.

जाहिर है कि टीएमसी नेतृत्व ने शनिवार को कहा था कि वह एक वैकल्पिक मोर्चा बनाना जारी रखेगी क्योंकि कांग्रेस भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के खिलाफ ‘लड़ाई का नेतृत्व करने में विफल’ रही है. बनर्जी ने अपनी हालिया मुंबई यात्रा के दौरान कहा था कि ‘अब कोई यूपीए नहीं है.’

शुक्रवार को टीएमसी के मुखपत्र ‘जागो बांग्ला’ में कांग्रेस पर नए सिरे से हमला करते हुए कहा गया था कि वह ‘डीप फ्रीजर’ में चली गई है. हाल में ‘जागो बांग्ला’ में यह भी दावा किया गया था कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ कांग्रेस नेता राहुल गांधी नहीं बल्कि ममता बनर्जी विपक्ष के चेहरे के रूप में उभरी हैं.

महाराष्ट्र में एनसीपी और कांग्रेस के साथ सत्ता साझा करने वाली शिवसेना के सांसद ने रविवार को दावा किया कि ‘ऐसा लगता है कि बनर्जी कांग्रेस को बाहर रखकर कुछ नया करने पर विचार कर रही हैं.’

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

उन्होंने यह भी दावा किया कि कुछ दिन पहले यहां शिवसेना नेता और राज्य मंत्री आदित्य ठाकरे से मुलाकात के दौरान बनर्जी ने कहा था कि ‘हम यहां नहीं आएंगे क्योंकि शिवसेना और एनसीपी मजबूत हैं.’

राज्यसभा सदस्य ने कहा कि टीएमसी पड़ोसी राज्य गोवा में आगामी विधानसभा चुनाव लड़ने जा रही है और त्रिपुरा और मेघालय के उत्तर-पूर्वी राज्यों में भी अपने पैर पसार रही है.

उन्होंने कहा कि अपनी मुंबई यात्रा के दौरान बनर्जी ने आदित्य ठाकरे के साथ दोनों राज्यों के बीच पर्यटन और संस्कृति के आदान-प्रदान पर चर्चा की थी. उन्होंने ठाकरे को आगामी कोलकाता अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव के लिए भी आमंत्रित किया.

सामना ने शनिवार को कहा कि कांग्रेस को राष्ट्रीय राजनीति से दूर रखना और इसके बिना संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (यूपीए) के समानांतर विपक्षी गठबंधन बनाना सत्तारूढ़ बीजेपी और ‘फासीवादी’ ताकतों को मजबूत करने के समान है.


यह भी पढ़ें: डीप फ्रीजर में कांग्रेस, विपक्षी ताकतें चाहती हैं ममता बनर्जी नेतृत्व करें: TMC मुखपत्र जागो बांग्ला


 

share & View comments