scorecardresearch
Friday, 1 March, 2024
होमदेशमौसम विभाग ने तमिलनाडु के लिए ऑरेंज अलर्ट जारी किया, 2-3 दिसंबर के आसपास चक्रवाती तूफान आने की संभावना

मौसम विभाग ने तमिलनाडु के लिए ऑरेंज अलर्ट जारी किया, 2-3 दिसंबर के आसपास चक्रवाती तूफान आने की संभावना

राज्य पिछले चार-पांच दिनों से मूसलाधार बारिश से जूझ रहा है, जिससे 2015 में आई बाढ़ की यादें ताजा हो गई हैं.

Text Size:

चेन्नई: भारत मौसम विज्ञान विभाग ने गुरुवार को तमिलनाडु के लिए ऑरेंज अलर्ट जारी किया और चेतावनी दी कि तिरुवल्लूर, चेन्नई, चेंगलपट्टू, कांचीपुरम, तिरुवन्नामलाई, रानीपेट, वेल्लोर, मयिलादुथुराई, नागपट्टिनम जैसे जगहों पर मध्यम बारिश के साथ तूफान और बिजली गिरने की संभावना है. साथ ही राज्य के तंजावुर, तिरुवरुर, पुदुकोट्टई, अरियालुर, पेरम्बलुर, शिवगंगई और रामनाथपुरम, पुडुचेरी और कराईकल क्षेत्र में भी इसका प्रभाव रहेगा.

मौसम पूर्वानुमानों के अनुसार, राज्य के तटीय क्षेत्रों को अधिक बारिश से जूझने के लिए तैयार रहना होगा. निम्न दबाव की स्थिति जो बंगाल की खाड़ी के दक्षिण-पूर्व पर बन रही है, जिससे आसपास के इलाके में 2-3 दिसंबर के समय एक चक्रवाती तूफान की संभावना है.

‘ऑरेंज अलर्ट’ तब जारी किया जाता है जब छह से 20 सेमी के बीच ‘भारी वर्षा’ का पूर्वानुमान होता है.

तमिलनाडु पिछले चार-पांच दिनों से लगातार मूसलाधार बारिश से जूझ रहा है और बुधवार को स्थिति और गंभीर हो गई. मौसम विभाग के सूत्रों के मुताबिक, शुक्रवार सुबह चेन्नई में बारिश कम हुई, लेकिन स्थिति अभी भी खराब है.

राजधानी चेन्नई में पिछले दिनों हुई बारिश के दौरान कई इलाके जलमग्न हो गए हैं. कई उड़ानें रद्द कर दी गई हैं और लोगों को नावों से बचाया जा रहा है, जिससे 2015 में राज्य में आई बाढ़ की यादें ताजा हो गईं.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

शहर में बुधवार और गुरुवार को बारिश के कारण बिजली गिरने से तीन लोगों की मौत की खबर है.

कई घरों में बारिश का पानी घुसने के बाद चेन्नई के उत्तर-पश्चिमी क्षेत्र के पड़ोस, सेनगुंद्रम, रेड हिल्स के निचले इलाकों के निवासियों को कथित तौर पर अग्निशामकों और राज्य आपदा राहत बल (एसडीआरएफ) के कर्मियों द्वारा फाइबर बोट में निकाला गया था.

ग्रेटर चेन्नई कॉरपोरेशन (जीसीसी) के वरिष्ठ अधिकारियों ने दिप्रिंट को बताया कि निगम के अधिकारी जलभराव की समस्या के समाधान के लिए चौबीसों घंटे काम कर रहे हैं.

जीसीसी आयुक्त जे राधाकृष्णन ने गुरुवार को चेन्नई में मीडिया को बताया, “थोड़े से समय में हमारे यहां अभूतपूर्व बारिश हुई है. सीएम स्थिति पर नजर बनाए हुए हैं. हमने शहर के कुछ हिस्सों में 15 आईएएस अधिकारियों को तैनात किया है. पानी तेजी से घट रहा है. 16,000 कर्मचारी, 491 मोटरें और अतिरिक्त 150 ट्रैक्टर-जनित मोटरें बारिश के पानी की निकासी सुनिश्चित करने के लिए तैनात किए गए हैं.”

राधाकृष्णन ने कहा कि बाढ़ जैसी स्थिति उत्पन्न होने पर कार्रवाई करने के लिए राज्य मशीनरी सभी उपकरणों के साथ तैयार है.

मुख्यमंत्री एम.के. स्टालिन ने गुरुवार को जीसीसी कार्यालय, रिपन बिल्डिंग में बारिश की स्थिति से निपटने की तैयारी का निरीक्षण किया और कमांड सेंटर का भी दौरा किया, जो शहर और पड़ोसी उपनगरों में स्थिति की निगरानी के लिए स्थापित किया गया है.

स्वास्थ्य मंत्री मा सुब्रमण्यम सहित कई वरिष्ठ मंत्री और हिंदू धार्मिक एवं धर्मार्थ बंदोबस्ती मंत्री पी.के. शेखर बाबू और चेन्नई की मेयर प्रिया राजन ने जमीनी स्थिति का निरीक्षण किया.

उड़ानें रद्द, परीक्षाएं स्थगित, स्कूल बंद

चेन्नई में बुधवार सुबह 8.30 बजे से शाम 7 बजे के बीच औसतन 7.5 सेमी बारिश हुई.

सूत्रों के मुताबिक, मीनांबक्कम, जहां हवाईअड्डा स्थित है, में भारी बारिश के कारण गुरुवार दोपहर तक चेन्नई हवाईअड्डे पर चार उड़ानें रद्द कर दी गईं और 15 उड़ानों में देरी हुई. सीएम के निर्वाचन क्षेत्र, कोलाथुर (चेन्नई में) में सबसे अधिक 16 सेमी बारिश हुई.

चेन्नई, कांचीपुरम, तिरुवल्लुर, रानीपेट और चेंगलपट्टू में स्कूल गुरुवार को बंद रहे, जबकि मद्रास विश्वविद्यालय ने उस दिन होने वाली सेमेस्टर परीक्षाएं रद्द कर दीं. परीक्षाओं की नई तारीखें अभी घोषित नहीं की गई हैं.

(संपादन : ऋषभ राज)

(इस ख़बर को अंग्रेज़ी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें)


यह भी पढ़ें: कैसे BJP, VHP और RSS अयोध्या में रामलला की प्राण प्रतिष्ठा के लिए देशभर से लोगों को जुटा रहे


 

share & View comments