scorecardresearch
Wednesday, 17 July, 2024
होमराजनीतिUP में योगी आदित्यनाथ के शासनकाल में हुईं 10 हजार मुठभेड़ें, पुलिस एनकाउंटर में मारे गए 63 क्रिमिनल

UP में योगी आदित्यनाथ के शासनकाल में हुईं 10 हजार मुठभेड़ें, पुलिस एनकाउंटर में मारे गए 63 क्रिमिनल

यूपी पुलिस ने 2017 के बाद से 10713 मुठभेड़ किए, जिनमें से सबसे अधिक 3152 मेरठ पुलिस द्वारा की गईं, इसके बाद आगरा पुलिस ने 1844 मुठभेड़ों को अंजाम दिया

Text Size:

लखनऊ: योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व वाली उत्तर प्रदेश सरकार ने गुरुवार को जानकारी दी कि पिछले छह वर्षों में राज्य में पुलिस और अपराधियों के बीच 10,000 से अधिक मुठभेड़ें हुई हैं, जिसमें 63 अपराधी मारे गए हैं. जबकि एक जांबाज सिपाही भी शहीद हो गया.

एनकाउंटर की संख्या के मामले में, मेरठ 2017 के बाद से सबसे अधिक 3152 मुठभेड़ों के साथ राज्य में शीर्ष पर है, जिसमें 63 अपराधी मारे गए और 1708 अपराधी घायल हुए. इसी दौरान पुलिस मुठभेड़ों के दौरान एक जांबाज पुलिसकर्मी भी शहीद हो गया, जबकि 401 पुलिसकर्मी घायल हो गये. यूपी पुलिस की कार्रवाई के दौरान कुल 5,967 अपराधियों को पकड़ा गया.

बयान में कहा गया,”यूपी पुलिस ने 2017 के बाद से 10713 मुठभेड़ किए, जिनमें से सबसे अधिक 3152 मेरठ पुलिस द्वारा की गईं, इसके बाद आगरा पुलिस ने 1844 मुठभेड़ों को अंजाम दिया, जिसमें 4654 अपराधियों को गिरफ्तार किया गया, जबकि 14 खूंखार अपराधी मारे गए और 55 पुलिस वाले घायल हुए. और बरेली में 1497 मुठभेड़ हुई, जिसमें 3410 अपराधियों को गिरफ्तार किया गया, जबकि 7 की मौत हो गई. बरेली में मुठभेड़ के दौरान 437 अपराधी घायल हुए. इन अभियानों में 296 बहादुर पुलिस कर्मी घायल हुए, जबकि 1 शहीद हो गया.

सरकारी डेटा में आगे कहा गया, “मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जैसे ही राज्य की बागडोर संभाली, राज्य में कानून व्यवस्था की स्थिति में सुधार करना उनकी प्राथमिकता बन गई. उनकी सरकार ने माफिया और अपराधियों के खिलाफ जीरो टॉलरेंस की नीति अपनाई और राज्य के कानून एवं व्यवस्था को मजबूत करने के लिए ऐसे तत्वों पर कार्रवाई तेज कर दी.”

उपलब्ध आंकड़ों के मुताबिक, पिछले छह साल में राज्य में 10 हजार से ज्यादा अपराधियों के एनकाउंटर हुए हैं. यह कहते हुए कि पुलिस की इस कार्रवाई के कारण जो प्रदेश कभी लचर कानून व्यवस्था और मासूमों पर माफियाओं के अत्याचारों के लिए जाना जाता था, वही आज देश ही नहीं विदेशों में भी “अपराध और भयमुक्त राज्य” के रूप में जाना जा रहा है.”

उल्लेखनीय है कि जीआईएस-23 के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह समेत दिग्गज नेताओं और निवेशकों ने यूपी की कानून व्यवस्था की तारीफ की थी. यूपी पुलिस ने अपराध पर अंकुश लगाने और अपराधियों पर नकेल कसने के लिए योजनाबद्ध और चरणबद्ध तरीके से काम किया और मुठभेड़ इसकी सबसे बड़ी रणनीति थी, जिससे अपराधियों में डर पैदा हो गया, जिसके बाद वे राज्य से भागने लगे.


यह भी पढ़ेंः हरियाणा की पहली महिला ड्रोन पायलट बनीं निशा सोलंकी, मगर अब भी अधर में भविष्य


 

share & View comments