scorecardresearch
Thursday, 13 June, 2024
होमदेशहल्द्वानी में रेलवे की ज़मीन से अतिक्रमण हटाने वाली याचिका पर सुप्रीम कोर्ट करेगा मई में सुनवाई

हल्द्वानी में रेलवे की ज़मीन से अतिक्रमण हटाने वाली याचिका पर सुप्रीम कोर्ट करेगा मई में सुनवाई

मंगलवार को सुनवाई के दौरान पीठ से अनुरोध किया गया कि शीर्ष अदालत द्वारा पिछले महीने बताए गए समाधान के लिए अधिकारियों को आठ सप्ताह का समय दिया जाए.

Text Size:

नई दिल्लीः सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को कहा कि वह हल्द्वानी में रेलवे की 29 एकड़ ज़मीन से अतिक्रमण हटाने के उत्तराखंड हाईकोर्ट के आदेश को चुनौती देने वाली याचिकाओं पर ह मई में सुनवाई करेगा.

इन याचिकाओं पर पिछले महीने हुई सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने हाईकोर्ट के आदेश पर रोक लगा दी थी.

यह मामला न्यायमूर्ति संजय किशन कौल और न्यायमूर्ति मनोज मिश्रा की पीठ के समक्ष आज सुनवाई के लिए आया, जिसने इसे दो मई को सुनवाई के लिए सूचीबद्ध किया.

शीर्ष अदालत ने हल्द्वानी में रेलवे द्वारा दावा की गई 29 एकड़ भूमि से अतिक्रमण हटाने के हाईकोर्ट के आदेश पर पांच जनवरी को रोक लगा दी थी और इसे ‘मानवीय मुद्दा’ करार दिया था. अदालत ने कहा था कि 50,000 लोगों को रातों-रात नहीं हटाया जा सकता है.

मंगलवार की सुनवाई के दौरान पीठ से अनुरोध किया गया कि शीर्ष अदालत द्वारा पिछले महीने बताए गए समाधान के लिए अधिकारियों को आठ सप्ताह का समय दिया जाए.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

रेलवे के अनुसार, भूमि पर 4,365 अतिक्रमणकारी हैं, जबकि कब्ज़ेदार यह दावा करते हुए हल्द्वानी में विरोध प्रदर्शन कर रहे थे कि वे भूमि के असली मालिक हैं.

शीर्ष अदालत ने रेलवे और उत्तराखंड सरकार को नोटिस भी जारी किए थे, जिसमें अतिक्रमण हटाने के उच्च न्यायालय के आदेश को चुनौती देने वाली याचिकाओं पर उनकी प्रतिक्रिया मांगी गई थी.

याचिकाकर्ताओं ने दावा किया है कि उनके पास ऐसे दस्तावेज हैं जो स्पष्ट रूप से उनके भू-स्वामित्व और वैध कब्जे को स्थापित करते हैं.

यह खबर ‘भाषा’ न्यूज़ एजेंसी से ‘ऑटो-फीड’ द्वारा ली गई है. इसके कंटेंट के लिए दिप्रिंट जिम्मेदार नहीं है.


यह भी पढ़ेंः सरकार के डेट-टू-इक्विटी कदम से वोडाफोन आइडिया को राहत, लेकिन मुश्किलें अभी कम नहीं हुईं


 

share & View comments