Monday, 24 January, 2022
होमदेशविराट कोहली ने टेस्ट क्रिकेट की कप्तानी छोड़ी, बोले- टीम के लिए हमेशा ईमानदार रहा

विराट कोहली ने टेस्ट क्रिकेट की कप्तानी छोड़ी, बोले- टीम के लिए हमेशा ईमानदार रहा

कोहली के टेस्ट कप्तानी छोड़ने का फैसला भारत के दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ शुक्रवार को तीन मैचों की टेस्ट सीरीज हारने के एक दिन बाद आया है.

Text Size:

नई दिल्ली: पिछले साल टी-20 क्रिकेट की कप्तानी छोड़ने के बाद विराट कोहली ने अब टेस्ट क्रिकेट की कप्तानी से भी सन्यास ले लिया है. शनिवार कोहली ने ट्वीट कर यह जानकारी दी है.

कोहली के दक्षिण अफ्रीका के दौरे से पहले टी-20 कप्तानी छोड़ने के बाद ह्वाइट बॉल फॉर्मेट में एक ही कप्तान रखने को लेकर उन्हें ओडीआई (वन डे इंटरनेशनल) क्रिकेट से हटा दिया गया था.

कोहली ने ट्वीट किया है, ‘टीम को सही दिशा में ले जाने के लिए हर रोज 7 साल की कड़ी मेहनत और अथक लगन से जुटा रहा. मैंने पूरी ईमानदारी से काम किया है और कुछ भी नहीं छोड़ा है. हर चीज को किसी न किसी स्तर पर रुकना पड़ता है और मेरे लिए भारत के टेस्ट कप्तान के रूप में, यह समय अभी है.

यात्रा में कई उतार-चढ़ाव भी आए हैं, लेकिन प्रयास की कमी या विश्वास की कमी कभी नहीं रही.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

कोहली ने कहा, ‘मैं हमेशा अपने हर काम को अपना 120 प्रतिशत देने में विश्वास करता हूं, और अगर मैं ऐसा नहीं कर सकता, तो मुझे मालूम है कि यह करना सही नहीं है. मेरा दिल एकदम साफ रहा है और मैं अपनी टीम के प्रति बेईमान नहीं हो सकता.’

उन्होंने आगे कहा, ‘मैं बीसीसीआई को इतने लंबे समय तक अपने देश का नेतृत्व करने का मौका देने के लिए धन्यवाद देना चाहता हूं और इससे भी महत्वपूर्ण बात यह है कि टीम के सभी साथियों ने मुझे पहले दिन से ही टीम के लिए अहम माना और किसी भी स्थिति में कभी हार नहीं मानी. आप लोगों ने इस यात्रा को काफी यादगार और सुंदर बना दिया है. रवि भाई और उस सपोर्ट ग्रुप के लिए जो इस वाहन के पीछे इंजन की तरह थे जिन्होंने हमें लगातार टेस्ट क्रिकेट में ऊपर की ओर ले गए, आप सभी ने इस दृष्टि को जीवन में लाने में एक बड़ी भूमिका निभाई है. अंत में एमएस धोनी को बहुत-बहुत धन्यवाद, जिन्होंने मुझ पर एक कप्तान के रूप में विश्वास किया और मुझे भारतीय क्रिकेट को आगे ले जा सकने में एक सक्षम शख्स के तौर पर पाया.’

कोहली के टेस्ट कप्तानी छोड़ने का फैसला भारत के दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ शुक्रवार को तीन मैचों की टेस्ट सीरीज हारने के एक दिन बाद आया है.

सबसे लंबे प्रारूप में विराट कोहली की सबसे बड़ी जीत 2018-19 के दौरान हुई जब भारत ने अपनी पहली टेस्ट श्रृंखला डाउन अंडर जीती थी. उनकी कप्तानी में भारत वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप (WTC) के फाइनल में भी पहुंचा.

यह ध्यान देने की जरूरत है कि कोहली ने नवंबर 2019 के बाद से अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में शतक नहीं बनाया है. उन्होंने आखिरी बार ईडन गार्डन्स में दिन-रात के टेस्ट मैच में बांग्लादेश के खिलाफ शतक बनाया था.

share & View comments