Monday, 24 January, 2022
होमदेशModi ने CMs के साथ की ऑनलाइन बैठक- कहा, हमें कोरोना से लड़ाई के साथ आर्थिक वृद्धि जारी रखनी होगी

Modi ने CMs के साथ की ऑनलाइन बैठक- कहा, हमें कोरोना से लड़ाई के साथ आर्थिक वृद्धि जारी रखनी होगी

पीएम मोदी ने कहा, 'ओमीक्रॉन के बारे में शुरुआती संदेह धीरे-धीरे साफ हो रहा है; यह स्वरूप सामान्य आबादी को पिछले स्वरूपों की तुलना में कई गुना तेजी से संक्रमित कर रहा है.'

Text Size:

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को देश में कोविड-19 के हालात को लेकर मुख्यमंत्रियों के साथ ऑनलाइन बातचीत की. नरेंद्र मोदी हम, भारत के 130 करोड़ लोग, अपने सामूहिक प्रयासों से कोरोनावायरस महामारी से निश्चित रूप से विजयी हो कर उभरेंगे.

पीएम मोदी ने कहा, ‘ओमीक्रॉन के बारे में शुरुआती संदेह धीरे-धीरे साफ हो रहा है; यह स्वरूप सामान्य आबादी को पिछले स्वरूपों की तुलना में कई गुना तेजी से संक्रमित कर रहा है.’

पीएम ने कहा कि ‘100 वर्ष की सबसे बड़ी महामारी से भारत की लड़ाई अब तीसरे वर्ष में प्रवेश कर चुकी है. परिश्रम हमारा एकमात्र पथ है और विजय एकमात्र विकल्प है. हम 130 करोड़ भारत के लोग अपने प्रयासों से कोरोना से जीतकर अवश्य निकलेंगे.

उन्होंने कहा कि अमेरिका जैसे देश में एक दिन में करीब 14 लाख नए मामले सामने आए. हमारे वैज्ञानिक और स्वास्थ्य विशेषज्ञ सभी स्थितियों पर नजर बनाए हुए हैं. हमें सतर्क रहना चाहिए, लेकिन हमें इस बात का भी पूरा ध्यान रखना चाहिए कि कहीं दहशत की स्थिति न बने.

भारत ने अपनी जरूरी आबादी के 92% से अधिक लोगों को पहली खुराक दी है. लगभग 70% पात्र लोगों को उनकी दूसरी खुराक भी मिल गई है. भारत पहले ही लगभग 15-18 वर्ष के 3 करोड़ बच्चों का टीकाकरण कर चुका है.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

पहले केंद्र और राज्य सरकारों ने जिस तरह pre-emptive, pro-active और collective approach अपनाई है, वही इस समय भी जीत का मंत्र है. कोरोना संक्रमण को हम जितना सीमित रख पाएंगे, परेशानी उतनी ही कम होंगी.

जितनी जल्दी हम फ्रंटलाइन वालों को और वरिष्ठ नागरिकों को एहतियाती खुराक देंगे, हमारी स्वास्थ्य सेवा प्रणाली उतनी ही सुरक्षित होगी. हमें ‘हर घर दस्तक’ कार्यक्रम की गति और बढ़ाने की जरूरत है.

हमें यह सुनिश्चित करना चाहिए कि वित्तीय गतिविधियां प्रभावित न हों और हमें अपनी वृद्धि जारी रखनी चाहिए. इसे सुनिश्चित करने के लिए हमें लोकल कंटेनमेंट पर ध्यान देना चाहिए. हमें उन इलाकों में टेस्टिंग बढ़ानी होगी जहां से ज्यादा मामले सामने आ रहे हैं.

share & View comments