Friday, 27 May, 2022
होमदेशअबू धाबी में संदिग्ध ड्रोन हमले में दो भारतीयों समेत तीन लोगों की मौत, छह घायल

अबू धाबी में संदिग्ध ड्रोन हमले में दो भारतीयों समेत तीन लोगों की मौत, छह घायल

पिछले कुछ सप्ताह में हूती विद्रोही दबाव में आ गए हैं और भारी नुकसान उठा रहे हैं जहां यूएई समर्थित यमन के बलों ने देश के प्रमुख दक्षिणी और मध्य प्रांतों में विद्रोही समूहों को खदेड़ दिया है.

Text Size:

दुबई: अबू धाबी में एक प्रमुख पेट्रोलियम केंद्र को निशाना साधकर यमन के हूती विद्रोहियों द्वारा किए गए संदिग्ध ड्रोन हमले में सोमवार को तीन लोगों की मौत हो गई और अबू धाबी के अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर आग लगने की घटना भी सामने आई.

संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) की पुलिस ने मृतकों की पहचान दो भारतीय नागरिकों और एक पाकिस्तानी के तौर पर की है. घायलों की पहचान नहीं हुई है, जिन्हें पुलिस के अनुसार मामूली चोट आई हैं.

औद्योगिक क्षेत्र में यह हादसा हुआ जहां अबू धाबी की सरकारी स्वामित्व वाली तेल कंपनी का भंडारण केंद्र और पाइपलाइन नेटवर्क है.

पुलिस ने कहा कि जांच चल रही है और प्रारंभिक जांच में छोटी-छोटी उड़ने वाली वस्तुओं के दोनों इलाकों में गिरने का पता चला है, जो संभवत: ड्रोन से संबंधित हो सकती हैं. इनसे विस्फोट और आग की घटना को अंजाम दिया गया हो सकता है. उन्होंने कहा कि इन घटनाओं में कोई बड़ा नुकसान नहीं हुआ है. पुलिस ने इससे ज्यादा जानकारी नहीं दी.

इस बीच यमन के हूती विद्रोहियों ने दावा किया कि सोमवार को यूएई में हमले के पीछे उनका हाथ है. उन्होंने विस्तार से कुछ नहीं बताया.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

यूएई 2015 की शुरुआत से ही यमन में संघर्ष कर रहा है. यमन में अंतरराष्ट्रीय समर्थन प्राप्त सरकार को सत्ता से बेदखल किए जाने के बाद ईरान समर्थित हूतियों के खिलाफ हमला छेड़ने वाले सऊदी नीत गठबंधन में यूएई अहम सदस्य था.

हाल में यूएई के झंडा लगे एक जहाज को हूतियों ने कब्जे में ले लिया था. वैसे तो यूएई ने यमन में अपने सैनिकों की संख्या कम कर दी है लेकिन वह संघर्ष में सक्रियता से शामिल है और हूतियों से लड़ रहे प्रमुख मिलीशिया का समर्थन करता है. वह यमन में आतंकवाद निरोधक अभियानों में अमेरिका के साथ भी सहयोग कर रहा है.

पिछले कुछ सप्ताह में हूती विद्रोही दबाव में आ गए हैं और भारी नुकसान उठा रहे हैं जहां यूएई समर्थित यमन के बलों ने देश के प्रमुख दक्षिणी और मध्य प्रांतों में विद्रोही समूहों को खदेड़ दिया है.

यह घटना ऐसे समय में घटी है जब दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जेइ-इन यूएई के दौरे पर हैं. संयुक्त अरब अमीरात के प्रधानमंत्री और दुबई के शासक शेख मोहम्मद बिन राशिद अल मकतूम के साथ मून की मुलाकात के दौरान दोनों पक्षों ने यूएई को सतह से हवा में प्रहार करने वाली मध्यम दूरी की दक्षिण कोरियाई मिसाइलों की बिक्री के लिए करीब 3.5 अरब डॉलर का समझौता किया.


यह भी पढ़ें: सऊदी अरब में एयरपोर्ट पर हुए ड्रोन हमले में 8 लोग घायल, यात्री विमान को भी पहुंचा नुकसान


share & View comments