scorecardresearch
Thursday, 18 July, 2024
होमदेशVHP, बजरंग दल ने हरियाणा हिंसा के खिलाफ देशव्यापी विरोध प्रदर्शन की घोषणा की, बोले- ये सब बर्दाश्त नहीं

VHP, बजरंग दल ने हरियाणा हिंसा के खिलाफ देशव्यापी विरोध प्रदर्शन की घोषणा की, बोले- ये सब बर्दाश्त नहीं

सोमवार को नूंह में एक धार्मिक जुलूस के दौरान भड़की हिंसा में कम से कम पांच लोगों की मौत हो गई, जो बाद में गुरुग्राम सहित आसपास के इलाकों में फैल गई.

Text Size:

नई दिल्ली: विश्व हिंदू परिषद (वीएचपी) और उसकी युवा शाखा बजरंग दल ने बुधवार को हरियाणा में हुई हिंसा के जवाब में देशव्यापी विरोध प्रदर्शन करने की योजना बनाई है. यह घोषणा तब हुई जब नूंह जिले में एक धार्मिक जुलूस के दौरान हिंसा भड़की जिससे सांप्रदायिक तनाव गुरुग्राम सहित आसपास के क्षेत्रों में फैल गया.

मंगलवार को दिल्ली में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में VHP के अंतरराष्ट्रीय संयुक्त महासचिव सुरेंद्र जैन ने हिंसा में मारे गए लोगों के लिए 1 करोड़ रुपये और घायलों के लिए 20 लाख रुपये के मुआवजे की मांग की.

नूंह में सोमवार शाम वीएचपी समर्थित धार्मिक जुलूस के दौरान भड़के सांप्रदायिक तनाव में दो होम गार्ड समेत कम से कम पांच लोग मारे गए. ‘ब्रज मंडल यात्रा’ वीएचपी और एक अन्य हिंदू संगठन, मातृ शक्ति दुर्गा वाहिनी द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित की गई थी, जो पथराव और आगजनी के साथ समाप्त हुई, जिसमें पुलिसकर्मियों सहित कई लोग घायल हो गए.

नूंह हयाना के मेवात क्षेत्र में एक मुस्लिम बहुल जिला है.

हिंसा के सिलसिले में अब तक सत्तर लोगों को गिरफ्तार किया गया है. जैसे ही राज्य के अन्य हिस्सों जैसे कि गुरुग्राम में तनाव फैल गया, जहां एक मस्जिद में आग लगा दी गई और एक इमाम की हत्या कर दी गई, मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर, जिन्होंने शांति की अपील की है, ने स्थिति का जायजा लेने के लिए एक तत्काल बैठक बुलाई.

मंगलवार की प्रेस कॉन्फ्रेंस में वीएचपी के सुरेंद्र जैन ने कांग्रेस विधायक मम्मन खान और आफताब अहमद पर मुसलमानों को भड़काने का आरोप लगाया. खान फिरोजपुर झिरका से विधायक हैं, जबकि अहमद हरियाणा विधानसभा में नूंह का प्रतिनिधित्व करते हैं.

उन्होंने आरोप लगाया, ”ये धर्मनिरपेक्ष और मुस्लिम नेता मुस्लिम आबादी को लगातार यह महसूस कराते रहते हैं कि वे खतरे में हैं, उनका सफाया हो जाएगा.” “इसके लिए ओवैसी (ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी) जैसे लोग भी जिम्मेदार हैं जो कहते हैं कि मुसलमानों को उकसाया गया था. अगर उन्हें उकसाया गया तो क्या वे किसी की भी हत्या कर सकते हैं?”


यह भी पढ़ें: हरियाणा के सरकारी कार्यालयों में कार रजिस्ट्रेशन, कागजी कार्रवाई रुका- वेतन बढ़ाने के लिए क्लर्क हड़ताल पर


‘बर्दाश्त नहीं किया जाएगा’

जैन के अनुसार, नूंह के कुछ मंदिरों में तनाव शुरू हुआ. हर साल, श्रावण के दौरान भक्त इन मंदिरों में इकट्ठा होते थे – हिंदू कैलेंडर में यह समय जुलाई और अगस्त के महीनों में आता है.

उन्होंने दावा किया, “सोमवार को लगभग 20,000-25,000 लोग (मंदिरों में) पहुंचे. यात्रा को 15 मिनट भी नहीं बीते थे कि उपद्रवियों ने पथराव और आगजनी शुरू कर दी. उन पर पेट्रोल बम फेंके गए और बड़ी मुश्किल से हम कुछ लोगों को बचाने और उन्हें नल्हड़ महादेव मंदिर (नूंह में) वापस लाने में सफल रहे.”

उन्होंने दावा किया कि जल्द ही, भीड़ मंदिर के बाहर भी जमा हो गई, वाहनों में आग लगा दी और गोलियां चलाईं, उन्होंने बताया कि गोलीबारी में दो लोग घायल हो गए.

जैन ने आगे कहा, “पुलिस को देखकर बदमाश (पास की) पहाड़ियों की ओर भाग गए और महिलाओं, बच्चों और मंदिर में शरण लेने वाले अन्य भक्तों पर गोलियां चलानी शुरू कर दीं.” उन्होंने कहा कि कम से कम चार VHP कार्यकर्ता अभी भी लापता हैं.

उन्होंने पूछा, “चाहे राम नवमी हो, महावीर जयंती हो या कांवर यात्रा, हिंदुओं पर हमले हो रहे हैं. आपने कितनी बार सुना है कि मुहर्रम के जुलूस पर हिंदुओं ने हमला किया था?” उन्होंने कहा, “आप वहां (नूंह में) बहुमत में हो सकते हैं, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि आप मेवात को हिंदुओं का कब्रिस्तान बना देंगे. इसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा.”

उन्होंने कहा कि राज्य सरकार को हिंसा में हुए नुकसान का मुआवजा देना चाहिए.

जैन ने कहा, “जो लोग घायल हुए हैं उन्हें 20 लाख रुपये दिए जाने चाहिए और जिनके वाहन और बसें नष्ट हो गई हैं उन्हें पूरा मुआवजा दिया जाना चाहिए.”

(इस ख़बर को अंग्रेज़ी में पढ़नें के लिए यहां क्लिक करें)

(संपादन: अलमिना खातून)


यह भी पढ़ें: कोई लिखित आदेश नहीं लेकिन यूपी पुलिस ने संभल में कांवड़ यात्रा के चलते बंद कर दिए मुस्लिम रेस्टोरेंट


 

share & View comments